ETV Bharat / state

यूपी में 13 की आखिरी लड़ाई; किसका चलेगा दांव, कौन होगा फेल, मिर्जापुर-गाजीपुर, घोसी-बलिया पर सबकी नजर - UP Election 2024 7th Phase

author img

By ETV Bharat Uttar Pradesh Team

Published : May 27, 2024, 2:35 PM IST

Updated : May 31, 2024, 9:41 AM IST

Seventh Phase Election Campaign Ends: लोकसभा चुनाव 2024 अब अपने अंतिम पड़ाव पर आ गया है. एक जून को सातवें और अंतिम चरण का रण होगा. इस चरण में यूपी की 13 सीटों पर मतदान होना है. जिनमें कई दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है. इनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अनुप्रिया पटेल, महेंद्र नाथ पांडेय, पूर्व पीएम चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर, कांग्रेस लीडर अखिलेश प्रताप सिंह और रवि किशन शामिल हैं. आईए, जानते हैं किस सीट पर किसका किससे कड़ा मुकाबला है.

Etv Bharat
लोकसभा चुनाव 2024 के 7वें चरण के मतदान में इन दिग्गजों की किस्मत का फैसला करेगी जनता. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

लखनऊ: लोकसभा चुनाव 2024 के सातवें और अंतिम चरण के रण का प्रचार खत्म हो गया है. सातवें चरण में यूपी की 13 सीटों पर एक जून को मतदान होगा. जिसमें मतदाता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत अनुप्रिया पटेल, महेंद्र नाथ पांडेय, पूर्व पीएम चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर, कांग्रेस लीडर अखिलेश प्रताप सिंह, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय राय और अभिनेता रवि किशन जैसे प्रमुख नेताओं की किस्मत का फैसला करेंगे.

ये चरण NDA के लिए काफी चुनौतीपूर्ण माना जा रहा है. क्योंकि, पिछले चुनाव में NDA ने बस घोसी और गाजीपुर में मात खाई थी. इन दोनों सीटों पर भाजपा को हार का सामना करना पड़ा था. इसके अलावा बाकी सभी सीटें जीती थीं. इसमें 9 भाजपा ने खुद और 2 सीट उसकी सहयोगी अपना दल (एस) ने जीती थीं. बाकी दो में एक-एक सीट सपा और बसपा के खाते में गई थीं.

बलिया लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
बलिया लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

बलिया में पूर्व पीएम चंद्रशेखर के बेटे नीरज के लिए कड़ा मुकाबला: बलिया संसदीय क्षेत्र (Ballia Lok Sabha Seat) पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर की सियासी जमीन मानी जाती है. यहां से वह 8 बार चुनाव जीते थे. यही नहीं लगातार 6 बार चुनाव जीतकर संसद पहुंचे थे. उनके बाद यह सीट समाजवादी पार्टी के टिकट पर चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर जीतते रहे. लंबे अरसे से इस सीट पर जीत की बाट जोह रही भाजपा को 2014 में सफलता मिली. मोदी लहर में वीरेंद्र सिंह मस्त यहां से सांसद बने.

मौजूदा समय में भी वीरेंद्र ही सांसद हैं. भाजपा ने इस बार चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर को मैदान में उतारा है. वहीं समाजवादी पार्टी अपनी खोई हुई सीट को पाने के लिए सनातन पांडेय पर दांव खेला है. जबकि, बसपा ने यादव कार्ड खेलते हुए लल्लन सिंह यादव को टिकट दिया है. तीनों में टक्कर तो जबरदस्त देखने को मिल रही है. लेकिन, नीरज का पलड़ा भारी जरूर दिख रहा है. वैसे, जनता इनकी किस्मत का फैसला एक जून को करने वाली है. जिसका नतीजा 4 जून मतगणना के बाद आएगा.

बांसगांव लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
बांसगांव लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

क्या बांसगांव में सदल तोड़ेंगे उपविजेता का तमगा: बांसगांव लोकसभा सीट (Bansgaon Lok Sabha Seat) पर हर बार रोचक मुकाबला होता है. आज तक ज्यादातर जीत कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी को ही मिली है. दोनों दल यहां पर जीत की हैट्रिक लगाने में कामयाब रहे हैं. इस भाजपा ने हैट्रिक लगा चुके कमलेश पासवान को ही टिकट दिया है. वहीं इंडी गठबंधन के तहत कांग्रेस के खाते में आई इस सीट पर पार्टी ने सदल प्रसाद को उतारा है.

उनके बारे में एक खास बात ये है कि ये तीन बार यहां से चुनाव लड़ चुके हैं और तीनों ही बार उपविजेता रहे. तीनों ही बार वे बसपा के टिकट पर चुनाव लड़े. लेकिन, इस बार कांग्रेस के टिकट पर चुनावी मैदान में हैं. वहीं बसपा ने राम समुज को प्रत्याशी उतारा है. अब एक जून को देखना होगा कि जनता कमलेश पासवान को लगातार चौथी बार जीत का स्वाद चखाती है या फिर सदल प्रसाद उपविजेता से विजेता बनाएगी.

चंदौली लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
चंदौली लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

क्या चंदौली के मतदाताओं की नाराजगी दूर कर पाएंगे भाजपा के महेंद्र: देश की सबसे हॉट सीट वाराणसी का पड़ोसी संसदीय क्षेत्र चंदौली (Chandauli Lok Sabha Seat) भाजपा के लिए काफी अहम स्थान रखती है. दरअसल, वाराणसी से पीएम नरेंद्र मोदी लगातार तीसरी बार चुनाव लड़ रहे हैं. वहीं केंद्र सरकार में डॉ. महेंद्रनाथ पाण्डेय इस बार भी यहां से चुनावी रण में ताल ठोंक रहे हैं. सपा ने पूर्व मंत्री वीरेंद्र सिंह को चुनावी अखाड़े में उतारा है.

यादव-मुस्लिम के साथ ही कुछ हद तक राजपूतों का झुकाव भी उनकी ओर दिख रहा है. बसपा से सत्येन्द्र कुमार मौर्य मैदान में हैं. अब एक जून को देखना ये होगा कि मतदाता स्थानीय जनप्रतिनिधियों की नाराजगी से दूर मोदी-योगी की विकास यात्रा को तरजीह देती है या फिर जातीय समीकरण के हिसाब से सपा-बसपा को फायदा पहुंचाती है.

देवरिया लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
देवरिया लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

देवरिया में कहीं भाजपा को सांसद का टिकट काटना भारी न पड़ जाए: भाजपा ने देवरिया सीट (Devaria Lok Sabha Seat) पर इस बार अपने सांसद रमापति राम त्रिपाठी का टिकट काटकर शशांक मणि त्रिपाठी को मैदान में उतारा है. जबकि इंडिया गठबंधन के तहत कांग्रेस के खाते में आई इस सीट पर पार्टी ने अखिलेश प्रताप सिंह पर दांव खेला है. बसपा ने संदेश यादव उर्फ मिस्टर को टिकट दिया है. देवरिया सीट पर 17.54 लाख वोटर हैं. जिसमें से 9.57 लाख पुरुष और 7.96 लाख रुरुष वोटर हैं. इस सीट पर ब्राह्मण, राजपूत और कुर्मी वोटर निर्णायक भूमिका में रहते हैं.

इन्हें भाजपा का कैडर वोट भी माना जाता है. वैसे देवरिया सीट पर 13.9 फीसद मुस्लिम, अनुसूचित जाति के 14.2 फीसद, अनुसूचित जनजाति के 3.1 फीसद और सामान्य मतदाताओं की संख्या 19 फीसद के करीब है. देवरिया में सबसे ज्यादा ओबीसी वोटर हैं. जिनकी संख्या 52 फीसद है. अब एक जून ये फैसला हो जाएगा कि कौन सी जाति के लोग किस पार्टी के साथ हैं.

गाजीपुर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
गाजीपुर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

गाजीपुर में अफजाल को क्या मिलेगा मुख्तार की मौत का सहानुभूति वोट: गाजीपुर लोकसभा सीट (Ghazipur Lok Sabha Seat) पर भाजपा, सपा और बसपा में त्रिकोणीय मुकाबला देखने को मिल रहा है. सपा ने बसपा छोड़कर आए सांसद अफजाल अंसारी को प्रत्याशी बनाया है. जबकि, भाजपा ने जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा के करीबी पारसनाथ राय को टिकट दिया है. वहीं बसपा ने डॉ. उमेश कुमार सिंह प्रत्याशी बनाया है.

माफिया मुख्तार अंसारी की मौत के बाद ये पहला चुनाव होने जा रहा है. मुख्तार का गाजीपुर के साथ-साथ पड़ोस के बलिया, मऊ, आजमगढ़ और वाराणसी में भी प्रभाव माना जाता रहा है. अब देखना ये होगा कि अफजाल को उनके भाई की मौत के बाद क्या सहानुभूति वोट मिलता है या फिर यहां पर मनोज सिन्हा का सिक्का चलेगा. इसका फैसला जनता एक जून को करेगी.

घोसी लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
घोसी लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

घोसी में राय और राजभर की लड़ाई: घोसी लोकसभा सीट (Ghosi Lok Sabha Seat) भाजपा के लिए इस बार काफी चुनौतीपूर्ण है. पिछले चुनाव में भाजपा को यहां से हार का सामना करना पड़ा था. यही नहीं 2022 के विधानसभा चुनाव में भी इस सीट के 5 विधानसभा क्षेत्रों में से सिर्फ एक पर ही भाजपा को जीत मिली थी. दो सीट सपा को, एक सुभासपा को और एक बसपा को मिली थी. वैसे इस बार सुभासपा भाजपा के साथ है लेकिन, सीट को जीतना भाजपा के लिए चुनौती से कम नहीं है.

भाजपा ने घोसी सीट अपने सहयोगी सुभासपा को दी है. यहां से सुभासपा अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर के बेटे अरविंद राजभर चुनाव लड़ रहे हैं. सपा ने राजीव राय को उम्मीदवार बनाया है. बसपा ने यहां से दो बार सांसद रह चुके बालकृष्ण चौहान पर दांव लगाया है. बदले समीकरणों में राय और राजभर के बीच सिमटी इस जंग में ओम प्रकाश राजभर की साख दांव पर है. अब एक जून को देखना ये होगा कि समीकरण राजभर के पक्ष में बैठते हैं या राय को जीत दिलाते हैं.

गोरखपुर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
गोरखपुर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

गोरखपुर में गोरक्षपीठ बनाम जातीय समीकरण: (Gorakhpur Lok Sabha Seat) गोरक्षपीठ की खड़ाऊं लेकर भाजपा सांसद रवि किशन उसी आभा मंडल के सहारे दूसरी बार सांसद बनने के प्रयास में लगे हैं. भाजपा ने उन्हें लगातार दूसरी बार टिकट दिया है. वहीं, सपा ने भोजपुरी अभिनेता के सामने भोजपुरी अभिनेत्री को उतारा है. इंडी गठबंधन के तहत सपा के खाते में आई गोरखपुर सीट पर पार्टी ने काजल निषाद पर दांव खेला है.

इससे यहां का चुनाव जातीय समीकरण बनाम गोरक्षपीठ की आभा बन गया है. वैसे, निषाद बहुल संसदीय क्षेत्र मानकर सपा यहां निषाद पर ही दांव आजमाती रही है. लेकिन, ये दांव हमेशा बेअसर ही साबित हुआ है. बसपा ने यहां से जावेद सिमनानी को उतारा है. अब एक जून को देखना ये होगा कि मतदाता जातीय समीकरण बैठाते हैं या फिर गोरक्षपीठ की आभा अपना असर दिखाती है. इसका नतीजा 4 जून को आएगा.

कुशीनगर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
कुशीनगर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

कुशीनगर में क्या स्वामी प्रसाद मौर्य का सिक्का चलेगा: कुशीनगर लोकसभा सीट (Kushinagar Lok Sabha Seat) से स्वामी प्रसाद मौर्य भी ताल ठोक रहे हैं. जो इस बार किसी बड़े दल के साथ नहीं हैं और अकेले ही चुनाव मैदान में हैं. कुशीनगर सीट से भाजपा ने विजय दुबे को मैदान में उतारा है तो इंडी गठबंधन की तरफ से समाजवादी पार्टी ने अजय सिंह पर दांव खेला है.

भाजपा के विजय दुबे मौजूदा सांसद भी हैं. वहीं, बसपा ने एसएन चौहान को प्रत्याशी बनाया है. देखना होगा कि एक जून को मतदाता का झुकाव किस ओर होता है. मतदाता का झुकाव किस ओर होगा इसका नतीजा 4 जून को मतगणना के बाद आ जाएगा.

महाराजगंज लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
महाराजगंज लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

महाराजगंज में क्या चलेगी पंकज की चौधराहट: भाजपा ने महाराजगंज लोकसभा सीट (Maharajganj Lok Sabha Seat) पर अपने मौजूदा सांसद पंकज चौधरी को ही उतारा है. पंकज चौधरी इस बार हैट्रिक लगाने की तैयारी में हैं. इंडी गठबंधन के तहत यह सीट से कांग्रेस के खाते में है. कांग्रेस ने यहां से वीरेंद्र चौधरी को मैदान में उतारा है. जबकि बीएसपी ने मौसमे आलम पर दांव खेला है. यहां पर देखा जाए तो बात जन कल्याणकारी योजनाओं व विकास से शुरू होकर अब जातीय गणित बैठाने में उलझ गई है.

इस सीट पर अन्य पिछड़ा वर्ग के मतदाता 22 प्रतिशत, अनुसूचित जाति के 18 व मुस्लिम समाज 17 प्रतिशत हैं. कुर्मी व पटनवारों (पटेल) की संख्या नौ प्रतिशत है. वैश्य व निषाद मतदाता 7-7 प्रतिशत तो ब्राह्मण लगभग 8 व यादव 9 प्रतिशत हैं. क्षत्रिय मतदाताओं की संख्या जिले में लगभग 3 प्रतिशत है. वैसे, सीधी लड़ाई तो भाजपा और कांग्रेस में देखने को मिल रही है. लेकिन, बसपा भी कम नहीं है. बसपा के कैडर वोट पर भी भाजपा और कांग्रेस की नजर है.

मिर्जापुर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
मिर्जापुर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

मिर्जापुर में अनुप्रिया पटेल के सामने क्या चलेगा राजा भैया का खेल: मिर्जापुर लोकसभा सीट (Mirzapur Lok Sabha Seat) पर NDA की तरफ से अपना दल (एस) ने अपना प्रत्याशी उतारा है. अपना दल (एस) की अध्यक्ष अनुप्रिया पटेल यहां से प्रत्याशी हैं. इंडी गठबंधन की तरफ से समाजवादी पार्टी ने रमेश चंद बिंद को मैदान में उतारा है. बता दें कि रमेश चंद बिंद 2019 में भाजपा के टिकट पर भदोही से सांसद चुने गए थे.

लेकिन, इस बार टिकट कटने पर उन्होंने सपा का दामन थाम लिया और मिर्जापुर से लोकसभा चुनाव 2024 के रण में कूद गए. वहीं बसपा ने इस सीट से ब्राह्मण उम्मीदवार मनीष तिवारी पर दांव खेला है. इसके साथ ही मिर्जापुर सीट पर अनुप्रिया पटेल की बहन पल्लवी पटेल की पार्टी ने भी अपना प्रत्याशी उतारकर लड़ाई को और रोचक बना दिया है. अपना दल (कमेरावादी) से दौलत सिंह पटेल मैदान में हैं.

रॉबर्टगंज लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
रॉबर्टगंज लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

रॉबर्टगंज में वोटरों की चुप्पी प्रत्याशियों के माथे पर डाल रहीं चिंता की लकीरें: राबर्ट्सगंज लोकसभा सीट (Robertganj Lok Sabha Seat) भी भाजपा ने एनडीए की सहयोगी अपना दल (एस) को दी है. अपना दल (एस) ने यहां से रिंकी कोल को मैदान में उतारा है. जबकि समाजवादी पार्टी ने पूर्व सांसद छोटेलाल खरवार को उम्मीदवार बनाया है. बीएसपी ने धनेश्वर गौतम पर दांव खेला है.

लेकिन इस बार मतदाताओं की चुप्पी प्रत्याशियों के हौंसले को पस्त कर रही है. राजनीतिक दलों के दावे भी जनता में भरोसा पैदा नहीं कर पा रही है. बहरहाल एक जून वोटिंग होनी है और चिंता कम वोटिंग को लेकर है, जो प्रशासन से लेकर चुनाव लड़ रहे उमीदवारों के माथे पर बल डाले हुए है.

सलेमपुर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
सलेमपुर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

क्या सलेमपुर कुशवाहा की हैट्रिक रोक पाएंगे सपा के राजभर: सलेमपुर लोकसभा सीट (Salempur Lok Sabha Seat) से भाजप ने अपने मौजूदा सांसद रविंद्र कुशवाहा पर ही एक बार फिर भरोसा जताया है. कुशवाहा पिछले 2 चुनाव से लगातार सांसद बनते चले आ रहे हैं और इस बार उनके पास हैट्रिक लगाने का मौका है. उनकी हैट्रिक रोकने के लिए समाजवादी पार्टी ने रमाशंकर राजभर को मैदान में उतारा है.

जबकि, बसपा ने भीम राजभर पर दांव खेला है. अब यहां पर लड़ाई कुशवाहा बनाम राजभर हो गई है. वैसे सुभासपा के ओमप्रकाश राजभर भाजपा के साथ हैं. ऐसे में भाजपा का पलड़ा भारी दिख रहा है. लेकिन, कौन आगे रहेगा कौन पीछे इसका फैसला तो जनता एक जून को ही करेगी.

वाराणसी लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
वाराणसी लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

वाराणसी देखना होगा कि पीएम मोदी कितने अंतर से जीतते हैं: देश की सबसे हॉट सीट वाराणसी (Varanasi Lok Sabha Seat) से इस बार भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुनावी रण में कूदे हैं. पीएम मोदी इस सीट से पिछले 2 चुनाव से लगातार सांसद बनते चले आ रहे हैं.

इस बार उनके पास जीत की हैट्रिक लगाने का मौका है. जबकि उनके खिलाफ इंडी गठबंधन की तरफ से कांग्रेस ने अपने यूपी के प्रदेश अध्यक्ष अजय राय को उम्मीदवार बनाया है. वहीं, बसपा ने अथर जमाल लारी को मैदान में उतारकर समीकरण बिगाड़ने की कोशिश की है.

ये भी पढ़ेंः लोकसभा चुनाव का सातवां चरण; 13 सीटों पर पीएम मोदी सहित 317 प्रत्याशियों ने ठोंकी ताल, जानिए कौन कहां से किया नामांकन

ये भी पढ़ेंः एक क्लिक में जानें- मिर्जापुर लोकसभा सीट की लड़ाई, क्या अनुप्रिया पटेल मुश्किल में?

ये भी पढ़ेंः मिर्जापुर ने किसी भी प्रत्याशी को 3 बार नहीं जिताया? क्या बिंद की बगावत और 'राजा' की नाराजगी में घिर गईं अनुप्रिया पटेल?

लखनऊ: लोकसभा चुनाव 2024 के सातवें और अंतिम चरण के रण का प्रचार खत्म हो गया है. सातवें चरण में यूपी की 13 सीटों पर एक जून को मतदान होगा. जिसमें मतदाता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत अनुप्रिया पटेल, महेंद्र नाथ पांडेय, पूर्व पीएम चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर, कांग्रेस लीडर अखिलेश प्रताप सिंह, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय राय और अभिनेता रवि किशन जैसे प्रमुख नेताओं की किस्मत का फैसला करेंगे.

ये चरण NDA के लिए काफी चुनौतीपूर्ण माना जा रहा है. क्योंकि, पिछले चुनाव में NDA ने बस घोसी और गाजीपुर में मात खाई थी. इन दोनों सीटों पर भाजपा को हार का सामना करना पड़ा था. इसके अलावा बाकी सभी सीटें जीती थीं. इसमें 9 भाजपा ने खुद और 2 सीट उसकी सहयोगी अपना दल (एस) ने जीती थीं. बाकी दो में एक-एक सीट सपा और बसपा के खाते में गई थीं.

बलिया लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
बलिया लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

बलिया में पूर्व पीएम चंद्रशेखर के बेटे नीरज के लिए कड़ा मुकाबला: बलिया संसदीय क्षेत्र (Ballia Lok Sabha Seat) पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर की सियासी जमीन मानी जाती है. यहां से वह 8 बार चुनाव जीते थे. यही नहीं लगातार 6 बार चुनाव जीतकर संसद पहुंचे थे. उनके बाद यह सीट समाजवादी पार्टी के टिकट पर चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर जीतते रहे. लंबे अरसे से इस सीट पर जीत की बाट जोह रही भाजपा को 2014 में सफलता मिली. मोदी लहर में वीरेंद्र सिंह मस्त यहां से सांसद बने.

मौजूदा समय में भी वीरेंद्र ही सांसद हैं. भाजपा ने इस बार चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर को मैदान में उतारा है. वहीं समाजवादी पार्टी अपनी खोई हुई सीट को पाने के लिए सनातन पांडेय पर दांव खेला है. जबकि, बसपा ने यादव कार्ड खेलते हुए लल्लन सिंह यादव को टिकट दिया है. तीनों में टक्कर तो जबरदस्त देखने को मिल रही है. लेकिन, नीरज का पलड़ा भारी जरूर दिख रहा है. वैसे, जनता इनकी किस्मत का फैसला एक जून को करने वाली है. जिसका नतीजा 4 जून मतगणना के बाद आएगा.

बांसगांव लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
बांसगांव लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

क्या बांसगांव में सदल तोड़ेंगे उपविजेता का तमगा: बांसगांव लोकसभा सीट (Bansgaon Lok Sabha Seat) पर हर बार रोचक मुकाबला होता है. आज तक ज्यादातर जीत कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी को ही मिली है. दोनों दल यहां पर जीत की हैट्रिक लगाने में कामयाब रहे हैं. इस भाजपा ने हैट्रिक लगा चुके कमलेश पासवान को ही टिकट दिया है. वहीं इंडी गठबंधन के तहत कांग्रेस के खाते में आई इस सीट पर पार्टी ने सदल प्रसाद को उतारा है.

उनके बारे में एक खास बात ये है कि ये तीन बार यहां से चुनाव लड़ चुके हैं और तीनों ही बार उपविजेता रहे. तीनों ही बार वे बसपा के टिकट पर चुनाव लड़े. लेकिन, इस बार कांग्रेस के टिकट पर चुनावी मैदान में हैं. वहीं बसपा ने राम समुज को प्रत्याशी उतारा है. अब एक जून को देखना होगा कि जनता कमलेश पासवान को लगातार चौथी बार जीत का स्वाद चखाती है या फिर सदल प्रसाद उपविजेता से विजेता बनाएगी.

चंदौली लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
चंदौली लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

क्या चंदौली के मतदाताओं की नाराजगी दूर कर पाएंगे भाजपा के महेंद्र: देश की सबसे हॉट सीट वाराणसी का पड़ोसी संसदीय क्षेत्र चंदौली (Chandauli Lok Sabha Seat) भाजपा के लिए काफी अहम स्थान रखती है. दरअसल, वाराणसी से पीएम नरेंद्र मोदी लगातार तीसरी बार चुनाव लड़ रहे हैं. वहीं केंद्र सरकार में डॉ. महेंद्रनाथ पाण्डेय इस बार भी यहां से चुनावी रण में ताल ठोंक रहे हैं. सपा ने पूर्व मंत्री वीरेंद्र सिंह को चुनावी अखाड़े में उतारा है.

यादव-मुस्लिम के साथ ही कुछ हद तक राजपूतों का झुकाव भी उनकी ओर दिख रहा है. बसपा से सत्येन्द्र कुमार मौर्य मैदान में हैं. अब एक जून को देखना ये होगा कि मतदाता स्थानीय जनप्रतिनिधियों की नाराजगी से दूर मोदी-योगी की विकास यात्रा को तरजीह देती है या फिर जातीय समीकरण के हिसाब से सपा-बसपा को फायदा पहुंचाती है.

देवरिया लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
देवरिया लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

देवरिया में कहीं भाजपा को सांसद का टिकट काटना भारी न पड़ जाए: भाजपा ने देवरिया सीट (Devaria Lok Sabha Seat) पर इस बार अपने सांसद रमापति राम त्रिपाठी का टिकट काटकर शशांक मणि त्रिपाठी को मैदान में उतारा है. जबकि इंडिया गठबंधन के तहत कांग्रेस के खाते में आई इस सीट पर पार्टी ने अखिलेश प्रताप सिंह पर दांव खेला है. बसपा ने संदेश यादव उर्फ मिस्टर को टिकट दिया है. देवरिया सीट पर 17.54 लाख वोटर हैं. जिसमें से 9.57 लाख पुरुष और 7.96 लाख रुरुष वोटर हैं. इस सीट पर ब्राह्मण, राजपूत और कुर्मी वोटर निर्णायक भूमिका में रहते हैं.

इन्हें भाजपा का कैडर वोट भी माना जाता है. वैसे देवरिया सीट पर 13.9 फीसद मुस्लिम, अनुसूचित जाति के 14.2 फीसद, अनुसूचित जनजाति के 3.1 फीसद और सामान्य मतदाताओं की संख्या 19 फीसद के करीब है. देवरिया में सबसे ज्यादा ओबीसी वोटर हैं. जिनकी संख्या 52 फीसद है. अब एक जून ये फैसला हो जाएगा कि कौन सी जाति के लोग किस पार्टी के साथ हैं.

गाजीपुर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
गाजीपुर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

गाजीपुर में अफजाल को क्या मिलेगा मुख्तार की मौत का सहानुभूति वोट: गाजीपुर लोकसभा सीट (Ghazipur Lok Sabha Seat) पर भाजपा, सपा और बसपा में त्रिकोणीय मुकाबला देखने को मिल रहा है. सपा ने बसपा छोड़कर आए सांसद अफजाल अंसारी को प्रत्याशी बनाया है. जबकि, भाजपा ने जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा के करीबी पारसनाथ राय को टिकट दिया है. वहीं बसपा ने डॉ. उमेश कुमार सिंह प्रत्याशी बनाया है.

माफिया मुख्तार अंसारी की मौत के बाद ये पहला चुनाव होने जा रहा है. मुख्तार का गाजीपुर के साथ-साथ पड़ोस के बलिया, मऊ, आजमगढ़ और वाराणसी में भी प्रभाव माना जाता रहा है. अब देखना ये होगा कि अफजाल को उनके भाई की मौत के बाद क्या सहानुभूति वोट मिलता है या फिर यहां पर मनोज सिन्हा का सिक्का चलेगा. इसका फैसला जनता एक जून को करेगी.

घोसी लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
घोसी लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

घोसी में राय और राजभर की लड़ाई: घोसी लोकसभा सीट (Ghosi Lok Sabha Seat) भाजपा के लिए इस बार काफी चुनौतीपूर्ण है. पिछले चुनाव में भाजपा को यहां से हार का सामना करना पड़ा था. यही नहीं 2022 के विधानसभा चुनाव में भी इस सीट के 5 विधानसभा क्षेत्रों में से सिर्फ एक पर ही भाजपा को जीत मिली थी. दो सीट सपा को, एक सुभासपा को और एक बसपा को मिली थी. वैसे इस बार सुभासपा भाजपा के साथ है लेकिन, सीट को जीतना भाजपा के लिए चुनौती से कम नहीं है.

भाजपा ने घोसी सीट अपने सहयोगी सुभासपा को दी है. यहां से सुभासपा अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर के बेटे अरविंद राजभर चुनाव लड़ रहे हैं. सपा ने राजीव राय को उम्मीदवार बनाया है. बसपा ने यहां से दो बार सांसद रह चुके बालकृष्ण चौहान पर दांव लगाया है. बदले समीकरणों में राय और राजभर के बीच सिमटी इस जंग में ओम प्रकाश राजभर की साख दांव पर है. अब एक जून को देखना ये होगा कि समीकरण राजभर के पक्ष में बैठते हैं या राय को जीत दिलाते हैं.

गोरखपुर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
गोरखपुर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

गोरखपुर में गोरक्षपीठ बनाम जातीय समीकरण: (Gorakhpur Lok Sabha Seat) गोरक्षपीठ की खड़ाऊं लेकर भाजपा सांसद रवि किशन उसी आभा मंडल के सहारे दूसरी बार सांसद बनने के प्रयास में लगे हैं. भाजपा ने उन्हें लगातार दूसरी बार टिकट दिया है. वहीं, सपा ने भोजपुरी अभिनेता के सामने भोजपुरी अभिनेत्री को उतारा है. इंडी गठबंधन के तहत सपा के खाते में आई गोरखपुर सीट पर पार्टी ने काजल निषाद पर दांव खेला है.

इससे यहां का चुनाव जातीय समीकरण बनाम गोरक्षपीठ की आभा बन गया है. वैसे, निषाद बहुल संसदीय क्षेत्र मानकर सपा यहां निषाद पर ही दांव आजमाती रही है. लेकिन, ये दांव हमेशा बेअसर ही साबित हुआ है. बसपा ने यहां से जावेद सिमनानी को उतारा है. अब एक जून को देखना ये होगा कि मतदाता जातीय समीकरण बैठाते हैं या फिर गोरक्षपीठ की आभा अपना असर दिखाती है. इसका नतीजा 4 जून को आएगा.

कुशीनगर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
कुशीनगर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

कुशीनगर में क्या स्वामी प्रसाद मौर्य का सिक्का चलेगा: कुशीनगर लोकसभा सीट (Kushinagar Lok Sabha Seat) से स्वामी प्रसाद मौर्य भी ताल ठोक रहे हैं. जो इस बार किसी बड़े दल के साथ नहीं हैं और अकेले ही चुनाव मैदान में हैं. कुशीनगर सीट से भाजपा ने विजय दुबे को मैदान में उतारा है तो इंडी गठबंधन की तरफ से समाजवादी पार्टी ने अजय सिंह पर दांव खेला है.

भाजपा के विजय दुबे मौजूदा सांसद भी हैं. वहीं, बसपा ने एसएन चौहान को प्रत्याशी बनाया है. देखना होगा कि एक जून को मतदाता का झुकाव किस ओर होता है. मतदाता का झुकाव किस ओर होगा इसका नतीजा 4 जून को मतगणना के बाद आ जाएगा.

महाराजगंज लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
महाराजगंज लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

महाराजगंज में क्या चलेगी पंकज की चौधराहट: भाजपा ने महाराजगंज लोकसभा सीट (Maharajganj Lok Sabha Seat) पर अपने मौजूदा सांसद पंकज चौधरी को ही उतारा है. पंकज चौधरी इस बार हैट्रिक लगाने की तैयारी में हैं. इंडी गठबंधन के तहत यह सीट से कांग्रेस के खाते में है. कांग्रेस ने यहां से वीरेंद्र चौधरी को मैदान में उतारा है. जबकि बीएसपी ने मौसमे आलम पर दांव खेला है. यहां पर देखा जाए तो बात जन कल्याणकारी योजनाओं व विकास से शुरू होकर अब जातीय गणित बैठाने में उलझ गई है.

इस सीट पर अन्य पिछड़ा वर्ग के मतदाता 22 प्रतिशत, अनुसूचित जाति के 18 व मुस्लिम समाज 17 प्रतिशत हैं. कुर्मी व पटनवारों (पटेल) की संख्या नौ प्रतिशत है. वैश्य व निषाद मतदाता 7-7 प्रतिशत तो ब्राह्मण लगभग 8 व यादव 9 प्रतिशत हैं. क्षत्रिय मतदाताओं की संख्या जिले में लगभग 3 प्रतिशत है. वैसे, सीधी लड़ाई तो भाजपा और कांग्रेस में देखने को मिल रही है. लेकिन, बसपा भी कम नहीं है. बसपा के कैडर वोट पर भी भाजपा और कांग्रेस की नजर है.

मिर्जापुर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
मिर्जापुर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

मिर्जापुर में अनुप्रिया पटेल के सामने क्या चलेगा राजा भैया का खेल: मिर्जापुर लोकसभा सीट (Mirzapur Lok Sabha Seat) पर NDA की तरफ से अपना दल (एस) ने अपना प्रत्याशी उतारा है. अपना दल (एस) की अध्यक्ष अनुप्रिया पटेल यहां से प्रत्याशी हैं. इंडी गठबंधन की तरफ से समाजवादी पार्टी ने रमेश चंद बिंद को मैदान में उतारा है. बता दें कि रमेश चंद बिंद 2019 में भाजपा के टिकट पर भदोही से सांसद चुने गए थे.

लेकिन, इस बार टिकट कटने पर उन्होंने सपा का दामन थाम लिया और मिर्जापुर से लोकसभा चुनाव 2024 के रण में कूद गए. वहीं बसपा ने इस सीट से ब्राह्मण उम्मीदवार मनीष तिवारी पर दांव खेला है. इसके साथ ही मिर्जापुर सीट पर अनुप्रिया पटेल की बहन पल्लवी पटेल की पार्टी ने भी अपना प्रत्याशी उतारकर लड़ाई को और रोचक बना दिया है. अपना दल (कमेरावादी) से दौलत सिंह पटेल मैदान में हैं.

रॉबर्टगंज लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
रॉबर्टगंज लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

रॉबर्टगंज में वोटरों की चुप्पी प्रत्याशियों के माथे पर डाल रहीं चिंता की लकीरें: राबर्ट्सगंज लोकसभा सीट (Robertganj Lok Sabha Seat) भी भाजपा ने एनडीए की सहयोगी अपना दल (एस) को दी है. अपना दल (एस) ने यहां से रिंकी कोल को मैदान में उतारा है. जबकि समाजवादी पार्टी ने पूर्व सांसद छोटेलाल खरवार को उम्मीदवार बनाया है. बीएसपी ने धनेश्वर गौतम पर दांव खेला है.

लेकिन इस बार मतदाताओं की चुप्पी प्रत्याशियों के हौंसले को पस्त कर रही है. राजनीतिक दलों के दावे भी जनता में भरोसा पैदा नहीं कर पा रही है. बहरहाल एक जून वोटिंग होनी है और चिंता कम वोटिंग को लेकर है, जो प्रशासन से लेकर चुनाव लड़ रहे उमीदवारों के माथे पर बल डाले हुए है.

सलेमपुर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
सलेमपुर लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

क्या सलेमपुर कुशवाहा की हैट्रिक रोक पाएंगे सपा के राजभर: सलेमपुर लोकसभा सीट (Salempur Lok Sabha Seat) से भाजप ने अपने मौजूदा सांसद रविंद्र कुशवाहा पर ही एक बार फिर भरोसा जताया है. कुशवाहा पिछले 2 चुनाव से लगातार सांसद बनते चले आ रहे हैं और इस बार उनके पास हैट्रिक लगाने का मौका है. उनकी हैट्रिक रोकने के लिए समाजवादी पार्टी ने रमाशंकर राजभर को मैदान में उतारा है.

जबकि, बसपा ने भीम राजभर पर दांव खेला है. अब यहां पर लड़ाई कुशवाहा बनाम राजभर हो गई है. वैसे सुभासपा के ओमप्रकाश राजभर भाजपा के साथ हैं. ऐसे में भाजपा का पलड़ा भारी दिख रहा है. लेकिन, कौन आगे रहेगा कौन पीछे इसका फैसला तो जनता एक जून को ही करेगी.

वाराणसी लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी.
वाराणसी लोकसभा सीट के प्रमुख प्रत्याशी. (फोटो क्रेडिट; Etv Bharat)

वाराणसी देखना होगा कि पीएम मोदी कितने अंतर से जीतते हैं: देश की सबसे हॉट सीट वाराणसी (Varanasi Lok Sabha Seat) से इस बार भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चुनावी रण में कूदे हैं. पीएम मोदी इस सीट से पिछले 2 चुनाव से लगातार सांसद बनते चले आ रहे हैं.

इस बार उनके पास जीत की हैट्रिक लगाने का मौका है. जबकि उनके खिलाफ इंडी गठबंधन की तरफ से कांग्रेस ने अपने यूपी के प्रदेश अध्यक्ष अजय राय को उम्मीदवार बनाया है. वहीं, बसपा ने अथर जमाल लारी को मैदान में उतारकर समीकरण बिगाड़ने की कोशिश की है.

ये भी पढ़ेंः लोकसभा चुनाव का सातवां चरण; 13 सीटों पर पीएम मोदी सहित 317 प्रत्याशियों ने ठोंकी ताल, जानिए कौन कहां से किया नामांकन

ये भी पढ़ेंः एक क्लिक में जानें- मिर्जापुर लोकसभा सीट की लड़ाई, क्या अनुप्रिया पटेल मुश्किल में?

ये भी पढ़ेंः मिर्जापुर ने किसी भी प्रत्याशी को 3 बार नहीं जिताया? क्या बिंद की बगावत और 'राजा' की नाराजगी में घिर गईं अनुप्रिया पटेल?

Last Updated : May 31, 2024, 9:41 AM IST
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.