पत्नी की पूजा, मां लक्ष्मी का मजाक! स्वामी प्रसाद मौर्य बोले- देवी के चार हाथ कैसे ?, प्रमोद कृष्णम का पलटवार-उनके मुंह में बवासीर

author img

By ETV Bharat Hindi Desk

Published : Nov 13, 2023, 3:54 PM IST

Updated : Nov 13, 2023, 7:21 PM IST

Swami Prasad Maurya controversial statement

एक बार फिर सनातन धर्म पर सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य के बेतुके बोल (Swami Prasad Maurya controversial statement) सामने आए हैं. पत्नी की पूजा करते हुए उन्होंने मां लक्ष्मी का अपमान किया. उनके इस बयान पर कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने पलटवार किया है.

लखनऊ : समाजवादी पार्टी नेता और विधान परिषद सदस्य स्वामी प्रसाद मौर्य ने फिर से सनातन धर्म के खिलाफ जहर उगला है. दीपावली पर पत्नी की पूजा करते हुए उन्होंने मां लक्ष्मी के अस्तित्व पर ही सवाल उठा दिए. लोगों को नसीहत दी कि अगर लक्ष्मी की पूजा करनी है तो अपनी घरवाली की पूजा और सम्मान करें. सही मायने में वही देवी है. उनके इस बयान के विरोध में आवाजें उठनी शुरू हो गईं हैं. कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने भी तगड़ा पलटवार किया है. कहा कि उनके मुंह में बवासीर है.

  • दीपोत्सव के अवसर पर अपनी पत्नी का पूजा व सम्मान करते हुए कहा कि पूरे विश्व के प्रत्येक धर्म, जाति, नस्ल, रंग व देश में पैदा होने वाले बच्चे के दो हाथ, दो पैर, दो कान, दो आंख, दो छिद्रों वाली नाक के साथ एक सिर, पेट व पीठ ही होती है, चार हाथ,आठ हाथ, दस हाथ, बीस हाथ व हजार हाथ वाला… pic.twitter.com/CP5AjKODfq

    — Swami Prasad Maurya (@SwamiPMaurya) November 12, 2023 " class="align-text-top noRightClick twitterSection" data=" ">

पढ़िए स्वामी प्रसाद मौर्य का वह ट्वीट, जिसका हो रहा विरोध : दीपावली पर सोमवार को स्वामी प्रसाद मौर्य ने एक्स (पहले ट्वीटर) पर अपनी पत्नी का तिलक करते, माला पहनाते और उपहार देते हुए तस्वीरें साझा की. ट्वीट कर लिखा कि 'पूरे विश्व के प्रत्येक धर्म, जाति, नस्ल, रंग व देश में पैदा होने वाले बच्चे के दो हाथ, दो पैर, दो कान, दो आंख, दो छिद्रों वाली नाक के साथ एक सिर, पेट व पीठ ही होती है. चार हाथ, आठ हाथ, 10 हाथ, 20 हाथ व हजार हाथ वाला बच्चा आज तक पैदा ही नहीं हुआ तो चार हाथ वाली लक्ष्मी कैसे पैदा हो सकती हैं?. यदि आप लक्ष्मी देवी की पूजा करना ही चाहते हैं तो अपने घरवाली की पूजा व सम्मान करें जो सही मायने में देवी है. क्योंकि आपके घर परिवार का पालन-पोषण, सुख-समृद्धि, खान-पान व देखभाल की जिम्मेदारी बहुत ही निष्ठा के साथ निभाती है'.

  • #WATCH | On SP leader Swami Prasad Maurya's statement on Sanatan Dharma, Congress leader Acharya Pramod Krishnam says, "Swami Prasad Maurya has got piles in his mouth. He needs treatment. I will ask Yogi Adityanath to put a ban on Maurya speaking." pic.twitter.com/Fna22DEdcO

    — ANI UP/Uttarakhand (@ANINewsUP) November 13, 2023 " class="align-text-top noRightClick twitterSection" data=" ">

प्रमोद कृष्णम बोले- मौर्य की बीमारी गंभीर, इलाज की जरूरत : स्वामी प्रसाद मौर्य के आपत्तिजनक बयान के बाद कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता आचार्य प्रमोद कृष्णम का पलटवार सामने आया है. उन्होंने ट्वीट किया है कि 'स्वामी प्रसाद मौर्य के मुंह में बवासीर हो गई है. वह बीमार हैं, और उनके इलाज की जरूरत है. मैं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अपील करता हूं कि उनके बोलने पर रोक लगा दें'.

एक्स यूजरों ने भी सपा नेता को लगाई लताड़ : मौर्य के ट्वीट के बाद उनकी आलोचना होनी शुरू हो गई है. कुछ लोगों ने उनके ट्वीट पर रिप्लाई कर उनके ही धर्म पर सवाल उठाए हैं. एक यूजर ने लिखा है कि 'उससे पहले आपको अपनी मां की भी पूजा करनी चाहिए, लेकिन जैसे ही कोई हिंदू धर्म का त्याग करता है, वह अपने संस्कार भी भूल जाता है. उसके साथ ही अपनी परवरिश और माता-पिता को भी भूल जाता है'. वहीं एक अन्य यूजर ने भी हमला बोला है लिखा है कि 'आप अपना धर्म बताइए?, क्या आप हिंदू हैं ?, या नॉन हिंदू'.

कांग्रेस नेता ने बयान का पलटवार किया है.
कांग्रेस नेता ने बयान का पलटवार किया है.

रामचरित मानस पर भी दिया था विवादित बयान : सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य का विवादों से गहरा नाता हो गया है. सनातन धर्म के विरोध में वह पहले भी कई बार बयान दे चुके हैं. अभी हाल ही में इलाहबाद हाईकोर्ट ने उन्हें नसीहत भी दी थी, लेकिन वह अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहे हैं. उन्होंने रामचरितमानस की चौपाइयों पर आपत्ति जताई थी. उनके समर्थकों ने मानस के कुछ पन्ने आग के हवाले कर दिए थे. मौर्य ने कहा था कि 'करोड़ों लोग रामचरितमानस नहीं पढ़ते, यह बकवास है. इसे बैन कर देना चाहिए. तुलसीदास ने इसे अपनी खुशी के लिए लिखा. सरकार को आपत्तिजनक अंश है, बाहर करने चाहिए'. रामचरित मानस मामले में उन पर मुकदमा भी हुआ था. हाईकोर्ट ने भी स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ मुकदमा निरस्त करने की याचिका खारिज कर दी है. कोर्ट ने भी उनके बयानों की आलोचना की थी.

सपा नेता पहले भी विवादित बयान दे चुके हैं.
सपा नेता पहले भी विवादित बयान दे चुके हैं.

हिंदू धर्म केवल धोखा है : सपा महासचिव स्वामी प्रसाद मौर्य ने हिंदू धर्म पर अगस्त महीने में भी बयानबाजी की थी. कहा था कि ‘ब्राह्मणवाद की जड़ें गहरी हैं. विषमता का कारण यही है. हिंदू नाम का कोई धर्म नहीं, यह केवल धोखा है. ब्राह्मण धर्म को ही हिंदू धर्म कहकर दलितों, आदिवासियों, पिछड़ों को मकड़जाल में फंसाया गया. अगर हिंदू कोई धर्म होता तो पिछड़ों दलितों और आदिवासियों का सम्मान किया जाता है'. सपा नेता ने जुलाई में बदरीनाथ धाम पर भी विवादित बयान दिए थे. कहा था कि ‘बौद्ध मठ को तोड़कर बदरीनाथ धाम बनाया गया'.

पुजारी राजू दास ने भी विरोध जताया.
पुजारी राजू दास ने भी विरोध जताया.

अयोध्या हनुमानगढ़ी के मुख्य पुजारी बोले- वह हिंदू धर्म को टारगेट कर रहे : अयोध्या के प्रसिद्ध सिद्ध पीठ हनुमानगढ़ी के मुख्य पुजारी राजू दास ने स्वामी प्रसाद मौर्य के बयान पर कहा कि आखिरकार बार-बार स्वामी प्रसाद मौर्य सनातन धर्म को क्यों टारगेट कर रहे हैं. सनातन धर्म को मानने वाला सहिष्णु होता है, इसी वजह से वह बार-बार हिंदू देवी देवताओं का अपमान कर रहे हैं. अगर वह हिंदू धर्म को नहीं मानते तो ना माने लेकिन अभद्र टिप्पणी क्यों कर रहे हैं. मुख्य पुजारी ने कहा कि मोहम्मद साहब पर एक टिप्पणी को लेकर नूपुर शर्मा पर कार्रवाई हुई. वह समाज में निकल नहीं सकती. हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की हत्या आतंकवादी विचारधारा के लोगों ने कर दी. हिंदू समाज सहनशील है, इस वजह से आज स्वामी प्रसाद मौर्य बार-बार हिंदू देवी-देवताओं पर टीका टिप्पणी कर रहे हैं. अगर हम भी आतंकवादी विचारधारा के होते तो अब तक स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ कोई ना कोई घटना हो चुकी होती. सरकार स्वामी प्रसाद मौर्य पर कड़ी कार्रवाई करें.

  • रामायण के अपमान पर चुप रहे समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव की माता महालक्ष्मी जी के अपमान पर भी चुप्पी ये साबित करती है कि सपा प्रमुख ने ही स्वामी प्रसाद मौर्य को राष्ट्रीय महासचिव बनाकर सनातन हिंदू धर्म के अपमान का एजेंडा सौप रखा है। ये भी साबित हो गया है कि सपा प्रमुख का…

    — Bhupendra Singh Chaudhary (@Bhupendraupbjp) November 13, 2023 " class="align-text-top noRightClick twitterSection" data=" ">

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह चौधरी ने सपा मुखिया पर साधा निशाना : भाजपा प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह चौधरी ने ट्वीट कर बयान का विरोध जताया. कहा कि रामायण के अपमान पर चुप रहे समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव की माता महालक्ष्मी जी के अपमान पर भी चुप्पी ये साबित करती है कि सपा प्रमुख ने ही स्वामी प्रसाद मौर्य को राष्ट्रीय महासचिव बनाकर सनातन हिंदू धर्म के अपमान का एजेंडा सौप रखा है. ये भी साबित हो गया है कि सपा प्रमुख का खुद को हिंदू बताना, विष्णु जी और परशुराम जी का मंदिर बनवाने की घोषणा और अपने पूजा पाठ का प्रचार कराना सब ढोंग है. अपनी तुष्टीकरण की राजनीति के कारण सपा प्रमुख हिंदू धर्म का अपमान कराने से बाज नहीं आने वाले. स्वामी प्रसाद मौर्य तो मानसिक रूप से दिवालिया हो गए हैं. वास्तव में उनके बयानों में सपा प्रमुख अखिलेश यादव ही की सोच है.

यह भी पढ़ें : स्वामी प्रसाद मौर्य ने रामचरित मानस पर भी दिया था बयान

बकवास है, बैन कर देनी चाहिए : सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य

Last Updated :Nov 13, 2023, 7:21 PM IST
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.