BSF अधिकारी से फैशन डिजाइनर और सफल उद्यमी बनीं पटना की रूपा, कई महिलाओं को दिया रोजगार

author img

By ETV Bharat Bihar Team

Published : Dec 2, 2023, 6:02 AM IST

पटना की फैशन डिजाइनर रूपा

Fashion Designer Patna Rupa: पटना की रूपा जो कभी बीएसएफ में नौकरी करती थीं, आज एक सफल उद्यमी हैं जो 32 महिलाओं को रोजगार दे रही हैं. रूपा ने वो कर दिखाया है जिसे देख सभी हैरान हैं. बड़े-बड़े डिजायनर को रूपा टक्कर दे रही हैं और वो भी पुराने और खराब हो चुके कपड़ों से. रूपा पुराने कपड़ों को अपने हूनर से ऐसा लुक देती हैं कि ये बड़े-बड़े ब्रांडेड कपड़ों को फेल कर दे. आइये जानते हैं बीएसएफ अधिकारी से उद्यमी बनी रूपा की दिलचस्प कहानी.

देखें वीडियो

पटना: कपड़ा इंसान के व्यक्तित्व में चार चांद लगाता हैं लेकिन अगर वही कपड़े पुराने हो जाए तो लोग उस पर ध्यान नहीं देते हैं. ऐसे में पटना की रूपा ने एक ऐसी पहल की है कि आज हर कोई उसकी चर्चा कर रहा है. दरअसल पुराने कपड़ों को रूपा ऐसा लुक देती हैं कि वह बड़े-बड़े शो रूम में अपनी जगह बना रहा है.

पुराने कपड़ों को नया लुक देतीं हैं रूपा
पुराने कपड़ों को नया लुक देतीं हैं रूपा

पटना की फैशन डिजाइनर रूपा का दिलचस्प सफर : रूपा पुराने कपड़ों को बेस्ट बनाती हैं. रूपा बताती हैं कि ट्रेंड के अनुसार लोग कपड़े पहनते हैं और कुछ दिनों के बाद जब ट्रेंड चला जाता है तो फिर वह डिजाइनर कपड़ा उतना आकर्षित नहीं दिखाता और लोग उसे पहनना छोड़ देते हैं. आउटडेड कपड़े सिर्फ अलमारी के शोभा बढ़ाते हैं.

रूपा के डिजाइन किए ब्लाउजेज
रूपा के डिजाइन किए ब्लाउजेज

पुराने कपड़ों को देती हैं न्यू लुक: ऐसे में रूपा पुराने कपड़ों को रीसाइक्लिंग करके एक नए रूप में डिजाइनिंग कपड़ा तैयार करती हैं जो लोगों को काफी पसंद आता है. इसका नतीजा है कि आज पटना की रूपा महिला सशक्तिकरण के रूप में एक मिसाल बनी हुई हैं. रूपा कुमारी ने ईटीवी भारत से बातचीत के दौरान बताया कि "मैंने सबसे पहले फैशन डिजाइनिंग का कोर्स किया ,लेकिन मेरे मन में सिर्फ यही था कि सिर्फ कोर्स है लेकिन कोर्स आज करियर में तब्दील हो गया है."

ईटीवी भारत GFX
ईटीवी भारत GFX

BSF की नौकरी छोड़ी: उन्होंने बताया कि "मैंने फैशन डिजाइनिंग का कोर्स करने के बाद बीएसएफ में नौकरी की, लेकिन मेरा मन कुछ अलग करने का था. मेरा शौक और जुनून बचपन से ही फैशन डिजाइनिंग के तरफ था. फिर नौकरी छोड़ दी. उसके बाद हमने काफी मंथन चिंतन किया कि अब क्या किया जाए."

वेस्ट को बेस्ट बनाती हैं रूपा: रूपा ने बताया कि मेरे घर में काफी पुरानी साड़ियां थीं जो प्रचलन में नहीं थीं. मैंने अपना साड़ियों से अलग रूप में लहंगा कुर्ती, ब्लाउज दुपट्टा तैयार की और अपने सहेलियों को भी प्रोवाइड किया. इसके बाद मुझे रिस्पांस काफी अच्छा मिला. फिर मैंने अपने सगे संबंधी और सहेलियों से पुराने कपड़ों को रीसाइक्लिंग करके नए डिजाइन के रूप में तैयार करने लगी और धीरे-धीरे मेरे साथ लोग जुड़ते गए. उन्होंने कहा कहा कि पुराने चीजों को कभी भी वेस्ट नहीं समझना चाहिए बल्कि अगर आपके हाथ में हुनर है तो आप वेस्ट को बेस्ट बना सकते हैं.

ईटीवी भारत GFX
ईटीवी भारत GFX

कई महिलाओं को रूपा ने दिया रोजगार: रूपा ने आगे बताया कि इस काम में उनके साथ 32 महिलाएं जुड़ी हुई हैं. महिलाओं को पर पीस के हिसाब से मैं पैसा देती हूं. इससे 32 महिलाओं को घर परिवार चलाने में सहूलियत होती है. रूपा ने कहा कि इस काम को हमने साल 2022 में शुरुआत किया था. उस समय मन में थोड़ी सी हिचक थी लेकिन आज अपने आप को धन्य समझती हूं.

पटना की रूपा ने बीएसएफ की नौकरी छोड़ फैशन की दुनिया में रखा कदम
पटना की रूपा ने BSF की नौकरी छोड़ फैशन की दुनिया में रखा कदम

ब्रांडेड कपड़े फेल: फैशन डिजाइनर रूपा कहती हैं कि अभी तक कितने लोगों को पुराने कपड़ों को नए डिजाइन में तब्दील करके दी हूं इसका अंदाजा ही नहीं है. जो लोग मुझसे डिजाइन करवाकर पुराने कपड़ों को शादी पार्टी फंक्शन में पहनते हैं तो मुझे फोटो भी भेजते हैं और कहते हैं कि काफी अच्छा लग रहा है. उन्होंने कहा कि पुराना कपड़ों से तैयार किया गया कपड़ा देखकर यकीन करना मुश्किल होता है.

5000 का डिजानर ड्रेस मजह 1000 में: डिजाइनर, पुरानी भारी बनारसी, सिल्क, चंदेरी की साड़ियों से अनारकली, फ्लोर लैंथ कुर्ते या गाउन ,ब्लाउज बनवा देती हैं. डिजाइनर रूपा ने बताया कि जो नई ड्रेस पांच, छह हजार में आती है, उसे रीमेकिंग करके 1 हजार से 2 हजार में ही तैयार करवा देती हूं. पुरानी साड़ियों से क्रॉप टॉप, स्कर्ट, हाईलो गाउन जो कि पीछे से लांग होते हैं और आगे से शॉर्ट जैसी वेस्टर्न ड्रेसेज भी बनवाई जाती है. सबसे ज्यादा डिमांड साड़ी से डिजाइनर लांग डिफरेंट कट के कुर्तों, ब्लाउज, दुपट्टा नाइट ड्रेस और कई तरह के डिजाइनर ड्रेस बनवाने की है.

पढ़ें- Success Story : पिता बस ड्राइवर, खुद चलाते थे रिक्शा, आज करोड़ों का है कारोबार, वाकई दिलचस्प है बिहार के इस युवा की कहानी

ये भी पढ़ें : Inspirational Story: मिलिए मोटे अनाज की MENTOR ऋचा रंजन से.. बिहार की बेटी की 10 सालों की मुहिम का हुआ असर..

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.