ट्रेन से सोने की तस्करी; कमर में बांधकर म्यांमार से लाए थे 20 बिस्किट, कीमत दो करोड़ से ज्यादा

author img

By ETV Bharat Hindi Team

Published : Jan 8, 2024, 10:14 AM IST

Etv Bharat

Gold Smuggling in Brahmaputra Express Train: डायरेक्ट्रेड ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस की टीम ने सोने के बिस्किट के साथ दो तस्कर गिरफ्तार किए हैं. एक तस्कर महाराष्ट्र और दूसरा तमिलनाडु का रहने वाला है. दोनों ने पुलिस को तस्करी के पूरे रूट के बारे में बताया.

वाराणसी: डीआरआई की टीम ने वाराणसी सिटी स्टेशन पर ट्रेन के जरिए सोने की तस्करी पकड़ी है. टीम ने ट्रेन से लाई गई दो करोड़ रुपए से अधिक अवैध सोने की बड़ी खेप बरामद की है. डायरेक्ट्रेड ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस यानी डीआरआई के अधिकारियों ने म्यांमार से तस्करी करने वाले महाराष्ट्र तमिलनाडु निवासी दो तस्करों को गिरफ्तार भी किया है. इनके कब्जे से 3 किलो 320 ग्राम सोना बरामद किया गया है. जिसकी कीमत दो करोड़ 7 लाख 84 हजार 139 रुपए है.

दरअसल बीते कुछ दिनों से सोना तस्करी करने वालों ने अपना काम करने का तरीका बदल दिया है. पहले विमान से यह तस्करी का सोना लाया जाता था. लेकिन, अब तस्कर इसे किसी आसपास के छोटे स्टेशन पर लेकर पहुंचकर वाराणसी तक पहुंच रहे हैं. पिछले दिनों बड़ी मात्रा में कैंट रेलवे स्टेशन पर फॉरेन करेंसी पकड़े जाने के बाद ट्रेन से सोने की बड़ी खेप बरामदगी का यह तीसरा मामला है.

डीआरआई के अधिकारियों का कहना है कि रविवार को वाराणसी इकाई के अधिकारियों को सूचना मिली थी कि म्यांमार से सोने की तस्करी कर विदेशी सोने की बड़ी खेप ब्रह्मपुत्र एक्सप्रेस से दिल्ली ले जाई जा रही है. इसकी गिरफ्तारी के लिए चंदौली के नगर स्टेशन आउटर से डीआरआई टीम के अधिकारी ब्रह्मपुत्र एक्सप्रेस ट्रेन में सवार हो गए थे और संदिग्धों की खोजबीन की जा रही थी.

ब्रह्मपुत्र एक्सप्रेस की बोगी नंबर एच1 में एक-एक व्यक्ति की तलाशी हो रही थी. जिसमें एक यात्री अरविंद और दूसरे अमित की तलाशी के दौरान उनके कमर में कपड़ा बंधा हुआ मिला. कपड़ा खुलवाने में इसमें ब्राउन तपे में लपेटे हुए 16 सोने के बिस्किट बरामद हुए हैं. अमित के भी कमर में इसी तरह सोने के चार बिस्किट मिले हैं. इन यात्रियों को वाराणसी सिटी स्टेशन पर उतार कर न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजा गया है.

पूर्वांचल के राज्यों में तस्करी करने वाले महाराष्ट्र औप तमिलनाडु के दो तस्करों को पकड़े जाने के बाद बड़े खुलसे की उम्मीद है. सोने के तस्कर तमिलनाडु के कोयंबटूर निवासी अरविंद चंद्रकांत और महाराष्ट्र के सांगली का रहने वाला अमित श्रीरंग जाधव यह खेप म्यांमार से लाकर असम गुवाहाटी के पास कामाख्या धाम तक आता था. कामाख्या में अरविंद और अमित को डिलीवरी दी जाती थी और इसके बाद दोनों इसे वाराणसी में लाकर डिलीवर कर देते थे.

वाराणसी से दूसरे लोग इसे लेकर दिल्ली के लिए रवाना होते थे. अब पुलिस इस पूरे नेक्सस को तलाश में जुटी हुई है. वाराणसी में दो महीने में इस टीम ने मुंबई और वाराणसी की टीमों के संयुक्त प्रयास से करोड़ों का सोना पड़ा है. दो भाइयों से लगभग 8.7 किलो सोना जिसकी कीमत 5.30 करोड़ थी. इसे भी डीआरआई ने कैंट स्टेशन पर मध्य प्रदेश जा रही एक ट्रेन से ही बरामद किया था.

ये भी पढ़ेंः नकाबपोश बदमाशों ने लूट के लिए मां और उसकी एक साल की बेटी को मार डाला, पति को भी किया गंभीर

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.