ETV Bharat / state

Delhi Murder Case: अपने शातिराना चाल से भी बच नहीं पाएगा साहिल, जानें एक्सपर्ट व्यू

author img

By

Published : May 31, 2023, 6:31 PM IST

Updated : May 31, 2023, 6:48 PM IST

दिल्ली के शाहबाद डेयरी इलाके में नाबालिग की हत्या की कड़ियां जोड़ने के क्रम में दिल्ली पुलिस शातिर साहिल को लेकर बुधवार सुबह वारदात की जगह पहुंची. सीन रीक्रिएट किया गया. बावजूद इसके अभी भी चाकू पर असमंजस बरकरार है.

चाकू के लिए पुलिस को गुमराह कर रहा साहिल
चाकू के लिए पुलिस को गुमराह कर रहा साहिल
चाकू के लिए पुलिस को गुमराह कर रहा साहिल

नई दिल्ली: शाहबाद डेयरी में नाबालिग लड़की की हत्या के मामले की जांच कर रही दिल्ली पुलिस को आरोपी साहिल खान ने गुमराह कर रहा है. आरोपी ने अभी तक पुलिस को यह नहीं बताया है कि उसने हत्या में इस्तेमाल किया चाकू कहां छुपाया है. पुलिस चाकू की तलाश में उसे लेकर कई जगह जा चुकी है. पुलिस का कहना है कि इससे यह साबित होता है कि साहिल कितना शातिर है. दरअसल, हत्या में प्रयुक्त हथियार किसी भी मामले में जांच का अहम साक्ष्य होता है. उसके न मिलने पर केस कमजोर होने की आशंका रहती है.

चाकू ना मिले तो भी पर्याप्त सबूत: कानून के जानकारों का कहना है कि आपराधिक मामलों में वारदात में प्रयोग किया गया हथियार अहम साक्ष्य होता है. लेकिन ऐसा भी नहीं है कि हथियार के बिना आरोपी को दोषी करार नहीं दिया जा सकता है. सुप्रीम कोर्ट की अधिवक्ता जूही अरोड़ा ने बताया कि शाहबाद डेरी मामले में इतने चश्मदीद गवाह हैं कि चाकू न मिले तो भी आरोपी बच नहीं पाएगा. उन्होंने बताया कि सबसे अहम सबूत सीसीटीवी कैमरे की फुटेज है. यह इलेक्ट्रॉनिक एविडेंस है, जिसे किसी भी तरह से खारिज नहीं किया जा सकता है.

दर्जन भर से ज्यादा चश्मदीद गवाह: जूही अरोड़ा ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज के अलावा हत्या में प्रयोग किया गया पत्थर पुलिस ने बरामद कर लिया है. उस पर भी खून के निशान मिले हैं. यह भी अहम साक्ष्य माना जाएगा. ऐसे बहुत से मामलों में आरोपियों को कोर्ट ने दोषी करार दिया है, जिनमें हत्या में प्रयुक्त हथियार बरामद नहीं हुआ है. उन्होंने बताया कि 2022 में सुप्रीम कोर्ट ने एक फैसले में कहा था कि वारदात में प्रयुक्त हथियार नहीं मिलता है, लेकिन यदि अभियोजन पक्ष के पास सीसीटीवी कैमरे की फुटेज और चश्मदीद गवाह हैं, तो उनके आधार पर दोष साबित किया जा सकता है.

फास्ट ट्रैक कोर्ट में दिया जाना चाहिए मामला: अरोड़ा ने बताया कि इस तरह के जघन्य अपराध के मामलों को फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुना जाना चाहिए. बिहार में पोक्सो के एक मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 1 दिन के अंदर पूरी सुनवाई करके आरोपी को सजा सुना दी थी. हालांकि, फास्ट ट्रैक कोर्ट में औसतन 122 दिन में ट्रायल पूरा किया जा सकता है. कई मामले ऐसे भी आए हैं, जहां साढ़े 3 माह से लेकर और 1 साल के अंदर तक ट्रायल पूरा कर लिया गया है.

ये भी पढ़ें: Delhi Murder Case: लगातार बयान बदल रहा साहिल, नाबालिग की हत्या में 7 किरदार का अहम रोल, जानें

लव जिहाद का एंगल: शाहबाद डेरी इलाके में हुए हत्याकांड में अब राजनीति जमकर हो रही है. पीड़ित परिवार के घर आकर विभिन्न राजनितिक दलों के नेताओं ने परिवार से मुलाकात की और उचित न्याय दिलाने का आश्वासन दिया. अब विश्वगुरु भारत न्यास की संस्थापिका साध्वी समाहिता ने भी इस घटना की कड़ी निंदा की है. उन्होंने इस मामले को लव जिहाद एक उदाहरण बताया है.

अपने शातिराना चाल से भी बच नहीं पाएगा साहिल

दरअसल, साध्वी समाहिता बुधवार को दिल्ली के रोहिणी इलाके में पहुंची. यहां उन्होंने एक सवाल में इस हत्याकांड के आरोपी के खिलाफ जमकर बरसी. साध्वी ने कहा कि ये कोई मामूली घटना नहीं है. ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए. साध्वी ने कहा कि अकसर देखा जाता है कि एक विशेष धर्म और समुदाय द्वारा लड़कियों और महिलाओ को निशाना बनाया जाता है. बावजूद इसके ऐसे लोगों के खिलाफ किसी तरह कि कोई ठोस कार्यवाही नहीं की जाती है.

ये भी पढ़ें: Brutal murder in Delhi: साहिल को लेकर शाहबाद डेयरी में पुलिस ने सीन रीक्रिएट किया, चाकू पर असमंजस बरकरार

चाकू के लिए पुलिस को गुमराह कर रहा साहिल

नई दिल्ली: शाहबाद डेयरी में नाबालिग लड़की की हत्या के मामले की जांच कर रही दिल्ली पुलिस को आरोपी साहिल खान ने गुमराह कर रहा है. आरोपी ने अभी तक पुलिस को यह नहीं बताया है कि उसने हत्या में इस्तेमाल किया चाकू कहां छुपाया है. पुलिस चाकू की तलाश में उसे लेकर कई जगह जा चुकी है. पुलिस का कहना है कि इससे यह साबित होता है कि साहिल कितना शातिर है. दरअसल, हत्या में प्रयुक्त हथियार किसी भी मामले में जांच का अहम साक्ष्य होता है. उसके न मिलने पर केस कमजोर होने की आशंका रहती है.

चाकू ना मिले तो भी पर्याप्त सबूत: कानून के जानकारों का कहना है कि आपराधिक मामलों में वारदात में प्रयोग किया गया हथियार अहम साक्ष्य होता है. लेकिन ऐसा भी नहीं है कि हथियार के बिना आरोपी को दोषी करार नहीं दिया जा सकता है. सुप्रीम कोर्ट की अधिवक्ता जूही अरोड़ा ने बताया कि शाहबाद डेरी मामले में इतने चश्मदीद गवाह हैं कि चाकू न मिले तो भी आरोपी बच नहीं पाएगा. उन्होंने बताया कि सबसे अहम सबूत सीसीटीवी कैमरे की फुटेज है. यह इलेक्ट्रॉनिक एविडेंस है, जिसे किसी भी तरह से खारिज नहीं किया जा सकता है.

दर्जन भर से ज्यादा चश्मदीद गवाह: जूही अरोड़ा ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज के अलावा हत्या में प्रयोग किया गया पत्थर पुलिस ने बरामद कर लिया है. उस पर भी खून के निशान मिले हैं. यह भी अहम साक्ष्य माना जाएगा. ऐसे बहुत से मामलों में आरोपियों को कोर्ट ने दोषी करार दिया है, जिनमें हत्या में प्रयुक्त हथियार बरामद नहीं हुआ है. उन्होंने बताया कि 2022 में सुप्रीम कोर्ट ने एक फैसले में कहा था कि वारदात में प्रयुक्त हथियार नहीं मिलता है, लेकिन यदि अभियोजन पक्ष के पास सीसीटीवी कैमरे की फुटेज और चश्मदीद गवाह हैं, तो उनके आधार पर दोष साबित किया जा सकता है.

फास्ट ट्रैक कोर्ट में दिया जाना चाहिए मामला: अरोड़ा ने बताया कि इस तरह के जघन्य अपराध के मामलों को फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुना जाना चाहिए. बिहार में पोक्सो के एक मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट ने 1 दिन के अंदर पूरी सुनवाई करके आरोपी को सजा सुना दी थी. हालांकि, फास्ट ट्रैक कोर्ट में औसतन 122 दिन में ट्रायल पूरा किया जा सकता है. कई मामले ऐसे भी आए हैं, जहां साढ़े 3 माह से लेकर और 1 साल के अंदर तक ट्रायल पूरा कर लिया गया है.

ये भी पढ़ें: Delhi Murder Case: लगातार बयान बदल रहा साहिल, नाबालिग की हत्या में 7 किरदार का अहम रोल, जानें

लव जिहाद का एंगल: शाहबाद डेरी इलाके में हुए हत्याकांड में अब राजनीति जमकर हो रही है. पीड़ित परिवार के घर आकर विभिन्न राजनितिक दलों के नेताओं ने परिवार से मुलाकात की और उचित न्याय दिलाने का आश्वासन दिया. अब विश्वगुरु भारत न्यास की संस्थापिका साध्वी समाहिता ने भी इस घटना की कड़ी निंदा की है. उन्होंने इस मामले को लव जिहाद एक उदाहरण बताया है.

अपने शातिराना चाल से भी बच नहीं पाएगा साहिल

दरअसल, साध्वी समाहिता बुधवार को दिल्ली के रोहिणी इलाके में पहुंची. यहां उन्होंने एक सवाल में इस हत्याकांड के आरोपी के खिलाफ जमकर बरसी. साध्वी ने कहा कि ये कोई मामूली घटना नहीं है. ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए. साध्वी ने कहा कि अकसर देखा जाता है कि एक विशेष धर्म और समुदाय द्वारा लड़कियों और महिलाओ को निशाना बनाया जाता है. बावजूद इसके ऐसे लोगों के खिलाफ किसी तरह कि कोई ठोस कार्यवाही नहीं की जाती है.

ये भी पढ़ें: Brutal murder in Delhi: साहिल को लेकर शाहबाद डेयरी में पुलिस ने सीन रीक्रिएट किया, चाकू पर असमंजस बरकरार

Last Updated : May 31, 2023, 6:48 PM IST
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.