किन्नौर में सड़क निर्माण कंपनी की लापरवाही, होजो नाले में मलबा फेंकने से उठाऊ जल सिंचाई योजना क्षतिग्रस्त

author img

By ETV Bharat Himachal Pradesh Desk

Published : Dec 26, 2023, 2:19 PM IST

Etv Bharat

Kinnaur Water Irrigation Scheme Pipeline Damaged: किन्नौर में सड़क निर्माण कंपनी की लापरवाही का खामियाजा पूह पंचायत के अंतर्गत निर्माणाधीन होजो नाला उठाऊ सिंचाई जल योजना को भुगतना पड़ रहा है. आरोप है कि सड़क निर्माण के दौरान कंपनी ने पहाड़ियों से निकले बड़े-बड़े बोल्डर और मलबा नीचे नाला में डंप किया. जिसकी वजह से सिंचाई जल योजना की पाइट लाइन न सिर्फ क्षतिग्रस्त हुई, बल्कि पानी का स्रोत भी मलबे के अंदर दब गया.

किन्नौर: हिमाचल के किन्नौर जिला के पूह ग्राम पंचायत के लिए होजो नाला उठाऊ जल सिंचाई योजना, जो करीब 9 करोड़ की लागत से बन रहा था, उस पर अचानक पानी फिर गया. क्योंकि यहां सड़क निर्माण में लगी कंस्ट्रक्शन कंपनी की लापरवाही के चलते होजो नाला उठाऊ जल सिंचाई योजना क्षतिग्रस्त हो गया. सड़क निर्माण के दौरान निकले बड़े बड़े पत्थर और मलबे को मशीनों से नाले में फेंका गया, जिसके चलते उठाऊ जल सिंचाई योजना की पाइप लाइन मलबे में दब गई और साथ ही पानी का मुख्य स्रोत भी मलबे में दब गया.

बता दें कि होजो नाला समीप उठाऊ जल सिंचाई योजना के नजदीक कंस्ट्रक्शन कंपनी ऋषिडोगरी के लिए सड़क निर्माण का कार्य कर रही है. जिसकी देखरेख सीपीडबल्यूडी कर रही है, लेकिन इसके बावजूद भी होजो नाला के पास करोड़ों की जल सिंचाई योजना को भारी नुकसान पहुंचाया गया है. सड़क निर्माण के दौरान निकले पहाड़ी से निकले बड़े-बड़े पत्थर और मलबे को नाले में फेंका जा रहा है. जिसकी वजह से नीचे उठाऊ जल सिंचाई योजना की पाइप लाइन दब गई है. साथ ही यहां पानी का मुख्य स्रोत भी मलबे के नीचे दब गया है.

Kinnaur Water Scheme Pipeline damaged
होजो नाले में मलबा फेंकने से उठाऊ जल सिंचाई योजना क्षतिग्रस्त

इसकी सूचना मिलते ही पूह पंचायत के दानमोछे वाटर यूजर कमेटी के सदस्य और अन्य ग्रामीणों ने इस विषय पर बैठक करने के बाद कंस्ट्रक्शन कंपनी, सीपीडब्ल्यूडी अधिकारी सहित अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी विनय मोदी, जिला परिषद सदस्य शांता नेगी भी मौके पर पहुंचे. इस दौरान अतिरिक्त जिलादंडाधिकारी ने नुकसान का जायजा लिया और होजो नाला को पहुंचे करोड़ो के नुकसान को देखते हुए सीपीडब्ल्यूडी और कंस्ट्रक्शन कंपनी को काम रोकने के निर्देश दिए है. साथ ही नुकसान की भरपाई के भी निर्देश दिए हैं.

Kinnaur Water Scheme Pipeline damaged
किन्नौर में होजो नाला जल सिंचाई योजना क्षतिग्रस्त

बता दें कि होजो नाला से उठाऊ जल सिंचाई योजना आजादी के बाद सूखे की मार झेल रहा पूह पंचायत के लिए किसी अमृत से कम नहीं है, लेकिन इस नुकसान के बाद पूह पंचायत के लोगों के आशाओं पर पानी फिरता दिख रहा है. वहीं, समय रहते इस उठाऊ जल सिंचाई योजना को कंस्ट्रक्शन कंपनी और सीपीडब्ल्यूडी रिस्टोर नहीं करतीं तो अब पूह पंचायत के ग्रामीण सड़कों पर उतरने की चेतावनी दे चुके हैं. पूह पंचायत में करीब 371 घर है. पूह पंचायत की जनसंख्या करीब एक हजार के आसपास है, जहां पर पीने के पानी नाम मात्र है. वहीं, सिंचाई के लिए लोग लाखों रुपये खर्च कर पानी खरीदते हैं और सिंचाई करते हैं. होजो नाला से ही उठाऊ जल सिंचाई योजना की आस लिए ग्रामीण अब इस योजना के लाभ के लिए तरस रहे हैं. पूरे पूह पंचायत में करोड़ों के सेब के बगीचे सूखने की कगार पर है और कुछ सेब के बगीचे तों सुख भी चुके हैं.

जिला परिषद सदस्य शांता कुमार ने बताया कि किन्नौर जिले का पूह ग्राम पंचायत ऐसा पंचायत है, जहां सिंचाई के लिए भी धनराशि खर्च कर करना पड़ता है. ग्रामीणों को उम्मीद थी कि इस बार उठाऊ सिंचाई योजना के तहत पानी मिलेगा, लेकिन सड़क निर्माण कार्य के चलते उठाऊ सिंचाई योजना के मुख्य स्रोत और पाइप लाइन को नुकसान होने से लोगों की उम्मीद टूटने लगी है. उन्होंने शासन और प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर जल्द ही पाइप लाइन और मुख्य स्रोत ठीक नहीं होता है तो वे लोग उग्र आंदोलन भी पीछे नहीं हटेंगे.

पूह ग्राम पंचायत के उपप्रधान तानज़ीन नेगी ने कहा कि आजादी के बाद से यहां सिंचाई के लिए जल नहीं है, जिसके चलते ग्रामीण पानी खरीदकर बगीचों में सिंचाई कर रहे हैं, जिसमें लाखों का खर्चा आता है. ग्रामीणों को कमाई कम और खर्चे अधिक करने पड़ते हैं. इस वजह से होजो नाला से उठाऊ सिंचाई जल योजना को चलाने का काम किया जा रहा था. जल्द ही सिंचाई योजना के तहत पानी कुछ ही समय में ग्राम पंचायत में पहुंचने के लिए ही था कि सड़क निर्माण कंपनी की लापरवाही से योजना को नुकसान पहुंचा है.

जल शक्ति विभाग के एसडीओ बुद्धि चंद ने कहा विभाग द्वारा बिछाई गई पाइपलाइन और मुख्य जल स्रोत को भारी नुकसान हुआ है. विभाग के अधिकारियों ने मौके का निरीक्षण किया है. जो नुकसान हुआ है, उसका डैमेज ठेकेदार पर लगाया जाएगा. उन्होंने कहा कि इस उठाऊ जल सिंचाई योजना की कुल लागत 9 करोड़ रुपये हैं.

ये भी पढ़ें: Kullu Forest Fire: कुल्लू के पतलीकुहल वन क्षेत्र में लगी आग, करोड़ों की वन संपदा बर्बाद

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.