Panchang 22 February : चंद्रमा पुष्य नक्षत्र में रहेगा, आज का समय शुभ कार्यों के लिए है सर्वोत्तम

author img

By ETV Bharat Hindi Team

Published : Feb 22, 2024, 12:01 AM IST

Panchang 22 February

Today Panchang In Hindi : आज तारीख 22 फरवरी और दिन गुरुवार, माघ महीने की शुक्ल पक्ष त्रयोदशी तिथि है. आज के दिन चंद्रमा कर्क राशि और पुष्य नक्षत्र में रहेगा. किसी भी शुभ कार्य के लिए इसे सर्वश्रेष्ठ नक्षत्र माना जाता है. पढ़ें पूरी खबर..

आज का पंचांग : आज 22 फरवरी 2024 गुरुवार, के दिन माघ महीने की शुक्ल पक्ष त्रयोदशी तिथि है. इस तिथि पर भगवान शिव और कामदेव का शासन है. नई किताबें लिखने, कर्मकांड और नृत्य के लिए अच्छा दिन माना जाता है. आज गुरु पुष्य योग, सर्वार्थ सिद्धि योग, अमतृ सिद्धि योग और रवि योग भी बन रहा है. त्रयोदशी तिथि दोपरह 01.21 बजे तक है.

आध्यात्मिक गतिविधियों के लिए अच्छा है नक्षत्र
आज के दिन चंद्रमा कर्क राशि और पुष्य नक्षत्र में रहेगा. यह नक्षत्र कर्क राशि में 3:20 से 16:40 तक विस्तार लिया हुआ है. इसके देवता बृहस्पति है और नक्षत्र के स्वामी ग्रह शनि हैं. किसी भी शुभ कार्य के लिए इसे सर्वश्रेष्ठ नक्षत्र माना जाता है. खेलकूद, विलासिता की वस्तुओं का आनंद लेने, उद्योग शुरू करने, कुशल श्रम, चिकित्सा उपचार, शिक्षा शुरू करने, यात्रा शुरू करने, दोस्तों को मिलने, कुछ सामान खरीदने और बेचने, आध्यात्मिक गतिविधियों के साथ, सजावट, ललित कलाओं को सीखने के लिए यह एक अच्छा नक्षत्र है.

आज के दिन का वर्जित समय
आज के दिन 14:19 से 15:46 बजे तक राहुकाल रहेगा. ऐसे में कोई शुभ कार्य करना हो, तो इस अवधि से परहेज करना ही अच्छा रहेगा. इसी तरह यमगंड, गुलिक, दुमुहूर्त और वर्ज्यम से भी परहेज करना चाहिए.

  1. 22 फरवरी का पंचांग
  2. माघ शुक्ल पक्ष त्रयोदशी तिथि, नई पुस्तकें लिखने और कर्मकांड के लिए है अच्छी
  3. विक्रम संवत : 2080
  4. मास : माघ
  5. पक्ष : शुक्ल पक्ष त्रयोदशी
  6. दिन : गुरुवार
  7. तिथि : शुक्ल पक्ष त्रयोदशी
  8. योग : सौभाग्य
  9. नक्षत्र : पुष्य
  10. करण : तैतिल
  11. चंद्र राशि : कर्क
  12. सूर्य राशि : कुंभ
  13. सूर्योदय : सुबह 07:07 बजे
  14. सूर्यास्त : शाम 06:39 बजे
  15. चंद्रोदय : शाम 04.21 बजे
  16. चंद्रास्त : सुबह 06.23 बजे (23 फरवरी)
  17. राहुकाल : 14:19 से 15:46
  18. यमगंड : 07:07 से 08:33

ये भी पढ़ें

  1. जानें, कौन थे दिगंबर जैन आचार्य विद्यासागर महाराज, कैसा था उनका जीवन
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.