33 साल की नौकरी या 60 साल की उम्र पर मिलेगी रिटायरमेंट, जल्द लागू होगा कानून

author img

By

Published : Sep 23, 2019, 8:12 PM IST

केंद्र सरकार कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति को लेकर बड़ा फैसला करने की तैयारी है. इस फैसले से दिल्ली पुलिस में बड़ा फेरबदल देखने को मिल सकता है.

नई दिल्ली: केंद्र सरकार जल्द ही कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति को लेकर बड़ा फैसला करने वाली है. अगर यह निर्णय लागू हो गया तो दिल्ली पुलिस में बड़ा फेरबदल देखने को मिलेगा. किसी का पुलिस कमिश्नर बनने का सपना टूट जाएगा तो किसी को समय से पहले ही तरक्की मिल जाएगी.

रिटायरमेंट पॉलिसी में हो सकता है बड़ा फेरबदल

एक ही दिन में हजारों की संख्या में पुलिस के जवान से लेकर अधिकारी तक सेवानिवृत हो जाएंगे. इसके चलते सबकी निगाहें केंद्र सरकार के इस फैसले पर टिकी हुई हैं.

दिल्ली पुलिस में हो सकता है फेरबदल
जानकारी के अनुसार केंद्र सरकार सेवानिवृत्ति के नियम में बदलाव करने जा रही है. यह तय किया गया है कि 33 वर्ष की नौकरी या 60 वर्ष की उम्र जो भी पहले पूरी होगी, उस पर कर्मचारी को सेवानिवृत कर दिया जाएगा. केंद्र सरकार का यह फैसला लागू होना लगभग तय माना जा रहा है. अगर यह नियम लागू हो गया तो दिल्ली पुलिस में बड़ा फेरबदल देखने को मिलेगा.

1987 तक भर्ती हुए सभी पुलिसकर्मी हो जाएंगे बाहर
केंद्र सरकार का यह नियम अगर लागू हो गया तो वर्ष 1987 तक दिल्ली पुलिस फोर्स का हिस्सा बने सभी जवान एवं अधिकारी सेवानिवृत हो जाएंगे. दिल्ली पुलिस में अभी 1982 में भर्ती हुए पुलिसकर्मी एवं अधिकारी भी कार्यरत हैं.

केंद्र सरकार का नियम लागू होते ही वर्ष 1982 से 1987 के बीच दिल्ली पुलिस में भर्ती होने वाले तमाम जवान से लेकर अधिकारी सेवानिवृत्त हो जाएंगे. इनमें एएसआई, सब इंस्पेक्टर, एसीपी, अतिरिक्त आयुक्त, संयुक्त आयुक्त और विशेष आयुक्त शामिल होंगे.

कमिश्नर बनने का सपना टूटेगा तो बनेंगे नए एसीपी
यह नियम अगर दिसंबर महिने से लागू होता है तो पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक सेवानिवृत्त हो जाएंगे. अभी उनकी सेवानिवृत्ति जनवरी 2020 में हैं. अगले पुलिस कमिश्नर बनने की बारी का इंतजार कर रहे 1985 बैच के आईपीएस एसएन श्रीवास्तव भी सेवानिवृत हो जाएंगे.

उनके अलावा ट्रैफिक पुलिस के विशेष आयुक्त ताज हसन और मिजोरम में डीजी का पद संभाल रहे 1988 बैच के आईपीएस एसबीके सिंह का भी पुलिस कमिश्नर बनने का मौका खत्म हो जाएगा.

बड़ी संख्या में होगी पदोन्नति
इस नियम से एक तरफ काफी लोग सेवानिवृत्त हो जाएंगे तो दूसरी तरफ पुलिस फोर्स में बड़ी संख्या में पदोन्नति आएगी. दिल्ली पुलिस में अगर 1982 से 1987 के बीच भर्ती हुए सब इंस्पेक्टर सेवानिवृत्त हो जाते हैं तो 100 से ज्यादा एसीपी के पद खाली हो जाएंगे.

इन पदों पर 1988 से लेकर 1992-93 बैच के सब इंस्पेक्टरों को पदोन्नति मिल जाएगी. इसी तरह एएसआई और सब इंस्पेक्टर के सेवानिवृत्त होने से उनके निचले पदों पर मौजूद पुलिसकर्मियों को पदोन्नति मिल जाएगी.

पुलिस फोर्स में जल्दी होते हैं भर्ती
जानकारी के अनुसार दिल्ली पुलिस सहित किसी भी फोर्स में भर्ती के लिए युवा 19-20 साल की उम्र से ही तैयारी करते हैं. बड़ी संख्या में 21 से 22 वर्ष में ऐसे युवा फोर्स का हिस्सा बन जाते हैं. केंद्र सरकार का प्रस्ताव लागू होने पर 21 वर्ष की आयु में भर्ती होने वाला 54 जबकि 22 साल में भर्ती होने वाला 55 वर्ष की आयु में सेवानिवृत्त हो जाएगा.

Intro:नई दिल्ली
केंद्र सरकार जल्द ही कर्मचारियों की सेवानिवृति को लेकर बड़ा फैसला करने जा रही है. अगर यह निर्णय लागू हो गया तो दिल्ली पुलिस में बड़ा फेरबदल देखने को मिलेगा. किसी का पुलिस कमिश्नर बनने का सपना टूट जाएगा तो किसी को समय से पहले ही तरक्की मिल जाएगी. एक ही दिन में हजारों की संख्या में पुलिस के जवान से लेकर अधिकारी तक सेवानिवृत हो जाएंगे. इसके चलते सबकी निगाहें केंद्र सरकार के इस फैसले पर टिकी हुई हैं.


Body:जानकारी के अनुसार केंद्र सरकार सेवानिवृत्ति के नियम में बदलाव करने जा रही है. यह तय किया गया है कि 33 वर्ष की नौकरी या 60 वर्ष की उम्र जो भी पहले पूरी होगी, उस पर कर्मचारी को सेवानिवृत कर दिया जाएगा. केंद्र सरकार का यह फैसला लागू होना लगभग तय माना जा रहा है. अगर यह नियम लागू हो गया तो दिल्ली पुलिस में बड़ा फेरबदल देखने को मिलेगा.


1987 तक भर्ती हुए सभी पुलिसकर्मी हो जाएंगे बाहर
केंद्र सरकार का यह नियम अगर लागू हो गया तो वर्ष 1987 तक दिल्ली पुलिस फोर्स का हिस्सा बने सभी जवान एवं अधिकारी सेवानिवृत हो जाएंगे. दिल्ली पुलिस में अभी 1982 में भर्ती हुए पुलिसकर्मी एवं अधिकारी भी कार्यरत हैं. केंद्र सरकार का नियम लागू होते ही वर्ष 1982 से 1987 के बीच दिल्ली पुलिस में भर्ती होने वाले तमाम जवान से लेकर अधिकारी सेवानिवृत्त हो जाएंगे. इनमें एएसआई, सब इंस्पेक्टर, एसीपी, अतिरिक्त आयुक्त, संयुक्त आयुक्त और विशेष आयुक्त शामिल होंगे.


कमिश्नर बनने का सपना टूटेगा तो बनेंगे नए एसीपी
यह नियम अगर दिसंबर माह से लागू होता है तो पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक सेवानिवृत्त हो जाएंगे. अभी उनकी सेवानिवृत्ति जनवरी 2020 में हैं. अगले पुलिस कमिश्नर बनने की बारी का इंतजार कर रहे 1985 बैच के आईपीएस एसएन श्रीवास्तव भी सेवानिवृत हो जाएंगे. उनके अलावा ट्रैफिक पुलिस के विशेष आयुक्त ताज हसन और मिजोरम में डीजी का पद संभाल रहे 1988 बैच के आईपीएस एसबीके सिंह का भी पुलिस कमिश्नर बनने का मौका खत्म हो जाएगा.



बड़ी संख्या में होगी पदोन्नति
इस नियम से जहां एक तरफ काफी लोग सेवानिवृत्त हो जाएंगे तो दूसरी तरफ पुलिस फोर्स में बड़ी संख्या में पदोन्नति आएगी. दिल्ली पुलिस में अगर 1982 से 1987 के बीच भर्ती हुए सब इंस्पेक्टर सेवानिवृत्त हो जाते हैं तो 100 से ज्यादा एसीपी के पद खाली हो जाएंगे. इन पदों पर 1988 से लेकर 1992-93 बैच के सब इंस्पेक्टरों को पदोन्नति मिल जाएगी. इसी तरह एएसआई और सब इंस्पेक्टर के सेवानिवृत्त होने से उनके निचले पदों पर मौजूद पुलिसकर्मियों को पदोन्नति मिल जाएगी.



Conclusion:पुलिस फोर्स में जल्दी होते हैं भर्ती
जानकारी के अनुसार दिल्ली पुलिस सहित किसी भी फोर्स में भर्ती के लिए युवा 19-20 साल की उम्र से ही तैयारी करते हैं. बड़ी संख्या में 21 से 22 वर्ष में ऐसे युवा फोर्स का हिस्सा बन जाते हैं. केंद्र सरकार का प्रस्ताव लागू होने पर 21 वर्ष की आयु में भर्ती होने वाला 54 जबकि 22 साल में भर्ती होने वाला 55 वर्ष की आयु में सेवानिवृत्त हो जाएगा.
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.