जबलपुर के साइंस कॉलेज के हॉस्टल में पथराव के बाद छात्र दहशत में, परीक्षाएं रद्द, क्या है विवाद की जड़

author img

By ETV Bharat Madhya Pradesh Desk

Published : Jan 16, 2024, 5:25 PM IST

Jabalpur Science College panic after stone pelting

Jabalpur Science College hungama : जबलपुर के साइंस कॉलेज में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने छात्रवास पर जमकर पत्थरबाजी की. इससे छात्रों में दहशत फैल गई. आखिरकार कॉलेज प्रशासन को परीक्षाएं रद्द करनी पड़ी.

जबलपुर के साइंस कॉलेज के हॉस्टल में पथराव

जबलपुर। जबलपुर का साइंस कॉलेज जबलपुर ही नहीं, पूरे महाकौशल का एक नामी कॉलेज है. इस कॉलेज में जबलपुर के अलावा महाकौशल के अलग-अलग इलाकों से छात्र जाकर पढ़ते हैं. कॉलेज में हॉस्टल भी है. कॉलेज की अच्छी पढ़ाई की वजह से इसे ऑटोनोमस का दर्जा भी मिला हुआ है, लेकिन इन दिनों यह कॉलेज राजनीति का अखाड़ा बना हुआ है. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नेताओं ने साइंस कॉलेज के हॉस्टल में जमकर गुंडागर्दी की और पथराव किया.

मामूली विवाद से बढ़ा तनाव : साइंस कॉलेज के प्रिंसिपल एमएल महोबिया ने बताया कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद और हॉस्टल में रह रहे छात्रों के बीच में विवाद की जड़ कैंटीन में हुआ एक छोटा सा झगड़ा है. इसके बाद अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने साइंस कॉलेज हॉस्टल में पथराव किया. इस पछराव का एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता मोटरसाइकिलों से हॉस्टल पहुंचे. इसके बाद हॉस्टल पर उन्होंने जमकर पथराव किया. पथराव के बाद यहां पर तीन थाने की पुलिस पहुंची लेकिन तब तक उपद्रवी भाग चुके थे.

विरोध में छात्रों का प्रदर्शन : पथराव के विरोध में छात्र संगठन के नेता अभिषेक के साथ सैकड़ों छात्रों ने साइंस कॉलेज में प्रदर्शन किया. इन लोगों की मांग है कि जिन छात्रों ने साइंस कॉलेज के माहौल को बिगाड़ा है, उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई होनी चाहिए. छात्रों का कहना है कि जो लोग उपद्रव करने आए थे, वह कॉलेज के छात्र नहीं हैं, बल्कि वे बाहरी गुंडे हैं. बता दें कि जबलपुर का साइंस कॉलेज मध्य प्रदेश की राजनीति की पाठशाला रही है. मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री प्रहलाद पटेल, पीडब्ल्यूडी मंत्री राकेश सिंह, वर्तमान में मध्य प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष वीडी शर्मा ने इसी कॉलेज से राजनीति शुरू की थी.

दोषियों पर कार्रवाई की मांग : राज्य की मोहन यादव सरकार ने छात्र संघ चुनाव कराने की घोषणा की थी. इसलिए साइंस कॉलेज में इस ढंग के प्रदर्शन और उपद्रव बढ़ाने की आशंकाएं बढ़ गई हैं. सोमवार को हुए उपद्रव की वजह से कॉलेज को परीक्षाएं रद्द करवानी पड़ी हैं. हॉस्टल की खिड़कियां दरवाजे टूट गए हैं. प्राचार्य का कहना है कि उन्होंने प्रशासन को पूरी जानकारी दे दी है. दोषियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए प्रशासन को पत्र लिखा है. हालांकि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करना फिलहाल मुमकिन नहीं है.

ये खबरें भी पढ़ें..

एबीवीपी ने आरोपों पर दिया जवाब : जबलपुर के साइंस कॉलेज में हुए हंगामा के मामले में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के प्रदेश मंत्री माखन शर्मा का कहना है कि हॉस्टल में कई ऐसे छात्र रह रहे हैं, जिनका कोर्स पूरा हो चुका है. उन्होंने ही सबसे पहले कैंटीन में नए छात्रों के साथ विवाद किया था. हमारे छात्रों की ओर से पथराव नहीं किया गया बल्कि हॉस्टल की ओर से पथराव शुरू किया गया. विद्यार्थी परिषद के नेताओं का कहना है कि हॉस्टल की जांच होनी चाहिए और जो छात्र गैरकानूनी तरीके से हॉस्टल में रह रहे हैं, उन्हें निकाला जाना चाहिए.

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.