ETV Bharat / health

खून के बहाव को बेहतर करने के साथ ही कई समस्याओं-दर्द से राहत दिलाती है ये थेरेपी - Cupping Therapy

author img

By ETV Bharat Hindi Team

Published : Apr 24, 2024, 7:22 AM IST

Updated : Apr 25, 2024, 6:01 AM IST

Cupping Therapy : हिजामा थेरेपी को आमतौर पर कम या ज्यादा गंभीर कमर व सिर-दर्द तथा मांसपेशियों से जुड़ी समस्याओं में काफी लाभकारी माना जाता है. हालांकि जानकारों की माने तो और भी ऐसी कई समस्याएं हैं जिनमें यह थेरेपी काफी लाभ दे सकती है, बशर्ते Cupping Therapy किसी प्रशिक्षित व अनुभवी थेरेपिस्ट द्वारा की जाए. hijama therapy , unani medicine , pain relief , alternative medicine , cupping therapy .
Cupping Therapy or Hijama Therapy Benefits
कपिंग थेरेपी या हिजामा थेरेपी

हैदराबाद : दुनियाभर में वैकल्पिक चिकित्सा के तहत बहुत-सी ऐसी पद्धतियां हैं जो आम चिकित्सा पद्धतियों से थोड़ी अलग होती हैं लेकिन कुछ विशेष अवस्थाओं में बहुत लाभकारी होती हैं. ऐसी ही एक चिकित्सा पद्धति है हिजामा या कपिंग थेरेपी. Alternative medicine यूनानी चिकित्सा पद्धति के तहत आने वाली Hijama Therapy or Cupping Therapy को कमर दर्द, जोड़ों के दर्द, माइग्रेन, स्लिप डिस्क, सर्वाइकल, पैरों में सूजन तथा सुन्नता आदि समस्याओं में काफी असरदार माना जाता है.

क्या है हिजामा थेरेपी : हिजामा थेरेपी में समस्या को दूर करने के लिए प्रभावित स्थान पर विशेष प्रकार के कप रख कर उनमें मशीन की मदद से वैक्यूम पैदा किया जाता है. जिससे वे त्वचा से चिपक जाते हैं और त्वचा कप में ऊपर की ओर खिंच जाती है. Hijama Therapy दो प्रकार की होती है, ड्राई तथा वेट ( Dry cupping and wet cupping ) इन दोनों प्रकारों में ही में कमर, पीठ, पेट, हाथ, पैर या शरीर के अन्य प्रभावित या समस्याग्रस्त हिस्सों में कप लगाए जाते हैं. ये कप सामान्यतः शीशे के होते हैं लेकिन कई स्थानों पर बांस,चीनी मिट्टी या सिलिकॉन आदि कुछ अन्य प्रकार के कपों का उपयोग भी किया जाता है. ‘ड्राई’ कपिंग ( Dry cupping ) में कपों को कुछ वक्त के लिए ऐसे ही छोड़ दिया जाता है, वहीं ‘वेट’ कपिंग ( Wet cupping ) में जब कप लगाने के तीन से पांच मिनट बाद उस स्थान पर खून इकठ्ठा होने लगता है. तो त्वचा पर बहुत हल्के कट लगा दिए जाते हैं, जिससे इकट्ठा हुआ रक्त बूंद-बूंद में कप में बाहर आ जाता है. थोड़ी देर बाद इन कपों को हटा दिया जाता है. जानकारों की मानें तो Cupping Therapy एक सुरक्षित थेरेपी है.

Cupping Therapy or Hijama Therapy Benefits
कपिंग थेरेपी या हिजामा थेरेपी

Cupping Therapy or Hijama Therapy Benefits : हिजामा थेरेपी के लाभ
इंदौर के हिजामा थेरेपिस्ट तथा फिजियोथेरेपिस्ट डॉ रुद्र भाषाणी बताते हैं कि, कई बार किसी बीमारी या अन्य कारण से शरीर के विभिन्न अंगों में रक्त के संचार में समस्या या अनियमितता होने या कई बार रक्त में टॉक्सिन के एकत्रित होने के कारण पीड़ित में कई तरह के दर्द, रोग या समस्याएं होने लगती हैं. वह बताते हैं कि Hijama Therapy शरीर के सभी अंगों में रक्त संचार में हो रही परेशानियों को कम करने के साथ रक्त में मौजूद टॉक्सिन यानी विषैले पदार्थ तथा मृत कोशिकाओं व तत्वों को बाहर निकालने में भी मददगार होती हैं. वहीं Cupping Therapy में मांसपेशियों व त्वचा के ऊत्तकों पर भी दबाव पड़ता है जिससे उनमें लचीलापन बढ़ता है और मांसपेशियों में जकड़न व कसाव की समस्या में आराम मिलता है. साथ ही व्यक्ति की किसी भी कार्य को करने की शारीरिक क्षमता भी बेहतर होती है.

Cupping Therapy or Hijama Therapy Benefits
हिजामा या कपिंग थेरेपी

डॉ रुद्र बताते हैं कि अलग-अलग समस्याओं के आधार पर कई बार इस थेरेपी को करवाने से पहले कुछ रक्त जांच, एक्स रे या कुछ अन्य टेस्ट करवाने की सलाह भी दी जाती है. आमतौर पर सामान्य दर्द या परेशानी हो या समस्या ( Back pain , joint pain , migraine , slipped disc , cervical , swelling , numbness in legs ) की शुरुआत ही हो तो दो सिटिंग में ही समस्या में राहत मिल जाती है. लेकिन अगर समस्या पुरानी हो तथा ज्यादा परेशान कर रही हो तो निवारण में ज्यादा सिटिंग भी लग सकती है. वह बताते हैं कि इस थेरेपी को एक साल में 4 बार करवाया जा सकता है.

वह बताते हैं कि यह थेरेपी सिर्फ रीढ़ की हड्डी या कमर से जुड़े दर्द जैसे सियाटिका, स्लिप डिस्क , स्पॉन्डिलाइटिस, घुटने का दर्द , गठिया, सिरदर्द या माइग्रेन में ही राहत नहीं दिलाती है, बल्कि नसों से जुड़ी बीमारियों व मांसपेशियों से जुड़ी समस्याओं, चर्म रोग, रक्तचाप, कार्पल टनल सिंड्रोम, महिलाओं में महावारी या बांझपन की समस्या, गर्भाशय व हार्मोनल विकार, थायरॉइड की समस्या, अस्थमा, साइन्साइटिस, खराब कोलेस्ट्रॉल के बढ़ने, मधुमेह, मोटापा, पेट या आंत के रोग (आईबीडी आदि) , त्वचा संबंधी सामान्य रोग जैसे चेहरे पर दाने व दाग-धब्बे तथा गंजेपन जैसी समस्याओं में काफी राहत दिला सकती है.

Cupping Therapy Myths : भ्रम
वह बताते हैं कि कई लोगों में थेरेपी के बाद त्वचा पर बनने वाले निशानों या थेरेपी के दौरान होने वाले दर्द को लेकर काफी भ्रम रहते हैं. दरअसल थेरेपी के बाद कपिंग के चलते थेरेपी वाले स्थान पर लाल, गोल कप जैसे निशान बन जाते हैं. लेकिन ये एक से दो सप्ताह में गायब हो जाते हैं. वहीं इस प्रक्रिया में ज्यादा दर्द नहीं होता हैं. सामान्य तौर पर इस प्रक्रिया में इंजेक्शन लगने के दौरान होने वाले दर्द से भी कम दर्द होता है. यह जरूर है की इस थेरेपी के बाद कुछ समय के लिए ज्यादा संवेदनशील त्वचा वाले लोगों में त्वचा में हल्की जलन, जकड़न तथा खुजली महसूस हो सकती है, लेकिन वह भी ऐसी नहीं होती है जिससे किसी प्रकार भी असुविधा हो और यह भी बहुत जल्दी दूर हो जाती है. इसके अलावा Cupping Therapy के बाद त्वचा पर एंटीसेप्टिक क्रीम या लोशन भी लगाया जाता है जिससे त्वचा पर किसी प्रकार के संक्रमण होने का जोखिम भी कम या समाप्त हो जाता है.

सावधानी जरूरी
डॉ रुद्र बताते हैं कि वैसे तो हिजामा से पहले थेरेपिस्ट, थेरेपी लेने वाले व्यक्ति के स्वास्थ्य की पूरी जानकारी लेकर ही यह थेरेपी देता है. लेकिन कुछ विशेष स्वास्थ्य समस्याओं व अवस्थाओं वाले लोगों को Cupping Therapy कराने के लिए मना किया जाता है. जैसे रक्त या रक्तस्राव विकार जैसे हीमोफीलिया, दीप वेन थ्रोम्बोसिस आदि से पीड़ित लोग, एनिमिक लोग यानी जिनमें खून की कमी हो, स्ट्रोक या मिर्गी का इतिहास वाले लोग, ऐसे व्यक्ति जिन्हे ह्रदय के आपरेशन के बाद पेसमेकर या कोई अन्य डिवाइस लगी हो, कुछ विशेष प्रकार की सर्जरी के बाद तथा गर्भवती महिलाओं को Hijama Therapy करवाने के लिए मना किया जाता है. इसके अलावा थेरेपी लेने वाले व्यक्ति को इस थेरेपी के बारे में तथा इससे जुड़ी सावधानियों के बारें में पूरी जानकारी लेने के बाद Hijama Therapy करवानी चाहिए. hijama therapy , unani medicine , pain relief , alternative medicine , cupping therapy .

ये भी पढ़ें-

इस समय की गई एरोबिक-एक्सरसाइज, डायबिटीज व मोटापे से पीड़ितों के लिए हो सकती है फायदेमंद

डायबिटीज पीड़ितों के लिए रामबाण साबित हो सकती है आयुर्वेदिक डाइट!

Last Updated :Apr 25, 2024, 6:01 AM IST
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.