कवर्धा में जिंदा जलने से एक बैगा परिवार तबाह, कैसे लगी आग, कहीं ये हत्या तो नहीं, क्या है मौत की मिस्ट्री,?

author img

By ETV Bharat Chhattisgarh Desk

Published : Jan 15, 2024, 7:36 PM IST

Updated : Jan 15, 2024, 10:29 PM IST

Three people died due to burning alive in Kawardha

burning alive in Kawardha कवर्धा के नागाडबरा गांव में घर में सो रहे तीन लोगों की जिंदा जलने से मौत हो गई. शक जताया जा रहा है कि घटना के पीछे कोई साजिश है. पुलिस और गृहमंत्री ने कहा है जांच के बाद हत्या या साजिश जो भी वजह होगी वो सामने आ जाएगी. baiga tribe

कवर्धा में तीन लोगों की मौत

कवर्धा: कवर्धा के नागाडबरा गांव में एक ही परिवार के तीन लोगों की जलने से मौत हो गई.हादसे के बाद मौके पर पहुंचे प्रदेश के डिप्टी सीएम और गृहमंत्री ने कहा कि जांच चल रही है जांच में जो भी तथ्य सामने आएंगे उस हिसाब से पुलिस आगे की कार्रवाई करेगी. गृहमंत्री ने कहा कि शुरुआती जांच से बात पता चल रही है कि सिलेंडर में आग लगने से ये हादसा हुआ. गृहमंत्री ने कहा कि पीड़ित परिवार को जो भी आर्थिक मदद होगी वो दी जाएगी. गांव वालों को शक है कि ये हादसा नहीं हत्या है.

साजिश का जताया जा रहा शक: गांव वालों ने तीन लोगों की मौत को हादसा नहीं साजिश बताया है. गांव के लोग पुलिस के सामने तो कुछ नहीं कह रहे हैं लेकिन शक जता रहे हैं कि तीनों की हत्या की गई है. दबे छुपे शब्दों में उनका कहना है कि जब घर में आग लगी तो किसी ने बचने की कोशिश क्यों नहीं की. घर में जब आग लगी तो लोग रसोईघर में क्यों सो रहे थे. पूरा घर लकड़ी और फूस से बना था. जब गैस सिलेंडर में आग लगी तो पूरी झोपड़ी जल जानी चाहिए थी. सिर्फ रसोईघर में ही तीनों लोग कैसे जलकर मर गए. घर में दो और कमरे भी थे तो तो सभी लोग रसोईघर में ही सर्दी में क्यों सो रहे थे. गांव वालों के ये तमाम सवाल हैं जिनका जवाब फिलहाल पुलिस के पास भी नहीं है. पुलिस का कहना है कि जांच के बाद सब साफ हो जाएगा.

लोगों को कैसे लगी मौत की जानकारी: मृतक बुधराम बैगा और उसकी पत्नी हीरामती बैग के घर का दरवाजा जब सुबह काफी देर तक नहीं खुला तो आस पास के लोगों ने दरवाजा खटखटाया. दरवाजा खटखटाने के बाद भी जब अंदर से कोई आवाज नहीं आई तो लोगों ने दरवाजा धक्का देकर खोल दिया. दरवाजा खोलते ही रसोईघर में तीनों के जले शव पड़े मिले. जिस जगह पर शव मिले हैं वहां पर किचन का सामान और घर के कपड़े भी रखे थे जो बिल्कुल ठीक है. सवाल ये उठता है कि तीन आदमी घर में जिंदा जल जाएं और घर के सामान को कुछ नहीं हो ऐसा कैसे हो सकता है.

कबीरधाम में तीन लोगों की जिंदा जलने से मौत, सभी बैगा जनजाति परिवार के हैं सदस्य, फॉरेंसिक जांच में जुटी पुलिस
बिहार में एक ही परिवार के 4 लोग जिंदा जले, पति-पत्नी और 2 बच्चों की आग में झुलसकर मौत
डंपर से टक्कर के बाद बस में लगी भीषण आग, 12 लोगों की जिंदा जलने से मौत, 14 घायल
Last Updated :Jan 15, 2024, 10:29 PM IST
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.