प्रदेश में पश्चिमी विक्षोभ के कारण बढ़ेगी ठंड, रहिये तैयार

author img

By

Published : Dec 2, 2020, 9:19 PM IST

cold will increase in uttarakhand

उत्तराखंडवासी सर्दी का सितम सहने के लिए तैयार हो जाएं. मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक दिसंबर माह में पश्चिमी विक्षोभ प्रदेश में काफी सक्रिय होने जा रहा है. जिसका असर आगामी 4 दिसंबर से ही दिखने भी लगेगा.

देहरादून: साल के अंतिम महीने दिसंबर की शुरुआत हो चुकी है. ऐसे में मौसम विज्ञान केंद्र देहरादून के पूर्वानुमान के तहत दिसंबर माह में प्रदेश में पश्चिमी विक्षोभ का असर काफी बढ़ने जा रहा है, जिसकी वजह से प्रदेश के पहाड़ी और मैदानी इलाकों में सर्दी और अधिक बढ़ जाएगी.

बता दें, नवंबर माह के दूसरे सप्ताह से ही प्रदेश के तापमान में अच्छी खासी गिरावट दर्ज की गई है. वर्तमान में प्रदेश के मैदानी जनपदों में न्यूनतम तापमान 8 डिग्री सेल्सियस तक लुढ़क चुका है. वहीं, पहाड़ी इलाकों में भी तापमान लुढ़क कर 5 से 6 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है. इसके साथ ही 3000 मीटर से ज्यादा ऊंचाई वाले पहाड़ी इलाकों में हल्की बर्फबारी का दौर भी शुरू हो चुका है, जिसमें उत्तरकाशी, चमोली रुद्रप्रयाग, पिथौरागढ़ और बागेश्वर जनपद के कुछ ऊंचाई वाले इलाके शामिल हैं.

प्रदेशवासी कड़ाके की ठंड का सामना करने के लिए हो जाएं तैयार.

पढ़ें- पहली बार 24 घंटे में कमर्शियल और घरेलू गैस के दामों में वृद्धि, जानें जिलेवार रेट

मौसम विज्ञान केंद्र देहरादून के निदेशक विक्रम सिंह के मुताबिक, दिसंबर माह में पश्चिमी विक्षोभ प्रदेश में काफी सक्रिय होने जा रहा है. जिसका असर आगामी 4 दिसंबर से ही दिखने भी लगेगा. मौसम निदेशक के मुताबिक आगामी 4 दिसंबर को प्रदेश से पश्चिमी विक्षोभ गुजरने जा रहा है, जिसकी वजह से प्रदेश के ऊंचाई वाले जनपदों विशेषकर उत्तरकाशी, चमोली और पिथौरागढ़ के ऊंचाई वाले इलाकों में हल्की बारिश और बर्फबारी हो सकती है. वहीं, आगामी 10 दिसंबर के आसपास भी एक बार फिर पश्चिमी विक्षोभ का असर देखने को मिलेगा. हालांकि, इस दौरान प्रदेश के मैदानी इलाकों में आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे. वहीं, दूसरी तरफ प्रदेश के ऊंचाई वाले पहाड़ी इलाकों में हल्की बारिश और बर्फबारी होने की वजह से मैदानी इलाकों के तापमान में भी गिरावट देखने को मिलेगी.

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.