आईआईटी दिल्ली ने पानी की गुणवत्ता की निगरानी के लिए विकसित किया सेंसर

author img

By ETV Bharat Delhi Team

Published : Dec 11, 2023, 10:22 PM IST

Etv Bharat

IIT Delhi develops sensor to monitor water quality: IIT दिल्ली ने बड़ी कामयाबी हासिल की है. बायोकेमिकल इंजीनियरिंग और बायोटेक्नोलॉजी विभाग ने एक ऐसा सेंसर विकसित किया है, जो बाह्य कोशिकीय प्रवाह को लगातार मापकर पानी की गुणवत्ता की वास्तविक समय में निगरानी करेगा.

नई दिल्लीः आईआईटी दिल्ली के बायोकेमिकल इंजीनियरिंग और बायोटेक्नोलॉजी विभाग के इलेक्ट्रो माइक्रोबायोलॉजी समूह ने मिलकर बिजली पैदा करने वाले सूक्ष्मजीवों का उपयोग करके वास्तविक समय में पानी की गुणवत्ता की निगरानी के लिए एक सेंसर विकसित किया है. जो "इलेक्ट्रोएक्टिव सूक्ष्मजीव" के नाम से जाना जाता है. ये सूक्ष्मजीव विद्युत प्रवाह उत्पन्न करते हैं और बिजली उत्पादन व शोध में इसका प्रयोग किया जाता है. लेकिन इनका उपयोग बायोसेंसिंग के लिए भी किया जा सकता है.

विकसित किया गया बायोइलेक्ट्रोकेमिकल सेंसर "कमजोर इलेक्ट्रीजेंस" का उपयोग करता है, जो इलेक्ट्रो एक्टिव रोगाणुओं की एक श्रेणी है और निम्न स्तर की बिजली पैदा करने के लिए जाने जाते हैं. जब कमजोर विद्युतकर्मी किसी प्रदूषक का सामना करते हैं तो उनका वर्तमान उत्पादन कम हो जाता है. उनके बाह्य कोशिकीय प्रवाह को लगातार मापकर पानी की गुणवत्ता की वास्तविक समय में निगरानी की सुविधा प्रदान करता है. ऐसी तकनीक पारंपरिक निगरानी विधियों के साथ मिलकर एक प्रारंभिक चेतावनी प्रणाली के रूप में कार्य कर सकती है. जो महंगी हो सकती है या 24x7 ऑपरेशन के लिए उपयुक्त नहीं हो सकती है.

यह भी पढ़ेंः मेट्रो की तरह DTC बस की टिकट भी व्हॉट्सऐप पर कर सकते हैं बुक, जल्द मिलेगी सुविधा

सेंसर का दीर्घकालिक निगरानी के लिए बार-बार इस्तेमाल किया जा सकता है. अक्सर जल प्रदूषण के संपर्क में आने वाले क्षेत्रों के लिए यह महत्वपूर्ण है. इससे निगरानी कर जल प्रदूषण को कम किया जा सकता है. भविष्य में ऐसी तकनीक उभरते प्रदूषकों का पता लगाने के लिए भी बेहद उपयोगी साबित हो सकती हैं, जो आमतौर पर नियमित परीक्षणों में शामिल नहीं होते हैं.

ऐसा प्रतीत होता है कि कई प्राकृतिक वातावरण कमजोर इलेक्ट्रीजन की मेजबानी करते हैं, जिससे भविष्य में ऑन-साइट सेंसर के साथ-साथ मौजूदा निगरानी स्टेशनों में आसानी से शामिल होने की संभावना बढ़ती है. निष्कर्षों की जल गुणवत्ता निगरानी को व्यापक रूप से अपनाने के लिए प्रासंगिकता है. जो 2030 तक पर्याप्त पानी और स्वच्छता के संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्य को पूरा करने के लिए आवश्यक होगी.

यह भी पढ़ेंः दिल्ली हाई कोर्ट ने निमिषा प्रिया की मां को ब्लड मनी का हलफनामा दाखिल करने का दिया निर्देश

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.