हरियाणा में जहरीली एवं नकली शराब पीने से साल 2016 से 2022 तक 36 लोगों की मौत: गृह मंत्री अनिल विज

author img

By

Published : Dec 26, 2022, 7:41 PM IST

Updated : Dec 26, 2022, 7:47 PM IST

Haryana Home Minister Anil Vij on poisonous liquor

हरियाणा विधानसभा के तीन दिवसीय शीतकालीन सत्र के पहले दिन सदन में जहरीली एवं नकली शराब का मामला गूंजा. सदन में हरियाणा के गृह मंत्री ने कहा कि साल 2016 से लेकर 2022 तक प्रदेश में जहरीली और नकली शराब पीने से 36 लोगों की मौतें हुईं हैं. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि प्रदेश में शराब की अवैध बिक्री न हो इसके लिए आबकारी एवं कराधान विभाग द्वारा नियमित रूप से शराब की दुकानों की चेकिंग की जा रही है. साथ ही अवैध शराब बेचने वालों के खिलाफ कार्रवाई भी की जा रही है. (Anil Vij on poisonous liquor )

चंडीगढ़: हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि जहरीली एवं नकली शराब पीने के कारण 22 नवंबर, 2022 को जिला सोनीपत में 3 व्यक्तियों की एवं जिला पानीपत में 1 व्यक्ति की मौत हुई थी। इसके अतिरिक्त राज्य में वर्ष 2016 में कुल 2 व्यक्तियों और वर्ष 2020 में कुल 30 व्यक्तियों की मौतें हुई. इस प्रकार राज्य में वर्ष 2016 से 2022 विभिन्न जिलों में कुल 36 मौतें दर्ज की गई है. गृह मंत्री सोमवार को हरियाणा विधानसभा में शीतकालीन सत्र के दौरान लगाए गए ध्यानाकर्षण प्रस्ताव का उत्तर दे रहे थे. (haryana assembly winter session)

सदन में गृह मंत्री अनिल विज ने बताया कि राज्य में वर्ष 2016 से 2022 विभिन्न जिलों में कुल 36 मौतें दर्ज की गई हैं. उन्होंने बताया कि वर्ष 2016 में कुल 2 मौत हुई थी. इसी प्रकार, वर्ष 2020 में कुल 30 मौतें जहरीली शराब पीने से हुई थी और 2022 में कुल 4 मौतें जहरीली शराब पीने से हुई है. राज्य में अवैध एवं नकली शराब के कारोबार की रोकथाम के लिए पुलिस विभाग द्वारा विभिन्न स्तरों पर लगातार कार्रवाई की जाती रही है. उन्होंने कहा कि वर्ष 2016 में 18,136 लोगों को गिरफ्तार किया गया. इसके अलावा 3,63,323 वैध शराब की बोतलें, 14,455 अवैध शराब की बोतलें और 21 शराब की भट्ठियां, 54,9884 अंग्रेजी शराब की बोतलें और 94,968 बीयर की बोतलें बरामद की गई. (poisonous liquor in Haryana)

ऐसे ही, वर्ष 2017 में 16,233 लोगों को गिरफ्तार किया गया. इसके अलावा, 8,84,256 वैध शराब की बोतलें, 38,702 अवैध शराब की बोतलें और 22 शराब की भट्ठियां, 7,61,047 अंग्रेजी शराब की बोतलें और 73,910 बीयर की बोतलें बरामद की गई. वर्ष 2018 में 15,265 लोगों को गिरफ्तार किया गया. इसके अलावा, 8,39,051 वैध शराब की बोतलें, 23,863 अवैध शराब की बोतलें और 8 शराब की भट्ठियां, 7,02,540 अंग्रेजी शराब की बोतलें और 36,592 बीयर की बोतलें बरामद की गई. (Anil Vij on poisonous liquor )

वर्ष 2019 में 10,670 लोगों को गिरफ्तार किया गया. इसके अलावा, 8,27,880 अवैध शराब की बोतलें, 79,695 अवैध शराब की बोतलें और 10 शराब की भट्ठियां, 9,23,972 अंग्रेजी शराब की बोतलें और 48,104 बीयर की बोतलें बरामद की गई. वर्ष 2020 में 12,341 लोगों को गिरफ्तार किया गया. इसके अलावा, 5,91,834 वैध शराब की बोतलें, 84,712 अवैध शराब की बोतलें और 172 शराब की भट्ठियां, 5,67,734 अंग्रेजी शराब की बोतलें और 57,918 बीयर की बोतलें बरामद की गई.

वर्ष 2021 में 10,753 लोगों को गिरफ्तार किया गया. इसके अलावा, 3,33,251 वैध शराब की बोतलें, 64,695 अवैध शराब की बोतलें और 108 शराब की भट्ठियां, 3,55,340 अंग्रेजी शराब की बोतलें और 31,939 बीयर की बोतलें बरामद की गई. वर्ष 2022 में 15 दिसंबर तक 13,387 लोगों को गिरफ्तार किया गया. इसके अलावा, 4,01,522 वैध शराब की बोतलें, 35,462 अवैध शराब की बोतलें और 54 शराब की भट्ठियां, 2,82,872 अंग्रेजी शराब की बोतलें और 54,132 बीयर की बोतलें बरामद की गई.

उन्होंने बताया कि आबकारी एवं कराधान विभाग द्वारा शराब की अवैध बिक्री न हो इसके लिए विभाग द्वारा नियमित रूप से शराब की दुकानों की चेकिंग की जा रही है. शराब की अवैध बिक्री पर और अंकुश लगाने के लिए, जिला अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिये गए हैं कि जिले के सभी थोक लाइसेंस वाले परिसरों में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हों और डीईटीसी (आबकारी) को लाइव फीड उपलब्ध हो. अवैध और नकली शराब का मुकाबला करने के लिए हरियाणा आबकारी अधिनियम,1914 के प्रावधानों में संशोधन किया गया है. धारा 61 के प्रावधानों को और सख्त किया गया है. (liquor shop checking)

इसके अलावा, मुख्य सचिव संजीव कौशल की एक सदस्यीय समिति बनाई गई है जो टीमों/समितियों की रिपोर्ट और सिफारिशों का अध्ययन करेगा और विभिन्न विभागों द्वारा किए जाने वाले आवश्यक सुधारात्मक उपायों की पहचान करेगा और अनदेखी करने वालों के खिलाफ उपयुक्त कार्रवाई करेगा. इस समिति में टी. सी. गुप्ता, आईएएस के नेतृत्व में गठित एस.ई.टी, कलारामचंद्रन, आईपीएस की अध्यक्षता वाली समिति की रिपोर्ट, श्रीकांत जाधव, आईपीएस की अध्यक्षता में गठित एस.आई.टी, राज्य सतर्कता ब्यूरो द्वारा की जा रही जांच होगी और मामला अभी विचाराधीन है. (liquor shop checking In haryana)

उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान शराब की सूचना मिली थी जिसके लिए एक एसआईटी टीसी गुप्ता की अध्यक्षता में तैयार की गई थी और उन्होंने अपनी रिपोर्ट अधिकारियों के खिलाफ और विशेष जांच के लिए दी थी. उन्होंने कहा कि अधिकारियों के खिलाफ जो रिपोर्ट आई थी उसकी जांच आईपीएस कला रामचंद्रन ने की और विजिलेंस की जांच के लिए अभी हाल ही में डीजीपी विजिलेंस ने मुझे बताया कि इस मामले में 209 लिकर कॉन्ट्रैक्टर के स्टेटमेंट लिए गए हैं, 111 अधिकारियों/कर्मचारियों के स्टेटमेंट लिए गए हैं, 869 राजपत्रित और गैर राजपत्रित एक्साइज विभाग के अधिकारियों के स्टेटमेंट लिए गए हैं और 23 डिस्टलरी से संबंधित लोगों के स्टेटमेंट रिकॉर्ड किए गए हैं. (spurious liquor in Haryana )

गृह मंत्री ने बताया कि इन रिकॉर्ड को अध्ययन किया जा रहा है और विजिलेंस ने एफआईआर भी दर्ज की है. जिसके तहत 63 करोड़ 15 लाख 17 हजार 600 रुपए का जुर्माना लगाया गया है और 7 करोड़ रुपये से अधिक रिकवर भी किए जा चुके हैं. कुछ मामले अभी कोर्ट में जारी है और इंक्वायरी चल रही है. उन्होंने कहा कि जहां तक एफआईआर दर्ज होने की बात है तो लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है. सोनीपत के तीन व्यक्ति जिनकी मौत हुई थी उनमें अजय, सुनील और सुरेंद्र हैं और उन्होंने मिथाइल जानलेवा लिया था और इथाइल शराब के लिए इस्तेमाल होता है. इसी प्रकार, पानीपत के अनिल ने भी जहरीली शराब पी थी. उन्होंने कहा कि जिनका भी नाम इस मामले में आया उन्हें गिरफ्तार किया जा चुका है और कार्रवाई जारी है. (Haryana Home Minister Anil Vij on poisonous liquor)

ये भी पढ़ें: हरियाणा विधानसभा के शीतकालीन सत्र का पहला दिन, CM बोले- नगर निकायों और पंचायती राज संस्थाओं के लिए नहीं की 15 करोड़ की घोषणा

Last Updated :Dec 26, 2022, 7:47 PM IST
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.