झाबुआ के कार सेवक ने बताए पुराने किस्से, कार सेवकों को दिया गया था 5 किलो सत्तू और चना

author img

By ETV Bharat Madhya Pradesh Desk

Published : Jan 10, 2024, 6:03 PM IST

Ayodhya Ram Mandir

Ayodhya Ram Mandir: इन दिनों देश में बस अयोध्या राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा की चर्चा सभी की जुंबा पर है. इसी क्रम में झाबुआ के कार सेवक नारायण सिंह ठाकुर ने अपने कुछ संस्मरण साझा किए.

झाबुआ। इन दिनों अयोध्या के राम मंदिर की चर्चा पूरे देश में जोर-शोर से हो रही है. 22 जनवरी को प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के बाद रामलला भव्य मंदिर में विराजमान होंगे. मंदिर के उ‌द्घाटन का समय ज्यों-ज्यों नजदीक आ रहा है. इसके इतिहास और आंदोलन को उतना ही याद किया जा रहा है. ऐसे में राम जन्मभूमि आंदोलन में कार सेवक के रूप में सक्रिय भूमिका निभाने वाले झाबुआ के नारायणसिंह ठाकुर ने कार सेवा के दौरान के अपने संस्मरण साझा किए. उन्होंने बताया हम लोग जब इंदौर से अयोध्या के लिए रवाना हो रहे थे, तो हमें 5 किलो सत्तू और चने दिए गए थे. ताकि आपात स्थिति में इन्हें खाकर हम अपना कार्य पूर्ण करके ही लौटें.

सर्वस्व न्यौछावर करने की शपथ लेकर निकले थे

1990 में जिस वक्त राम जन्मभूमि आंदोलन अपने चरम पर था. उस वक्त झाबुआ के नारायण सिंह ठाकुर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ में गट नायक हुआ करते थे. उन्होंने बताया झाबुआ में 26 कार सेवकों का जत्था तैयार हुआ था. वाहिनी प्रमुख स्वर्गीय उद्धव गिदवानी थे. सभी को गोपाल मंदिर में आरएसएस के तत्कालीन विभाग प्रचारक श्रीराम अरावकर, जिला प्रचारक शशिकांत फड़के और तहसील रीसील प्रचारक मंगेश पालनकर ने राम जन्म भूमि के लिए अपना तन, मन, धन और सर्वस्व न्यौछावर करने की शपथ दिलाई थी. इसके बाद अगले दिन तड़के 4 बजे पूरा जत्था इंदौर के लिए रवाना हो गया था.

गलियां फूलों से लद गई, मिठाईवाले ने मुफ्त में बांटी मिठाई

नारायण सिंह ठाकुर ने बताया जिस दिन हम लोग इंदौर पहुंचे, उस दिन राजवाड़ा क्षेत्र में भव्य रैली निकाली गई थी. इस दौरान सारी गलियां फूलों से पट गई. नारायण सिंह याद करते हुए बताते हैं, इंदौर के राजवाड़ा के पीछे गली में एक मिठाई की दुकान थी. दुकानदार ने पूरी दुकान कार सेवकों के लिए खोल दी थी. इतना जबरदस्त उत्साह था. जब इंदौर से रवाना हो रहे थे, तो सभी कार सेवकों को 5 किलो सत्तू और चने दिए गए थे, ताकि आपात स्थिति में जब भोजन नहीं मिले तो इससे अपनी भूख मिटा सके. इंदौर से सभी कार सेवक पहले कटनी पहुंचे, फिर सड़क मार्ग से सतना गए. जहां सरस्वती शिशु मंदिर में भोजन की व्यवस्था की गई थी.

चित्रकूट में गिरफ्तार कर लिया, उमा भारती के साथ जेल में रहे

नारायण सिंह ठाकुर ने बताया उत्तर प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने श्री राम जन्मभूमि आंदोलन के दौरान गिरफ्तारी कराई थी. उन्हें और उनके कुछ साथियों को चित्रकूट में गिरफ्तार किया गया और यहां से बांदा ले जाया गया. जिस अस्थाई जेल में उन्हें रखा गया था. वहीं राम जन्म भूमि आंदोलन की अगुआ रही एमपी की तत्कालीन मुख्यमंत्री उमा भारती को भी रखा गया था. नारायण सिंह ठाकुर के साथ झाबुआ के कार सेवक स्वर्गीय शिव कुमार पंवार, स्वर्गीय नायडू, कोकावद के अनिल चौहान आदि भी जेल में बंद रहे. तीन दिन तक अस्थाई जेल में रखने के बाद उन्हें सतना छोड़ा गया.

सतना से फिर चल पड़े अयोध्या

नारायण सिंह ठाकुर ने बताया हम लोग सतना से एक बार फिर अयोध्या के लिए निकल पड़े. पहले इलाहबाद पहुंचे. यहां एक आश्रम में भोजन किया. फिर बस से मानिकपुर आए. अयोध्या जाने वाले हर रास्ते बंद थे, तो फिर हम लोगों ने जंगल के रास्ते से आगे बढ़ने का निर्णय लिया. पैदल-पैदल सुल्तनापुर पहुंचे. इसी दौरान सूचना मिली कि सभी कार सेवकों को वापस घर लौटने के लिए कहा गया है. ऐसे में वे लोग वापस आ गए.

यहां पढ़ें...

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.