किसान धान की फसल में सुंडी से हैं परेशान, तो जान लीजिए ये सटीक समाधान, इस कीटनाशक का करें छिड़काव

author img

By

Published : Aug 19, 2023, 5:41 PM IST

Sundi Problem in Paddy Crop

Sundi in Paddy Crop: हरियाणा में बाढ़ की मार से किसी तरह उबरे किसान अब धान की फसल में सुंडी के प्रकोप से परेशान हैं. करनाल समेत कई जिलों में सुंडी ने किसानों की फसल खराब कर दी है. सुंडी का इलाज अगर समय पर ना किया जाए तो फसल बर्बाद हो जाती है. आइये आपको बताते हैं कि कृषि विशेषज्ञ की राय में सुंडी का सटीक इलाज क्या है और किसानों क्या करना चाहिए.

करनाल: किसानों के खेतों में धान की फसल इन दिनों लहरा रही है. अच्छी फसल देखकर किसानों के चेहरे खिले हुए थे लेकिन इसी बीच धान की फसल में पत्ता लपेट सुंडी के प्रकोप ने उनकी नींद उड़ा दी है, जिससे किसानों के चेहरे पर मायूसी छाई हुई है. अगर समय रहते सुंडी का प्रबंधन ना किया जाए तो इससे उनकी धान की फसल बर्बाद हो जाती है. सुंडी लगने से 50 प्रतिशत उत्पादन भी फसल से नहीं मिलता.

पत्ता लपेट सुंडी की पहचान- मौजूदा समय में मौसम में काफी नमी है और काफी उतार-चढ़ाव भी देखने को मिल रहा है. सुंडी का इलाज समय रहते नहीं हुआ तो ये पूरी फसल को अपनी चपेट में ले लेती है. सुंडी के असर से धान के पौधे सफेद रंग के हो जाते हैं और पत्तियां सूखने लग जाती हैं. पौधे के पत्ते आपस में चिपक जाते हैं, जिसको खोलकर देखने पर उसके अंदर से सुंडी निकलती है. यही सुंडी पत्ते को लपेट देती है और अंदर ही अंदर पौधे की पत्तियां खाती रहती है. नमी वाले मौसम में धान की फसल में पत्ता लपेट सुंडी का प्रकोप ज्यादा होता है. इसके चलते किसानों को चाहिए कि वह सुबह-शाम अपने खेतों का निरीक्षण करें, जिससे समय रहते सुंडी के प्रकोप से अपनी फसल को बचा सकें.

Sundi Problem in Paddy Crop
सुंडी धान के पत्तों को खा जाती है.

ये भी पढ़ें- धान में पत्ता लपेट सुंडी का प्रकोप, कृषि विशेषज्ञों की किसानों को सलाह- इस दवाई का करें छिड़काव

सुंडी कैसी होती है- सुंडी हरे व भूरे सफेद रंग की होती हैं. धीरे-धीरे इसमें पूरा पौधा सूखने लग जाता है. पौधे पर सफेद रंग की धारियां बन जाती हैं. यह पौधे का हरा पदार्थ चूस लेती हैं. शुरू में यह खेत में कुछ ही पौधों पर होती हैं लेकिन अगर समय रहते इसकी रोकथाम ना की जाये तो ये पूरे खेत को प्रभावित कर देती है. धान के पौधे को पत्तियों से ही भोजन मिलता है, इसलिए पत्तियां सूख जाने पर पौधे को पूरा भोजन नहीं मिल पाता और पौधा सूखकर मर जाता है. इसलिए इसकी रोकथाम करना बहुत ही ज्यादा जरूरी होता है.

सुंडी की रोकथाम कैसे करें- कृषि विशेषज्ञ डॉक्टर शीशपाल शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि मौसम में काफी उतार-चढ़ाव हो रहा है, इसी मौसम के चलते किसानों की धान की फसल में पत्ता लपेट सुंडी का प्रकोप देखने को मिल रहा है. जिसके चलते किसानों को चाहिए कि वो समय-समय पर अपनी धान की फसल का निरीक्षण करते रहें. समय रहते इसकी पहचान करके इसका उपाय करें.

Sundi Problem in Paddy Crop
सुंडी से फसल की पैदावार 50 प्रतिशत तक कम हो जाती है.

ये भी पढ़ें- जानिए बासमती धान रोपाई का वैज्ञानिक तरीका व सावधानियां, होगी बंपर कमाई

सुंडी के लिए कौन सा कीटनाशक- कृषि विशेषज्ञ ने बताया कि किसानों ने अगर खेत में ज्यादा यूरिया खाद डाला है तो उससे भी खेत में नमी बनी रहती है, इस स्थिति में भी खेत मे पत्ता लपेट सुंडी आने का खतरा होता है. इसलिए किसानों को चाहिए कि वो अपनी फसल में संतुलित मात्रा में ही यूरिया खाद डालें. जिस किसान के खेत में पता लपेट सुंडी आई हुई उसके रोकथाम के लिए 5 किलोग्राम रीजेंट (Regent) कीटनाशक या पादन दवाई का छिंटा विधि से एक एकड़ में छिड़काव करना चाहिए.

Sundi Problem in Paddy Crop
कीटनाशक के समय पर इस्तेमाल से सुंडी खत्म हो जाती है.

कृषि विशेषज्ञ शीशपाल शर्मा के मुताबिक जो किसान इस दवा का प्रयोग कर चुके हैं और रोकथाम नहीं हो रही है तो वो पठेरा दवाई का इस्तेमाल करें. इसके अतिरिक्त अगर कोई किसान अपने खेत में किसी दवाई का स्प्रे से छिड़काव करना चाहते हैं तो उसके लिए 10 किलोग्राम मिथाइल पैराथिन (2 प्रतिशत) प्रति एकड़ छिड़क सकते हैं. इसके साथ ही 200 मिली मोनोक्रोटोफास (36 एसएल) 200 लीटर पानी में मिलाकर प्रति एकड़ फसल के हिसाब से छिड़काव कर सकते हैं. ऐसा करने से किसान अपने धान की फसल को पत्ता लपेट सुंडी के प्रकोप से बचा सकते हैं.

ये भी पढ़ें- धान की सीधी बिजाई पर हरियाणा सरकार किसानों को दे रही मोटा पैसा, रजिस्ट्रेशन शुरू, जानिए कैसे करें आवेदन

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.