केंचुए ने बदली हर्षुल शर्मा की तकदीर, ऑर्गेनिक खाद यूनिट से लाखों की कमाई, 20 लोगों को दिया रोजगार

author img

By ETV Bharat Himachal Pradesh Desk

Published : Jan 8, 2024, 9:59 PM IST

Etv Bharat

मंडी के हर्षुल शर्मा ने केंजुए की मदद से अपनी तकदीर बदली है. दरअसल लॉकडाउन के दौरान हर्षुल ने अपने गांव में ऑर्गेनिक खाद की यूनिट लगाने की सोची. इसके लिए उन्होंने 9 लाख का केंचुआ खरीदा और लीज पर जमीन लेकर सुकेत ऑर्गेनिक नाम की वर्मी कम्पोस्ट यूनिट लगाया. जहां आज उन्होंने प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से 20 लोगों को रोजगार दिया है.

केंचुए ने बदली हर्षुल शर्मा की तकदीर

मंडी: कुल्लू जिला के निरमंड गांव का 27 वर्षीय हर्षुल शर्मा सफल उद्यमी बनने की राह पर चल पड़ा है. हर्षुल ने मंडी जिला के सुंदरनगर के साथ लगती बैहली गांव में इस साल सुकेत ऑर्गेनिक के नाम से वर्मी कम्पोस्ट यूनिट लगाया है. हर्षुल ने इस यूनिट पर अभी तक 30 लाख का खर्च किया है, जिसमें से 9 लाख रुपए सिर्फ केंचुए खरीदने पर ही खर्च किए हैं. अब हर्षुल का कारोबार चल पड़ा है और उससे लाखों की कमाई हो रही है. वहीं, उन्होंने 15 से 20 लोगों को रोजगार भी दिया है.

vermi compost
केंचुए ने बदली हर्षुल शर्मा की तकदीर

हर्षुल ने किसी भी सरकारी योजना का कोई लाभ नहीं लिया है, बल्कि परिवार से मिल रहे सहयोग के दम पर ही इस यूनिट का संचालन कर रहा है. हर्षुल ने बीटेक मैकेनिकल की पढ़ाई की है. इनके अपने सेब के बगीचे हैं और वहां पर भी ये ऑर्गेनिक खाद का ही इस्तेमाल करते हैं. लॉकडाउन के दौरान हर्षुल ने सोचा कि क्यों न ऑर्गेनिक खाद बनाने का कारोबार शुरू किया जाए. इसके लिए गोबर की जरूरत थी, जो बहुतायत में सुंदरनगर में उपलब्ध था. यहां पर हर्षुल ने 12 बीघा जमीन को लीज पर लेकर इस यूनिट को शुरू कर दिया.

vermi compost
हर्षुल शर्मा ने अपने गांव में लगाई वर्मी कम्पोस्ट यूनिट

हर्षुल ने हर साल 15 से 20 हजार बोरी वर्मी कम्पोस्ट यानी केंचुआ खाद या फिर साधारण शब्दों में कहें तो ऑर्गेनिक खाद को बनाकर बाजार में उतारने का लक्ष्य रखा है. अभी तक हर्षुल 8 हजार बोरियां बाजार में बिक्री के लिए भेज चुका है. हर्षुल ने बताया कि लोगों का इस खाद की तरफ रूझान काफी बढ़ रहा है. जो सेब उत्पादक हैं, वे इसी खाद को प्रयोग करने पर ज्यादा ध्यान दे रहे हैं. इसलिए इस यूनिट को लगाने की सोची और अभी तक सार्थक परिणाम सामने आए हैं.

vermi compost
केंचुए की मदद से ऑर्गेनिक खाद की जा रही तैयार

हर्षुल को वर्मी कम्पोस्ट बनाने के लिए गोबर की जरूरत रहती है और इस जरूरत को वह क्षेत्र के गौ सदनों और पशुपालकों से पूरा कर रहे हैं. जहां पर यूनिट लगाया गया है, वहां पर भी उन्होंने 8 से 10 लोगों को रोजगार दिया है. जबकि अप्रत्यक्ष रूप से 20 लोग इनके साथ जुड़े हुए हैं. इस यूनिट के सुपरवाइजर के रूप में कार्य कर रहे अभिषेक डोगरा ने बताया कि क्षेत्र में इस यूनिट के लगने से लोगों को घर द्वार पर रोजगार उपलब्ध हुआ है.

vermi compost
ऑर्गेनिक खाद यूनिट से लाखों की कमाई

हर्षुल शर्मा ने जिस नए आइडिए के साथ काम करना शुरू किया है, उसमें भविष्य में सफलता अभी से नजर आ रही है. बहुत से किसान-बागवान हैं, जो केमिकल खाद से मुंह मोड़ कर प्राकृतिक खाद की तरफ बढ़ रहे हैं. वैसे भी सरकारें अब खेतों में समाप्त होते पोषक तत्वों को ध्यान में रखते हुए प्राकृतिक खेती को अधिक तरजीह दे रही हैं.

vermi compost
वर्मी कम्पोस्ट यूनिट में 20 लोगों को मिला रोजगार

ये भी पढ़ें: IT कंपनी की जॉब छोड़ सोलन में मनदीप कर रहे बागवानी, कीवी की खेती से लिखी सफलता की कहानी

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.