ETV Bharat / international

किसकी गड़बड़ी से दुबई एयरपोर्ट से लेकर शॉपिंग मॉल तक हुआ पानी-पानी, जानें वजह - Dubai floods cloud seeding

author img

By ETV Bharat Hindi Team

Published : Apr 17, 2024, 1:52 PM IST

दुबई में हुई अत्यधिक बारिश ने सबको चौंका दिया है. वहां की सड़कों पर भी कुछ-कुछ वैसे ही हालात हैं, जैसे मुंबई की सड़कों पर बारिश के दिनों में होती है. सड़कें जाम हैं, लोगों का आना-जाना मुश्किल हो रहा है, जगह-जगह पानी एकत्रित हो चुका है, मॉल तक में पानी घुस गया है. दुबई में 'करवाई गई बारिश' का असर पड़ोसी देश ओमान, कतर, बहरीन और सऊदी अरब में भी देखा गया है. अचानक से ही ऐसी बारिश क्यों हुई, क्या होती है क्लाउड सीडिंग, पढ़ें पूरी खबर.

cloud seeding
क्लाउड सीडिंग दुबई में बारिश

हैदराबाद : पिछले दो दिनों से दुबई में हुई बारिश ने 75 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है. एक दिन में ही साल भर की बारिश हो गई. एयरपोर्ट से लेकर मॉल तक प्रभावित हैं. लोग यह समझ नहीं पा रहे हैं कि आखिर इस रेगिस्तानी इलाके में इतनी बारिश कैसे हो गई. वह इलाका जहां पर बालू, गर्मी और धूल का प्रकोप रहता है, वहां पर रिकॉर्ड तोड़ बारिश देखकर हर कोई पूछ रहा है, आखिर यह सब कैसे हुआ.

Dubai flood
बारिश के बाद दुबई की सड़कों का ऐसा था हाल

आपको बता दें कि यह सबकुछ क्लाउड सीडिंग की वजह से हुई है. क्लाउड सीडिंग यानी इसे आर्टिफिशियल बारिश भी कहा जाता है. इसके जरिए वांछित जगह पर बारिश करवाई जाती है. दुबई में इसकी टेस्टिंग हो रही थी. लेकिन किसी कारणवश पूरी प्रक्रिया में गड़बड़ी हो गई. इस लापरवाही की वजह से दुबई की सड़कों पर पानी ही पानी दिख रहा है.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार दुबई के अल-एन एयरपोर्ट से क्लाउड सीडिंग के लिए विमान ने उड़ान भरी थी. सोमवार और मंगलवार के बीच कुल सात बार विमान को उड़ाया गया. इसी प्रक्रिया में कुछ गलती हो गई. दरअसल, इस प्रक्रिया में जितने धूलकण को वातावरण में रहना था, उससे अधिक मात्रा में धूलकण वायुमंडल में शामिल हो गया. इसलिए अधिक मात्रा में बारिश हो गई.

Dubai flood
बारिश के बाद दुबई की सड़कों का ऐसा था हाल

हालांकि, अभी तक यह नहीं पता चल सका है कि इसका असर दुबई से बाहर क्यों पड़ा. दुबई के आसपास के इलाकों में भी साउदर्न जेट स्ट्रीम बह रही है. इसे गर्म हवा भी कहा जाता है. आपको बता दें कि रेगिस्तानी इलाकों में अक्सर धूल भरी आंधी चलती है. इसकी वजह से धूलकण ऊपर उठते हैं और वह क्लाउड सीडिंग का काम करता है. धूलकण को कंडेनसेशन न्यूक्लियाई कहा जाता है.

मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि इस बारिश ने दुबई में 75 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया है. वैसे, क्लाउड सीडिंग कोई नई घटना नहीं है. यूएई ने 1982 में इसका प्रयोग किया था. तब से इसका उपयोग अक्सर किया जाता रहा है, लेकिन इसे कंट्रोल्ड तरीके से यूज किया जा रहा था.

Dubai flood
दुबई की सड़कों का ऐसा था हाल

आसमान में क्लाउड बनाने से पहले वातावरण में धूलकण की कितनी मात्रा है, प्रदूषण के कितने तत्व हैं, कितना एयरोसोल है, इन सबकी जांच होती है. उसके बाद ही क्लाउड सीडिंग की जाती है. यानी विमानों को एक खास ऊंचाई पर ले जाकर एक खास केमिकल को छोड़ा जाता है. वह केमिकल धूलकण के साथ मिलकर बादल का निर्माण करते हैं. इस केमिकल में सिल्वर आयोडाइड, ड्राई आइस और सोडियम क्लोराइड या फिर नमक का प्रयोग किया जाता है.

यह भी देखा जाता है कि उस वायुमंडल में कम के कम 40 फीसदी क्लाउड पहले से मौजूद हो. क्लाउड में ह्यूमिडिटी रहनी चाहिए. अगर ह्युमिडिटी की कमी होती है, तो समस्या आ सकती है. मौसम के जानकारों का कहना है कि रेगिस्तानी इलाकों में ज्यादा बारिश करवाए जाने से वहां का प्राकृतिक आवास प्रभावित होता है. बाढ़ आने का भी खतरा बन जाता है.

Dubai flood
बारिश के बाद दुबई की सड़कों का ऐसा था हाल

बारिश का दुबई में ऐसा पड़ा असर

दुनिया के सबसे बड़े शॉपिंग सेंटरों में से एक मॉल ऑफ एमिरेट्स का नजारा कुछ अलग ही था. छत से पानी बह रहा है, सीढ़ियों पर पानी जमा है, छत के कुछ हिस्से गिर गए, यह सब देखकर किसी को भी यकीन नहीं हो रहा था कि यह सब मॉल के अंदर हो रहा है. शारजाह सिटी सेंटर और डेरा सिटी सेंटर का भी कुछ ऐसा ही हाल था.

क्योंकि यूएई में आमतौर पर अधिक बारिश नहीं होती है, इसलिए यहां पर जल निकासी की बेहतर व्यवस्था नहीं है. अगर अधिक मात्रा में बारिश हो जाती है, तो सड़कों पर भारी जाम लग जाता है, बाढ़ जैसी स्थिति आ जाती है. पड़ोस के देश बहरीन, कतर और सऊदी अरब में भी इस बारिश का असर देखा गया है.

ये भी पढ़ें : ओमान में बाढ़ से मरने वालों की संख्या बढ़कर 18 हुई, दुबई एयरपोर्ट प्रभावित

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.