राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा का आमंत्रण ठुकरा कर कांग्रेस कर रही है राजनीति: जफर इस्लाम

author img

By ETV Bharat Jharkhand Desk

Published : Jan 13, 2024, 5:14 PM IST

Ram Mandir Pran Pratistha program in Ayodhya

Ram Mandir Pran Pratistha program in Ayodhya. अयोध्या में राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम का आमंत्रण ठुकराने को लेकर बीजेपी कांग्रेस और अन्य पार्टियों पर हमलवार है. बीजेपी नेता जफर इस्लाम ने कहा कि कांग्रेस को जिस वर्ग का समर्थन मिलता रहा है वो इससे नाराज हो जाएंगे ये डर लग रहा है.

बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता जफर इस्लाम का बयान

रांची: भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस पर राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम पर राजनीति करने का आरोप लगाया है. झारखंड दौरै पर आए बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता जफर इस्लाम ने कहा है कि जिस तरह से सोनिया गांधी और कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने आमंत्रण को ठुकराने का काम किया है उससे प्रमाणित हो गया है कि कांग्रेस और अन्य विपक्षी दल इसको लेकर राजनीति कर रहे हैं और उनको लग रहा है कि जिस वर्ग का उन्हें समर्थन मिलता रहा है वो इससे नाराज हो जायेंगे. मगर सच्चाई यह है कि मुस्लिम समाज यह चाहता था कि वहां भगवान श्रीराम का मंदिर बने इसको लेकर लोगों की आस्था जुड़ी हुई है.

उन्होंने कहा कि यह सिर्फ हिन्दू धर्म में आस्था रखने वाले के लिए खास बात नहीं है बल्कि अन्य धर्मावलंबी भी चाहते हैं कि वहां भगवान श्रीराम का मंदिर बने. उन्होंने इकबाल अंसारी का उदाहरण देते हुए कहा कि इसमें देश विदेश से आने वाले अन्य धर्मों के लोग भी शामिल हो रहे हैं.

कांग्रेस का दिखाने का दांत अलग और खाने का दांत अलग: कांग्रेस एवं अन्य विपक्षी नेताओं पर हमला बोलते हुए जफर इस्लाम ने कहा कि जिस तरह से निमंत्रण को ठुकराया जा रहा है उससे साफ लगता है कि कांग्रेस एवं अन्य विपक्षी नेताओं का दिखाने का दांत अलग और खाने का दांत अलग है. आस्था और धर्म के नाम पर राजनीति हो यह उचित नहीं है. कांग्रेस एवं अन्य नेता मुस्लिम समाज का वोट लेने के लिए जिस तरह से राजनीति कर रहे हैं वह उचित नहीं है.

उन्होंने कहा कि हकीकत यह है कि मुस्लिम समाज चाहता है कि हिंदू समाज के लोग या भगवान राम के प्रति आस्था रखने वाले लोग वहां जाएं और पूजा पाठ करें उसमें उनकी कोई आपत्ति नहीं है. मेरा मानना है कि आने वाले समय में जिस तरह से इसको लेकर राजनीति हो रही है. वही समुदाय उन्हें सबक सिखाने का काम करेंगे. शंकराचार्य के द्वारा आमंत्रण ठुकराए जाने पर जफर इस्लाम ने कहा कि वे किसी धर्मगुरु पर टिप्पणी करने की हैसियत नहीं रखते.

ये भी पढ़ें-

अयोध्या 1990-92 की कहानी: लल्लू तिवारी ने फहराया था पहला झंडा, 3 साल अज्ञातवास और 17 साल के मुकदमें का सफर

जमशेदपुर में कुम्हार बना रहे राम नाम का दीया, लोगों में बढ़ी डिमांड

अक्षत वितरण के लिए निकले जुलूस को रोकने पर विवाद, स्थिति सामान्य करने में जुटी पुलिस

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.