राहुल गांधी की न्याय यात्रा में 200 लोगों की टीम चलती है साथ

author img

By ETV Bharat Chhattisgarh Desk

Published : Feb 10, 2024, 10:00 PM IST

Updated : Feb 12, 2024, 3:03 PM IST

Rahul Gandhi Nyaya Yatra

Rahul Gandhi Nyaya Yatra मणिपुर से शुरु हुई राहुल गांधी की न्याय यात्रा पार्ट टू छत्तीसगढ़ में चल रही है. न्याया यात्रा में राहुल गांधी के साथ 200 लोगों की टीम चलती है जिसमें कांग्रेस के दिग्गज नेता और कई पूर्व मंत्री शामिल रहते हैं.

न्याय यात्रा में 200 लोगों की टीम चलती है साथ

कोरबा: राहुल गांधी की न्याया यात्रा की छत्तीसगढ़ में एंट्री 8 फरवरी को हुई. राहुल की न्याया यात्रा पार्टू ओडिशा से होते हुए रायगढ़ पहुंची. रायगढ़ की सभा के बाद राहुल गांधी की यात्रा ने दो दिनों का ब्रेक लिया. रविवार से राहुल गांधी की यात्रा का फिर से आगाज होगा. राहुल गांधी अपने अगले पड़ाव में कोरबा के भैसमा पहुंचेंगे. राहुल गांधी के भैसमा में रुकने के लिए कैंप तैयार कर दिए गये हैं. राहुल के आने से पहले कैंप और कैटरिंग की व्यवस्था देखने वालों की भारी भरकम टीम पहुंच गई है. कैंप और कैटरिंग का काम देखने वाली ये टीम उनके रुकने से लेकर खाने पीने तक की व्यवस्था का खास ख्याल रखता है. कैटरिंग की टीम राहुल गांधी की न्याय यात्रा में चल रहे लोगों का भोजन तैयार करती है.

200 लोगों की टीम चलती है साथ: कोरबा के भैसमा में जहां राहुल गांधी रात्रि विश्राम करेंगे वहां राहुल के लिए बनाए कैंप का जायजा ईटीवी भारत की टीम ने लिया. टीम में शामिल लोगों ने बताया कि वो न्याया यात्रा जब मणिपुर से शुरु हुई उसी दिन से उनके साथ साये की तरह साथ साथ चल रहे हैं. यात्रा का समापन जब 20 मार्च को मुंबई में होगा तब जाकर इनकी ड्यूटी खत्म होगी. टीम के लोगों ने बताया कि राहुल गांधी के काफिले के साथ विधायक और सांसद से लेकर भूतपूर्व मुख्यमंत्री तक रहते हैं. राहुल के साथ ही कैंप में रुकते हैं और साथ ही भोजन भी करते हैं. भोजन के बाद सभी लोग कंटेनर में रात में विश्राम करते हैं.

हम 14 जनवरी से राहुल गांधी के साथ मणिपुर से जुड़े हुए हैं. हमारा कॉन्ट्रैक्ट मुंबई तक का है जहां 20 मार्च को यात्रा के पहुंचने का लक्ष्य रखा गया है. राहुल गांधी इस यात्रा में अकेले नहीं चलते. राहुल गांधी के साथ अलग-अलग स्तर के नेता भी होते हैं. जिनकी संख्या लगभग 200 से ढाई सौ लोगों की हैं. यात्रा में भीड़ इतनी होती है कि जाम लग जाता है. हमें अगले लक्ष्य तक पहुंचने में घंटों का समय लग जाता है. राहुल गांधी के पहुंचने से पहले हमें 200 से लेकर 250 लोगों का खाना तैयार करना पड़ता है - दीपक, कैटरिंग शेफ

कैसी रहती है राहुल गांधी की सुरक्षा: राहुल गांधी के साथ 24 घंटे एसपीजी की टीम रहती है. कैंप की सुरक्षा की जिम्मेदारी सीआरपीएफ के जवानों के पास रहती है. राहुल गांधी की न्याय यात्रा में दो लेवल की सुरक्षा लेयर होती है. सुरक्षा लेयर में जो सबसे अंतिम पायदान होता है वो लोकल पुलिस के जिम्मे होता है. राहुल गांधी और उनकी टीम को जो खाना दिया जाता है उसका खास ख्याल रखा जाता है. सुरक्षा के लिहाज से सुरक्षाकर्मियों की नजर सभी लोगों पर रहती है.

कहां कहां से होकर गुजरेगी यात्रा: पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार 11 फरवरी को रायगढ़ से यात्रा आरंभ होकर संध्या समय तक भैसमा पहुंचेगी जहां रात्रि विश्राम के लिए काफिला रुकेगा. भैसमा के बाद काफिला सीतामणी चौक पहुंचेगा यहां से यात्रा दर्री, गोपालपुर, छुरी, कटघोरा के लिए प्रस्थान करेगी. कटघोरा में आम लोगों से मुलाकात के बाद पाली-तानाखार क्षेत्र के लिए यात्रा आगे बढ़ेगी, इसके बाद न्याय यात्रा सूरजपुर जिले में प्रवेश कर जाएगी.

विश्राम के बाद रायगढ़ से राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा का काफिला बढ़ेगा आगे
राहुल गांधी की बातों पर ना दें ध्यान, 75 साल अन्याय करने वाले निकाल रहे न्याय यात्रा : अरुण साव
लोस चुनाव पर ध्यान केंद्रित करने के लिए भारत जोड़ो न्याय यात्रा का समय कम होगा: कांग्रेस
Last Updated :Feb 12, 2024, 3:03 PM IST
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.