TCS, Wipro को पीछे छोड़ने के लिए तैयार हैं Jio क्लाऊड कम्प्यूटिंग, जानें इसके बारे में

author img

By ETV Bharat Hindi Desk

Published : Dec 1, 2023, 1:27 PM IST

Cloud Computing

मुकेश अंबानी ने क्लाऊड कम्प्यूटिंग में जबसे एंट्री करने की बात कही है. ये शब्द काफी चर्चा में आ गया है. इसको लेकर लोगों के मन में काफी सवाल उठ रहे है. क्या है क्लाऊड कम्प्यूटिंग, कैसे काम करता है, आने वाले समय में जिओ क्लाउड कंप्यूटिंग से क्या होगा फायदा. आइये समझते हैं खबर में...

नई दिल्ली: क्लाऊड कम्प्यूटिंग आज से नहीं बल्कि कई दशकों से चला आ रहा है. अब मुकेश अंबानी क्लाऊड कम्प्यूटिंग के जरिए लैपटॉप बाजार में एंट्री करने वाले हैं. इस खबर ने एक बार फिर से निवेशकों और यूजर्स में क्लाऊड कम्प्यूटिंग को लेकर नई जिज्ञासा पैदा कर दी है. क्लाऊड कम्प्यूटिंग क्या है? यह कैसे काम करता है? आने वाले समय में जिओ क्लाउड कंप्यूटिंग से यूजर्स क्या फायदा होगा और यह क्लाउड कम्प्यूटिंग के बाजार को कैसे प्रभावित करेगा. इस खबर में हम इन सब सवालों को समझने का प्रयास करेंगे.

Cloud Computing
क्लाऊड कम्प्यूटिंग

अमेजन वेब, माइक्रोसॉफ्ट एज्योर, इंफोसिस, टीसीएस, गूगल क्लाउड प्लेटफार्म, विप्रो ने पहले से क्लाऊड कम्प्यूटिंग क्षेत्र में काम कर रहे हैं. अब मुकेश अंबानी क्लाउड कम्प्यूटिंग के साथ एक अलग तरह का पैकेज ऑफर कर रहे हैं. अब यह भारतीय बाजारों के लिए एक स्थापित तथ्य है कि मुकेश अंबानी जिस भी क्षेत्र में एंट्री करते हैं वहां उनकी शुरुआत धमाकेदार होती है.

Cloud Computing
क्लाऊड कम्प्यूटिंग

वैसे तो भारत में पहले से कई कंपनियां है जो क्लाऊड कम्प्यूटिंग का यूज करती है. लेकिन सभी के पास केवल सॉफ्टवेयर या वो केवल अपनी सर्वर की सुविधा दे रहे हैं. अब रिलायंस जियो भारत में हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के साथ क्लाऊड कम्प्यूटिंग लाने की योजना बना रहा है.

क्या है क्लाऊड कम्प्यूटिंग?
क्लाउड कंप्यूटिंग किसी भी चीज के लिए एक सामान्य शब्द है जिसमें इंटरनेट पर होस्ट की गई सेवाएं देना शामिल है. इन क्लाउड कंप्यूटिंग को तीन प्रकार में बाटा गया है- सेवा के रूप में बुनियादी ढांचा (IaaS), सेवा के रूप में प्लेटफॉर्म (PaaS) और सेवा के रूप में सॉफ्टवेयर (SaaS) शामिल है. बता दें कि क्लाउड निजी या सार्वजनिक हो सकता है.

बता दें कि सार्वजनिक क्लाउड इंटरनेट पर किसी को भी सर्विस बेचता है. एक निजी क्लाउड एक मालिकाना नेटवर्क या डेटा सेंटर है जो कुछ निश्चित पहुंच और अनुमति सेटिंग्स के साथ सीमित संख्या में लोगों को होस्ट की गई सेवाएं देता है. निजी या सार्वजनिक, क्लाउड कंप्यूटिंग का लक्ष्य कंप्यूटिंग संसाधनों और आईटी सेवाओं तक आसान, स्केलेबल पहुंच प्रदान करना है. क्लाउड इंफ्रास्ट्रक्चर में क्लाउड कंप्यूटिंग मॉडल के उचित कार्यान्वयन के लिए आवश्यक हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर भाग शामिल होते हैं. क्लाउड कंप्यूटिंग को यूटिलिटी कंप्यूटिंग या ऑन-डिमांड कंप्यूटिंग के रूप में भी सोचा जा सकता है.

क्लाउड कंप्यूटिंग कैसे काम करती है?
क्लाउड कंप्यूटिंग क्लाइंट डिवाइसों को दूरस्थ भौतिक सर्वर, डेटाबेस और कंप्यूटर से इंटरनेट पर डेटा और क्लाउड एप्लिकेशन तक पहुंचने में सक्षम बनाकर काम करती है. एक इंटरनेट नेटवर्क कनेक्शन फ्रंट एंड को लिंक करता है, जिसमें एक्सेसिंग क्लाइंट डिवाइस, ब्राउजर, नेटवर्क और क्लाउड सॉफ्टवेयर एप्लिकेशन शामिल होते हैं. बैक एंड के साथ, जिसमें डेटाबेस, सर्वर और कंप्यूटर शामिल होते हैं. बैक एंड एक रिपॉजिटरी के रूप में कार्य करता है, जो डेटा को संग्रहीत करता है जिसे फ्रंट एंड द्वारा एक्सेस किया जाता है.

कैसे जिओ बनाएगा इसे किफाइती?
पारंपरिक लैपटॉप से विपरीत, JioCloud लैपटॉप को इसके संचालन के लिए हार्डवेयर की आवश्यकता नहीं होगी. इसके बजाय, यह कंप्यूटिंग कार्यों को करने के लिए, स्थिर इंटरनेट कनेक्शन पर निर्भर होकर काम करेगा. बता दें कि कम समय में क्लाउड कंप्यूटिंग ज्यादा काम करने में सक्षम रहेगा. Jio Cloud प्राथमिक सेवा देने के रूप में काम करेगा, जो अपने सर्वर पर स्टोरेज और प्रोसेसिंग पावर दोनों देगा. यह लैपटॉप की लागत को काफी कम कर देगा, जिससे यह मौजूदा औसत 50,000 रुपये से नीचे आ जाएगी.

ये भी पढ़ें-

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.