सरकारी स्कूल में छात्राओं के यौन शोषण का आरोपी प्रिंसिपल फरार, महिला आयोग हुआ सख्त

author img

By ETV Bharat Hindi Desk

Published : Oct 30, 2023, 9:40 PM IST

Updated : Nov 3, 2023, 5:43 PM IST

Girl Students Sexual Exploitation in Haryana

Girl Students Sexual Exploitation in Haryana: हरियाणा के एक सरकारी स्कूल की छात्राओं से प्रिंसिपल के यौन शोषण करने के मामले में हरियाणा महिला आयोग सख्त हो गया है. आयोग की चेयरमैन रेनू भाटिया ने कहा कि इस मामले में पुलिस और डीईओ ने भी बड़ी लापरवाही की है. उन्होंने कहा कि महिला आयोग की सख्ती के बाद पुलिस ने आरोपी प्रिंसिपल के खिलाफ एफआईआर दर्ज की.अब आरोपी प्रिंसिपल फरार है.

पंचकूला: जींद के सरकारी स्कूल के प्रिंसिपल पर छात्राओं के साथ अश्लील हरकतें करने का आरोप है. महिला आयोग की नजर में केस आने के बाद पुलिस ने आरोपी प्रिंसिपल पर केस दर्ज किया था. पर अब ये सामने आया है कि आऱोपी फरार है. अब हरियाणा महिला आयोग की अध्यक्ष रेनू भाटिया ने शिक्षा अधिकारी और पुलिस के ऊपर इस मामले में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है. आरोपी समेत सभी लापरवाह अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग की है.

आरोपी प्रिंसिपल फरार: महिला आयोग की चेयरमैन रेनू भाटिया ने कहा कि जींद पुलिस को महिला आयोग ने कार्रवाई करने के आदेश दिए थे. उन्होंने कहा कि स्कूल की 50 छात्राओं ने प्रिंसिपल के खिलाफ शिकायत दी थी. छात्राओं की शिकायत के आधार पर इस मामले में हरियाणा के डीजीपी से सख्त कार्रवाई करने की मांग की थी. उन्होंने कहा कि अब आरोपी प्रिंसिपल फरार हो गया है. इस मामले में सभी पक्षों को दो नवंबर को बुलाया गया था, लेकिन प्रिंसिपल नहीं पहुंचा था. उन्होंने पुलिस से आरोपी प्रिंसिपल को 24 घंटे में अरेस्ट करने के लिए कहा है. इसके साथ ही आयोग ने हरियाणा के सभी स्कूल की छात्राओं से अपील करते हुए कहा कि ऐसा कोई मामला उनके सामने आए तो वे फौरन महिला आयोग को सूचित करें. साथ ही रेनू भाटिया ने कहा कि पीड़ित छात्राओं पर आरोपी प्रिंसिपल दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है.

पीड़ित छात्राओं पर आरोपी प्रिंसिपल बना रहे दबाव - रेनू भाटिया

रेनू भाटिया ने कहा कि यह बड़े अफसोस की बात है कि इतने पढ़े लिखे लोग और शिक्षा के मंदिर में काम कर रहे अधिकारी इस तरह के घिनौने काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि पीड़ित लड़कियों ने उनको जो पांच पन्नों का शिकायत पत्र भेजा है वो उन्होंने 31 अगस्त को लिखा था. यानी उनके साथ जो गलत हरकतें हो रही थी, वो उससे पहले की होंगी. ये पत्र महिला आयोग में 13 सितंबर को मिला. उस पर तुरंत कार्रवाई करते हुए 14 सितंबर को ही महिला आयोग की ओर से इस मामले में कार्रवाई करने के लिए पुलिस को पत्र लिखा गया था.

ये भी पढ़ें- हरियाणा महिला आयोग की अध्यक्ष के बिगड़े बोल! 'लड़कियां हनुमान की आरती करने नहीं जातीं होटल'

महिला आयोग ने किया तलब- शिकायत करने वाली बच्चियां नाबालिग हैं. मामले में पुलिस ने केस दर्ज किया है. इस मामले में जिला प्रशासन ने एक जांच कमेटी गठित की है. हरियाणा महिला आयोग की चेयरपर्सन रेनू भाटिया ने मामले से संबंधित सभी पक्षों को 2 नवंबर को महिला आयोग में तलब किया है. महिला आयोग की ओर से इस मामले में जींद के एसपी, डीईओ से भी बात की गई है और दोनों को कहा गया है कि 2 नवंबर को पीड़ित बच्चियों को महिला सुरक्षाकर्मियों के साथ और संबंधित आरोपी प्रिंसिपल और अन्य को आयोग के कार्यालय में उपस्थित किया जाए.

स्कूल में छात्राओं के यौन शोषण पर हरियाणा महिला आयोग सख्त

मुझे अफसोस यह है कि पुलिस ने इस पूरे मामले में लापरवाही की है. मैंने एसपी से इस मामले का फोन पर संज्ञान लिया है. उन्होंने कहा कि वो इस पर काम कर रहे हैं. जब महिला आयोग के पास पत्र पीड़ित भेजते हैं उसके बाद ही विभागीय कार्रवाई शुरू होती है. आधिकारिक तौर पर प्रिंसिपल इस मामले में निलंबित हो गया है. इसके साथ ही इस मामले में जिला शिक्षा अधिकारी (डीईओ) द्वारा कोई कार्रवाई ना करना भी बड़ी लारपवाही है. इस मामले में अभी तक एफआईआर दर्ज नहीं होना और आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया जाना शर्मनाक है. रेनू भाटिया, अध्यक्ष, हरियाणा महिला आयोग


महिला आयोग करेगा कड़ी कार्रवाई- रेनू भाटिया ने कहा कि शिकायत में छात्राओं ने कहा है कि आरोपी प्रिंसिपल अपने ऑफिस में काले शीशे लगाए हुए है. प्रिंसिपल लड़कियों को कमरे में बुलाकर उनके साथ गलत हरकत करता था. मैं इस मामले में शिक्षा मंत्री, स्थानीय विधायक और उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला से भी कार्रवाई करने का आग्रह करूंगी. इस तरह के मामलों में सख्त कार्रवाई होनी चाहिए और आयोग भी इस पर कड़ी कार्रवाई करेगा. ये दुर्भाग्य है कि हम बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ का नारा देते हैं, वहीं पर बेटियों के साथ इस तरह की हरकत हो रही है. मामला सामने आने के बाद जो कार्यवाहक डीईओ थीं और जो वर्तमान में जिला शिक्षा अधिकारी हैं, उनको तुरंत संज्ञान लेना चाहिए था. आयोग किसी को भी इस मामले में नहीं बख्शेगा चाहे वो कितने भी बड़े पद पर हो.

इस मामले में हमें WhatsApp के माध्यम से शिकायत मिली थी. आरोपी प्रिंसिपल पर गंभीर आरोप लगे हैं. एसडीएम के नेतृत्व में एक जांच कमेटी का गठन किया गया है. कमेटी पूरे मामले की जांच करेगी और सत्यता का पता लगाएगी. कमेटी जो भी सुझाव देगी उसके हिसाब से कार्रवाई की जायेगी. आरोपी प्रिंसिपल को सस्पेंड कर दिया गया है. लड़कियों ने जो शिकायती पत्र लिखा था वो जिलाधिकारी को नहीं भेजा गया था बल्कि अन्य उच्च अधिकारियों को वो पत्र मिला था. लेकिन प्रशासन कार्रवाई कर रहा है. - मोहम्मद इमरान रजा, जिला अधिकारी, जींद

क्या है पूरा मामला- जींद में एक सरकारी स्कूल के प्रिंसिपल पर यौन शोषण करने का आरोप लगाया है. छात्राओं का कहना है कि प्रिंसिपल उन्हें कमरे में बुलाकर अश्लील हरकत करता था. छात्राओं ने पांच पन्नों का शिकायत पत्र हरियाणा के शिक्षा मंत्री, केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री समेत प्रधानमंत्री कार्यालय, राष्ट्रपति कार्यालय और सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को भेजा है. मामला सामने आने के बाद आरोपी प्रिंसिपल को सस्पेंड कर दिया गया है और मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई है.

ये भी पढ़ें- महिला आयोग चेयरपर्सन ने की जनसुनवाई, 14 जिलों के 40 पेंडिंग मामलों का किया निपटारा

Last Updated :Nov 3, 2023, 5:43 PM IST
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.