कश्मीरी केसर की खेती से महकेगा गया, मालामाल होंगे बिहार के किसान!

author img

By ETV Bharat Bihar Desk

Published : Jan 19, 2024, 10:45 AM IST

Updated : Jan 19, 2024, 2:26 PM IST

गया में कश्मीरी केसर की खेती

Kashmir Saffron Cultivation In Gaya: केसर दुनिया में सबसे महंगे पौधे के रूप में जाना जाता है. बिहार के गया में एक किसान ने कश्मीरी केसर की खेती की शुरुआत की है. फिलहाल यह ट्रायल के रूप में शुरु किया गया है, लेकिन अगर यह सफल हो गया तो यहां के किसान मालामाल हो सकते हैं. पढ़ें पूरी खबर.

गया में कश्मीरी केसर की खेती की शुरुआत

गया: केसर एक आयुर्वेदिक वरदान है. केसर को 'लाल सोना' भी कहा जाता है, जो कई तरह की बिमारियों में रामबाण साबित होता है. आमतौर पर केसर की खेती कश्मीर में की जाती है, लेकिन अब इसकी शुरुआत बिहार में भी हो गई है. बिहार के गया में कश्मीरी केसर की खेती हो रही है. गया के टिकारी प्रखंड के गुलरिया चक में इसकी शुरुआत हुई है.

कश्मीरी केसर की गया में खेती: बिहार में पहली बार गया जिले में कश्मीरी केसर की खेती हो रही है. गया के किसान आशीष कुमार सिंह इसकी खेती कर रहे हैं. इन्होंने कश्मीर से केसर के फूल मंगवा कर करीब 300 बल्ब (पौधा) लगाए हैं, जिससे फूल भी निकलने शुरू हो गए हैं. बता दें कि कश्मीरी केसर की बाजारों में अनुमानित कीमत 5 लाख रुपए प्रति किलो के करीब है. फिलहाल ट्रायल के तौर पर खेती की शुरुआत की गई है.

गया में कश्मीरी केसर की खेती
गया में कश्मीरी केसर की खेती

केसर की खेती के लिए ठंडे तापमान की जरूरत: कश्मीरी केसर की खेती कर रहे किसान आशीष कुमार सिंह बताते हैं कि 5 डिग्री से लेकर 20 डिग्री तक के तापमान में केसर की अच्छी खेती होती है. उन्होंने 31 अक्टूबर को केसर की फसल लगाई थी. करीब 300 बल्ब खेतों में लगाए गए हैं, जिसके फूल अब निकलने लगे हैं. बताया कि अगर वे 15 दिन पहले ही पौधे लगा देते, तो दिसंबर के पहले सप्ताह से ही फूल आ जाते.

केसर की खेती का तरीका: किसान ने बताया कि केसर का बल्ब जमीन में लगाने के बाद एक-डेढ़ महीने तक नीचे जमीन के अंदर ही उसका काम होता रहता है. सही समय और सही तापमान मिलने पर इसके पत्ते और फूल एक साथ निकल जाते हैं. और दो दिन में फूल को अगर हारवेस्ट नहीं किया जाए तो ये खत्म भी हो जाते हैं. इसलिए इसे तुरंत हारवेस्ट कर छाया में सुखाना होता है. खेती के लिए पानी की आवश्यकता नहीं होती, सूखी मिट्टी में भी हो जाती है.

केसर की फसल
केसर की फसल

ट्रायल के तौर पर किया है शुरू: आशीष ने बताया कि फिलहाल ट्रायल के तौर पर इसकी शुरुआत की गई है. अभी 300 बल्ब लगाए गए हैं. एक से डेढ़ महीने में केसर का फूल निकल जाता है. ट्रायल सक्सेस रहा तो आने वाले दिनों में पांच कट्ठे में केसर के बल्ब लगाए जाएंगे. अभी लगे 300 बल्ब से एक हजार फूल निकलेंगे. केसर के एक फूल में तीन पंखुड़ियां होती है. उसे निकाल लिया जाता है, वही केसर होता है. 300 बल्ब में करीब 100 ग्राम के आसपास केसर के फूल निकलेंगे.

कश्मीरी केसर के फूल
कश्मीरी केसर के फूल

कम पूंजी, कम मेहनत में लाखों की बचत: किसान की मानें तो कम पूंजी, कम मेहनत में इसकी खेती कर लाखों का मुनाफा कमा सकते हैं. यदि 3000 से 4000 केसर के बल्ब लगा दिए जाएं, तो उसमें से 1 किलो केसर निकल सकता है, जिसकी कीमत 5 लाख तक होती है. वहीं पूंजी की बात करें तो सिर्फ 70 से 80 हजार रुपए ही खर्च आते हैं. ऐसे में 1 किलो केसर का उत्पादन कर लिया जाए, तो कम से कम तीन से चार लाख रुपए की बचत आसानी से हो सकती है.

"फिलहाल 7हजार के करीब इसमें खर्च आया है. अनुमान है कि 100 ग्राम केसर की पंखुड़ियां 300 बल्ब से निकलेंगी. जिसकी कीमत लगभग 50 हजार होगी. कश्मीर और गया में होने वाले केसर के क्वालिटी का अंतर मापा जाएगा. यहां के केसर में कितना गुण है, इसकी जांच कराएंगे. ट्रायल सक्सेस रहा, तो आने वाले दिनों में कई कट्ठों में इसकी खेती करेंगे."- आशीष कुमार सिंह, किसान

एक फूल में केसर की तीन पंखुड़िया
एक फूल में केसर की तीन पंखुड़िया

कश्मीरी केसर सबसे महंगा: बहरहाल अगर गया के किसान का ये ट्रायल सफल हो गया तो इससे बिहार के किसानों को काफी लाभ मिलेगा. उनसे सीख लेकर और भी किसान इसकी खेती करेंगे. दरअसल कश्मीर को दुनिया में सबसे अच्छा और सबसे महंगे मसाले केसर के उत्पादन के लिए जाना जाता है. इसे जीआई-टैग भी मिला है, जिससे इसका मूल्य और भी बढ़ गया है. केसर की एक किलो की कीमत 4 से 5 लाख रुपये तक हो सकती है.

पढ़ें: बिहार में पहली बार केसर की खेती, YOUTUBE से किसान ने ली ट्रेनिंग

गया में 43 एकड़ में लगी अफीम की खेती को किया गया नष्ट, अब तक 868 एकड़ पर हुई कार्रवाई

Last Updated :Jan 19, 2024, 2:26 PM IST
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.