कर्पूरी जयंती के बहाने अति पिछड़ा वोट बैंक पर JDU की नजर, भीम संसद से अधिक भीड़ जुटाने की तैयारी

author img

By ETV Bharat Bihar Team

Published : Jan 10, 2024, 8:06 PM IST

Etv Bharat

karpoori thakur jayanti बिहार में कर्पूरी ठाकुर को अति पिछड़ों का सबसे बड़ा नेता माना जाता रहा है. उनकी जयंती और पुण्यतिथि के बहाने सभी दल इस वर्ग के वोट बैंक को साधने की कोशिश करते हैं. कर्पूरी ठाकुर की 100 वीं जयंती 24 जनवरी को है. इसी साल लोकसभा चुनाव भी होने हैं. ऐसे में इस कार्यक्रम का और भी महत्व बढ़ जाता है. पढ़ें, विस्तार से.

कर्पूरी जयंती मनाने की तैयारी.

पटना : जदयू की ओर से पटना के वेटनरी कॉलेज मैदान पर 24 जनवरी को कर्पूरी जयंती मनाने की तैयारी जोर-शोर से चल रही है. जननायक कर्पूरी ठाकुर की 100 वीं जयंती होगी और इसी साल लोकसभा चुनाव होने हैं. इसलिए, इसे ऐतिहासिक बनाने की तैयारी है. पटना के वेटेनरी कॉलेज मैदान पर ही जदयू ने भीम संसद कार्यक्रम किया था. जदयू प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा का कहना है कि भीम संसद में 2 लाख लोगों की भीड़ उमड़ी थी, इस बार 2 लाख से अधिक भीड़ जुटेगी.

लोकसभा चुनाव से पहले जदयू का बड़ा कार्यक्रमः नीतीश कुमार लगातार कहते रहे हैं कि कर्पूरी ठाकुर के रास्ते पर चलते हैं. नीतीश सरकार ने जातीय गणना की रिपोर्ट के बाद आरक्षण की सीमा बढ़ायी है और उसमें अब अति पिछड़ा को 18% से बढ़कर 25% आरक्षण दिया जा रहा है. बिहार में सबसे अधिक आबादी अति पिछड़ों की है. इसलिए, इस आबादी को नीतीश कुमार साधने में लगे हैं. इसलिए कर्पूरी जयंती को बड़ा माध्यम बनाया जा रहा है. लोकसभा चुनाव से पहले जदयू की तरफ से यह बड़ा कार्यक्रम है.

Etv Gfx
Etv Gfx
जोर शोर से चल रही है तैयारी: जदयू की तरफ से पिछले 1 साल से कर्पूरी चर्चा के नाम से पूरे बिहार में कार्यक्रम किया जा रहा है. वेटनरी कॉलेज मैदान पर जननायक की जयंती के मौके पर पार्टी की ओर से भव्य कार्यक्रम किया जाएगा. उसके लिए तैयारी जोर-जोर से चल रही है. पार्टी कार्यालय में लगातार बैठक हो रही है. पोस्टर भी लगने लगा है. अति पिछड़ा वर्ग से आने वाले विधायक, मंत्री और संगठन के बड़े नेताओं को विशेष जिम्मेवारी दी गई है. ऐसे पार्टी के सभी सलाहकार, विधायक, सांसद और प्रभारी को विशेष रूप से निर्देश दिया गया है उनके साथ लगातार बैठक भी हो रही है.

बड़ी संख्या में भीड़ जुटने की उम्मीदः जदयू के प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा का कहना है 24 जनवरी को होने वाले कर्पूरी ठाकुर की 100वीं जयंती समारोह में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और पार्टी के सभी वरिष्ठ नेता मौजूद रहेंगे. भीम संसद कार्यक्रम में 2 लाख लोग आए थे तो उससे बड़ी लकीर कर्पूरी जयंती समारोह पर आयोजित होने वाले कार्यक्रम में खींची जाएगी. जदयू मंत्री श्रवण कुमार का कहना है कि नीतीश कुमार लोकसभा चुनाव से पहले पूरे देश में घूमेंगे. 21 जनवरी को झारखंड के रामगढ़ से शुरुआत करेंगे. मंत्री श्रवण कुमार का कहना है पटना में 24 जनवरी को बड़ा कार्यक्रम होने जा रहा है.

कर्पूरी जयंती की तैयारी.
कर्पूरी जयंती की तैयारी.


"अति पिछड़ा वोट बैंक के माध्यम से ही नीतीश कुमार बिहार में अपनी मजबूत स्थिति बनाए हुए हैं. बिहार में जातीय गणना की रिपोर्ट में अति पिछड़ों की आबादी 36% बताया गया है. अति पिछड़ा का आरक्षण 18% से बढ़ाकर 25% कर दिया गया है. अब जब नीतीश सरकार ने आरक्षण की सीमा बढ़ाई है तो उसको भुनाने की भी कोशिश कर्पूरी जयंती के माध्यम से करेंगे."- प्रिय रंजन भारती, राजनीतिक विश्लेषक


पहले रद्द कर दिया गया था: बता दें कि 24 जनवरी को पटना के वेटनरी कॉलेज मैदान पर होने वाला जननायक कर्पूरी जयंती समारोह पहले पार्टी की ओर से यह कह कर रद्द कर दिया गया की ठंड अधिक होगी. जो लोग आएंगे उनकी परेशानी बढ़ेगी, इसलिए जिले में ही कार्यक्रम होगा. लेकिन नीतीश कुमार राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद फिर से इस कार्यक्रम को आयोजित करने का फैसला लिया गया. उसके बाद पार्टी ने इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए पूरी ताकत लगा दी है. खासकर अति पिछड़ा प्रकोष्ठ और इस वर्ग से आने वाले नेता भीम संसद से बड़ा कार्यक्रम कर अपनी मजबूत स्थिति पार्टी में बनाना चाहते हैं.

इसे भी पढ़ेंः पटना में कर्पूरी ठाकुर की जयंती पर JDU का कार्यक्रम रद्द, उमेश कुशवाहा ने बताई वजह

इसे भी पढ़ेंः कर्पूरी ठाकुर का सच्चा वारिस घोषित करने की होड़, बीजेपी और राजद ने एक दूसरे को बताया पिछड़ा विरोधी

इसे भी पढ़ेंः Politics of Karpoori Thakur: बिहार की राजनीति में जननायक कर्पूरी ठाकुर जरूरी, विरासत लूटने की पार्टियों के बीच होड़

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.