Watch Video: बिना टिकट AC फर्स्ट क्लास में सफर कर रहे थे नेताजी.. 'Ticket मांगा तो देने लगे धमकी'

author img

By ETV Bharat Bihar Desk

Published : Oct 14, 2023, 5:28 PM IST

Updated : Oct 14, 2023, 7:00 PM IST

भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष राणा प्रताप सिंह और टीटीई के बीच विवाद

भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष राणा प्रताप सिंह और टीटीई के बीच विवाद का एक वीडियो सामने आ रहा है. बताया जा रहा है कि राणा प्रताप सिंह बिना टिकट एसी बॉगी में यात्रा कर रहे थे. टीटीई ने जुर्माना काट दिया तो दोनों के बीच बहस हो गयी है. पढ़ें पूरी खबर...

भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष राणा प्रताप सिंह और टीटीई के बीच विवाद

बक्सरः बिहार के बक्सर के पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष राणा प्रताप सिंह का वीडियो वायरल (Rana Pratap Singh Video Viral) हो रहा है, जिसमें राणा प्रताप सिंह और टीटीई के बीच बहस हो रही है. यह वीडियो 11 अक्टूबर का बताया जा रहा है. राणा प्रताप सिंह अपने सहयोगी के साथ जियारत एक्सप्रेस के एसी-1 क्लास में यात्रा कर रहे थे. इसी दौरान टिकट जांच करने के लिए पहुंचे टीटीई और नेता में बहस हो गई.

यह भी पढ़ेंः अश्विनी चौबे विवाद पर BJP जिलाध्यक्ष बोले- गांधी के सपनों का अपमान बर्दाश्त नहीं किया जाएगा

नेता और टीटीई में बहसः वीडियो के बारे में बताया जा रहा है कि राणा प्रताप सिंह ट्रेन में बिना टिकट यात्रा कर रहे थे. टीटीई ने जब टिकट की मांग की तो बहस हो गई. इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. टीटीई ने नेता पर धमकी देने और धक्का मुक्की करने का आरोप लगाया है. दूसरी ओर राणा प्रताप सिंह ने भी दिल्ली से लौटने पर टीटीई पर मानहानि का मुकदमा दायर करने की बात कही है. उन्होंने कहा कि लोगों के सामने उनकी बेइज्जती की गई है.

बिना टिकट यात्रा करने का आरोपः जियारत एक्सप्रेस के टीटीई पंकज कुमार ने नेता पर गंभीर आरोप लगाया है. उसने बताया कि 11 अक्टूबर को 12395 अप जियारत एक्सप्रेस एसी फर्स्ट क्लास, एस-ए-वन में टिकट चेक कर रहे थे. राणा प्रताप सिंह इसी केबिन में यात्रा कर रहे थे. टिकट मांगने पर खुद को बीजेपी नेता व एनआरयूसीसी का मेंबर बताने लगे. आईडी कार्ड मांगने पर नहीं दिखाए. जब टीटीई ने बॉगी से हटने के लिए कहा तो उल्टे धमकी देने लगे. इस दौरान नेता ने खुद को बक्सर सीआईटी रमेश चंद्र सिंह का चचेरा भाई बी बताया. जब सीआई टीटीई ने सीआईटी को फोन लगाया तो नेता गाली-गलौज करना शुरू कर दिए.

टीटीई ने किया जुर्माना: टीटीई ने बताया कि उसने 'राणा प्रताप सिंह और सहयोगी योगेन्द्र कुमार के पास टिकट नहीं होने पर 4750 रुपए का जुर्माना काट दिया, यह मेमो आरपीएफ को भी सौंपा गया है'. जिस कारण दोनों के बीच बहस हो गई. टीटीई ने बताया है कि 'नेता ट्रेन से ही फोन कर अपने लोगों को बक्सर स्टेशन पर बुलवा लिए थे. बक्सर स्टेशन पर ट्रेन रूकते ही उनके 10-15 की संख्या में सहयोगियों ने घेर लिया था. आरपीएफ के जवान वहां नहीं होते चलते मेरी जान चली जाती.'

मानहिना का मुकदमा दर्ज कराएंगे नेताः इस मामले में जब राणा प्रताप सिंह से बात की गई तो उन्होंने कहा कि वे दिल्ली में हैं. वहां से आने के बाद टीटीई के खिलाफ मुदकमा दायर करेंगे. उन्होंने बताया कि ट्रेन के बॉगी में टीटीई ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया है. हालांकि यह भी बताया जा रहा है कि नेता ने 4750 रुपए का जुर्माना भरे हैं. उनके पास टिकट थी या नहीं इसके बारे में उन्होंने कुछ नहीं कहा. उन्होंने इतना कहा कि टीटीई के खिलाफ केस दर्ज कराएंगे.

"मैं जियारत एक्सप्रेस में चढ़ा था. मेरी तबीयत खराब थी व मुझें नींद आ रही थी. मेरे साथ योगेन्द्र कुमार भी थे. मैं ट्रेन में चढ़ने के बाद एक बड़ा बाबू से पूछकर एच-ए-1 बोगी में बैठा था. टीटीई आए और मेरे साथ बदसलूकी करने लगे. बताया कि मैं एनआरयूसीसी का मेंबर हूं. बावजूद व्यवहार में कोई परिवर्तन नहीं आया. टीटीई के इस आचरण से मेरे प्रतिष्ठा को आघात पहुंचा है. दिल्ली से बक्सर आते ही उस टीटीई पर मानहानि का मुकदमा दर्ज करंगा." - राणा प्रताप सिंह, पूर्व जिलाध्यक्ष, भाजपा

पार्टी से निलंबित हैं नेताः बता दें कि राणा प्रताप सिंह अपने ही पार्टी के सांसद सह केंद्रीय राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था. इसके बाद राणा प्रताप सिंह को 6 साल के लिए पार्टी से निकाल दिया गया है. राणा प्रताप अपने इलाके के कदावर नेता माने जा रहे हैं. इसी बीच वीडियो सामने आने के बाद एक बार फिर से सुर्खियों में आ गए हैं.

Last Updated :Oct 14, 2023, 7:00 PM IST
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.