ETV Bharat / state

अंबिकापुर में आयुष्मान कार्ड से पैसे निकालने के बाद मरीज को अस्पताल से बाहर निकाला, हुई मौत

author img

By

Published : Apr 17, 2021, 4:10 PM IST

Updated : Jul 25, 2023, 8:01 AM IST

सरगुजा के निजी अस्पताल पर मरीज के साथ धोखाधड़ी का आरोप लगा है. अस्पताल प्रबंधन पर अस्पताल में इलाज कराने आये मरीज के परिजनोंं ने पैसे के अभाव में परिजनों के साथ बदसलूकी का आरोप लगाया है. इतना ही नहीं परिवार ने अस्पताल पर आयुष्मान कार्ड (Ayushman Card) से पैसे काटने का आरोप लगाया. इतना ही नहीं मरीज को बीच इलाज में अस्पताल ने बाहर निकाल दिया. जिसके बाद मरीज की मौत हो गई.

Aggrieved family
पीड़ित परिवार

सरगुजा: खूबचंद बघेल योजना (Khoobchand Baghel Yojna) और आयुष्मान भारत योजना (Ayushman Bharat Yojna) के तहत प्राइवेट अस्पतालों में इलाज के नाम पर धोखाधड़ी का मामला सामने आया है. ताजा मामला सरगुजा के एक निजी अस्पताल का है. अस्पताल में इलाज करवाने पहुंचे एक मरीज के परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन पर आयुष्मान कार्ड से पैसे काटने के बाद भी इलाज नहीं करने का आरोप लगाया है. इतना ही नहीं मरीज को अचानक अस्पताल से बाहर निकाल दिया गया. जिसके बाद उसकी मौत हो गई. इस मामले में निजी अस्पताल की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

आयुष्मान कार्ड से पैसा काटने का मामला

रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करते हुए रायपुर में दो गिरफ्तार

जानिये क्या है मामला ?
सूरजपुर के दसरथ साहू अपने पिता का इलाज सूरजपुर अस्पताल में करा रहे थे. स्थिति में सुधार नहीं होने के कारण डॉक्टरों ने अम्बिकापुर मेडिकल कॉलेज (Medical College Ambikapur) रेफर कर दिया. जिसके बाद दसरथ साहू ने अपने पिता को सरगुजा के जीवन ज्योति अस्पताल में भर्ती कराया.अस्पताल में दो दिन बीतने के बाद मरीज के परिजनों को 80 हजार का बिल थमा दिया गया. इतने बड़े रकम की एक साथ व्यवस्था करने के लिए मरीज के परिजनों ने वक्त मांगा. लेकिन एक दिन बाद अस्पताल प्रबंधन ने परिजनों को एक लाख का बिल थमा दिया. ऐसे में दो-तीन दिन बीत गये. आरटीपीसीआर जांच रिपोर्ट नहीं आने से मरीज का आयुष्मान कार्ड चालू नहीं हो पाया था. जबतक जांच रिपोर्ट आई, तबतक अस्पताल प्रबंधन ने 51 हजार रुपये नगद ले लिये. आयुष्मान कार्ड शुरू होने के बाद 56 हजार रुपये आयुष्मान कार्ड से काट लिये. परिजनों के पास पैसे खत्म हो गये, तब प्रबंधन ने मरीज को अस्पताल से निकालकर दूसरी जगह ले जाने की बात परिजनों को कही. मरीज के परिजनों ने, जब मना किया तो अस्पताल प्रबंधन ने उनसे अभद्र व्यवहार किया और मरीज को बाहर निकाल दिया. इसके बाद 15 अप्रैल को परिजनों ने मरीज को मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया. मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 15 अप्रैल की देर रात इपचार के दौरान मरीज की मौत हो गई.

छत्तीसगढ़ सरकार ने केंद्र से 285 अतिरिक्त वेंटिलेटर मांगे

जांच के बाद होगी कार्रवाईः सीएमएचओ

इस पूरे मामले में जिले के स्वास्थ्य अधिकारी पीएस सिसोदिया (CMHO PS Sisodia) ने जांच के बाद कार्रवाई का आश्वासन दिया. वहीं कलेक्टर संजीव कुमार झा (Collector Sanjeev Kumar Jha) ने भी मामले में संज्ञान लेते हुये गलती पाये जाने पर करवाई के बात कही है.

Last Updated :Jul 25, 2023, 8:01 AM IST
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.