राज्य बाल संरक्षण आयोग के सदस्य श्याम त्रिपाठी बोले- CM YOGI के बुलडोजर के खौफ से बाल अपराधों में आई कमी

author img

By ETV Bharat Uttar Pradesh Desk

Published : Nov 10, 2023, 10:58 PM IST

बालकों के अधिकारों और उत्पीड़ने की समीक्षा बैठक

बालकों को मिलने वाले अधिकारों और उत्पीड़न की स्थिति की समीक्षा करने के लिए यूपी राज्य बाल संरक्षण आयोग के सदस्य श्याम त्रिपाठी बाराबंकी पहुंचे. उन्होंने कहा कि यूपी में बुलडोजर के डर से बच्चों के साथ होने वाला अपराध कम (Child crime reduced in UP) हुआ है.

CM YOGI के बुलडोजर के खौफ से यूपी में बाल अपराध हुआ कम

बाराबंकी: दूसरे प्रदेशों की तुलना में यूपी में बाल अपराध कम है. इसके पीछे मुख्यमंत्री योगी के बुलडोजर का खौफ है. यह कहना है यूपी के राज्य बाल संरक्षण आयोग के सदस्य श्याम त्रिपाठी का. वह शुक्रवार को बाराबंकी जिले में बाल उत्पीड़न मामलों की समीक्षा करने आए थे. इस दौरान ईटीवी भारत से बात करते हुए उन्होंने कहा कि बाल अपराध तो बढ़ा है, लेकिन दूसरे प्रदेशों की तुलना में कम है. उन्होंने कहा कि इतनी बड़ी आबादी में अपराधों की ये संख्या बहुत कम है. आने वाली 17 नवम्बर से आयोग एक नई शुरुआत करने जा रहा है.

उत्तर प्रदेश राज्य बाल संरक्षण आयोग के सदस्य श्याम त्रिपाठी
उत्तर प्रदेश राज्य बाल संरक्षण आयोग के सदस्य श्याम त्रिपाठी
गौरतलब है, शासन द्वारा निर्धारित बालकों को मिलने वाले अधिकारों और उत्पीड़न की क्या स्थिति है, इसकी समीक्षा करने उत्तर प्रदेश राज्य बाल संरक्षण आयोग के सदस्य श्याम त्रिपाठी बाराबंकी पहुंचे. उन्होंने विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक कर हालात का जायजा लिया गया. इससे पहले उन्होंने जिला अस्पताल में बने वन स्टॉप सेंटर, हरख स्थित कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय और आंगनबाड़ी केंद्र का निरीक्षण किया. निरीक्षण के दौरान मिली खामियों पर उन्होंने जिम्मेदारों को सख्त निर्देश दिए.
श्याम त्रिपाठी ने विभागीय बैठक कर हालात का जायजा लिया
श्याम त्रिपाठी ने विभागीय बैठक कर हालात का जायजा लिया

इसके बाद उन्होंने डीआरडीए सभागार में जिला प्रोबेशन अधिकारी, श्रम विभाग, आईसीडीएस, शिक्षा, स्वास्थ्य और जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के अधिकारियों और कर्मचारियों के साथ बैठक कर उनसे रिपोर्ट ली. इस दौरान राज्य बाल संरक्षण आयोग के सदस्य श्याम त्रिपाठी ने अधिकारियों और कर्मचारियों को निर्देश देते हुए कहा कि पूरी संवेदनाओं के साथ बच्चों के संरक्षण से जुड़ी योजनाओं को मूर्त रूप में लागू किया जाए. उनकी सरकार हर हाल में बाल अधिकार संरक्षण को लेकर गम्भीर है. बच्चों का किसी प्रकार का कोई उत्पीड़न न हो, इसके लिए समय-समय पर अभियान चलाया जाता है.

20 नवम्बर से 10 दिसम्बर तक एक बार फिर आयोग के निर्देश पर श्रम विभाग अभियान चलाएगा. केंद्र और सूबे की सरकार बच्चों को लेकर संवेदनशील है. हम कहीं भी बाल श्रम नहीं होने देंगे. श्याम त्रिपाठी ने कहा कि सारे विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि बच्चों के साथ किसी प्रकार का कोई उत्पीड़न न हो. उन्होंने बताया कि बाराबंकी जिले की दो वारदातें बहुत ही जघन्य हुई हैं. कुछ महीनों पहले रामनगर थाना क्षेत्र में एक बच्ची के साथ एक पुरुष द्वारा की गई हैवानियत और चार दिन पहले नगर कोतवाली क्षेत्र में एक बच्ची के साथ 60 साल के पुरुष द्वारा की गई हैवानियत को आयोग ने गंभीरता से लिया है.


सदस्य श्याम त्रिपाठी ने कहा कि तमाम सूचनाएं आयोग तक समय से नहीं पहुंच पाती हैं. जिसके लिए 17 नवम्बर 2023 से आयोग आम जनमानस के लिए एक वाट्सएप नम्बर चलाने जा रहा है. जिस पर बच्चों के साथ होने वाले किसी भी उत्पीड़न या बच्चों के अधिकारों का हनन होने पर तुरंत मैसेज किया जा सकेगा. ताकि आयोग उस पर तुरंत कार्रवाई कर सके.

यह भी पढ़ें: अनशन करने मेरठ पहुंचे यति नरसिंहानंद को पुलिस ने रोका, कहा- हिन्दुओं की आवाज दबाकर पीएम नहीं बन पाएंगे योगी


यह भी पढ़ें: सीएम योगी ने पीएम उज्ज्वला योजना के लाभार्थियों को वितरित किये गैस सिलेंडर, होली त्योहार को लेकर किया यह वादा

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.