मुंगेर की प्रांजलि राज को दिल्ली में मिलेगा वीरगाथा अवार्ड का सम्मान, गणतंत्र दिवस परेड समारोह में होंगी शामिल

author img

By ETV Bharat Bihar Desk

Published : Jan 18, 2024, 6:38 AM IST

मुंगेर की प्रांजलि राज को मिलेगा वीरगाथा अवार्ड

Veergatha Award Winner Pranjali Raj: देश में बिहार के बच्चे हर क्षेत्र में प्रदेश का नाम रौशन कर रहे हैं. इसी लिस्ट में एक और नाम मुंगेर की प्रांजलि राज का भी जुड़ गया है. इन्होंने छोटी सी उम्र में ऐसा कमाल कर दिया कि इनका चयन सुपर 100 वीरगाथा विजेता के रूप में हुआ है. जानें आखिर किस उपलब्धि के लिए प्रांजलि को ये सम्मान मिलेगा.

मुंगेर: कहते हैं कि जब इरादे मजबूत और हौसले बुलंद हो, तो उसके सामने उम्र की सीमा मायने नहीं रखती. इस कथन को चरितार्थ किया है, बिहार के मुंगेर की रहने वाली प्रांजलि राज ने. प्रांजलि राज ने छोटी सी उम्र में वो सफलता हासिल की है, जो बड़े-बड़ों के नसीब में नहीं होता.

मुंगेर की प्रांजलि राज ने रचा इतिहास: 13 वर्षीय प्रांजलि राज कक्षा 8वीं की छात्रा हैं. इनका चयन सुपर 100 वीरगाथा विजेता के रूप में हुआ है. जिसके लिए प्रांजलि राज को दिल्ली में आयोजित होने वाले गणतंत्र दिवस परेड समारोह में अतिथि के रूप में बुलाया गया है. जहां उन्हें देश की रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक के हाथों सम्मानित किया जाएगा.

वीरगाथा प्रोजेक्ट 3.0 प्रतियोगिता में प्रांजलि का चयन: शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार के स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग द्वारा आयोजित राष्ट्रीय स्तर के प्रतियोगिता वीरगाथा प्रोजेक्ट 3.0 का आयोजन किया गया था. जिसमें देश भर के 1 करोड़ 37 लाख स्कूली छात्र-छात्राओं ने अपने स्कूल प्रबंधन के माध्यम से ऑनलाइन नामांकन कर पेंटिंग, फोटोग्राफी, निबंध, कविता और मल्टिमीडिया वीडियो की विधा में सहभागिता दी थी.

प्रांजलि राज ने किया पूरे बिहार का नाम रोशन: जिसमें प्रांजलि राज ने मल्टीमीडिया प्रजेंटेशन वीडियो के क्षेत्र में भारत के स्वतंत्रता संग्राम में जनजातीय आदिवासी समुदाय विद्रोह विषय पर अपनी रचनात्मक एवं कलात्मक प्रतिभा का परिचय दिया. इस विषय पर पूरे देश में सिर्फ 3 प्रतिभागियों को निर्णायकों द्वारा विजेता घोषित किया गया है. उनकी इस सफलता से मुंगेर जिला के साथ बिहार का नाम देश में रौशन हुआ है.

माता-पिता को भी मिल चुका है सम्मान: प्रांजलि के पिता प्रशांत कुमार मध्य विद्यालय हलिमपुर जमालपुर में कला स्नातक शिक्षक के पद पर कार्यरत हैं. इनके पिता भी आदर्श शिक्षक गौरव सम्मान 2020 से पुरस्कृत हो चुके हैं, वहीं मां अंजलि भी खेल मंत्रालय भारत सरकार द्वारा जिला यूथ अवॉर्ड 2010 और महिला एवं बाल विकास मंत्रालय भारत सरकार द्वारा, मुंगेर की प्रथम जिला महिला सम्मान 2014 से पुरस्कृत समाजसेवी रही हैं.

दिल्ली से आया प्रांजलि का बुलावा: जिसके बाद विद्यालय प्राचार्या के माध्यम से सूचित किया गया कि छात्रा प्रांजलि राज को दिल्ली में गणतंत्र दिवस परेड समारोह के लिए अभिभावकों के साथ सरकारी खर्च पर दिल्ली आने के लिए आमंत्रित किया गया है. समारोह में उन्हें शिक्षा मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा वीरगाथा अवार्ड से सम्मानित किया जाएगा. वहीं राष्ट्रपति के साथ-साथ प्रधानमंत्री से आशीर्वाद पाने का मौका मिलेगा.

बचपन से ही टैलेंटेड हैं प्रांजलि राज: प्रांजलि राज अपनी स्कूली शैक्षणिक योग्यता को बरकरार रखते हुए कम उम्र से ही क्रिएटिव आर्ट जैसे प्रतियोगी गतिविधियों में शामिल होती रही हैं. उन्होंने अपनी कला का उत्कृष्ट प्रदर्शन करते हुए जिला, राज्य, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर 'वर्ल्ड वाइल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड' में नाम दर्ज कराकर अभी तक कई ईनाम राशि, प्रमाण-पत्र, मेडल और पुरस्कारों से सम्मानित हो चुकी हैं.

पढ़ें: BSF अधिकारी से फैशन डिजाइनर और सफल उद्यमी बनीं पटना की रूपा, कई महिलाओं को दिया रोजगार

'छप्पर नुमा घर, छत से टपकता बारिश का पानी', नालंदा के शहजाद अंजुम बने कल्याण पदाधिकारी

Success Story : पिता बस ड्राइवर, खुद चलाते थे रिक्शा, आज करोड़ों का है कारोबार, वाकई दिलचस्प है बिहार के इस युवा की कहानी

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.