हसदेव बचाओ आंदोलन की आग पहुंची राजनांदगांव, जल जंगल और जमीन की लड़ाई हुई तेज, कांग्रेस ने खोला मोर्चा

author img

By ETV Bharat Chhattisgarh Desk

Published : Jan 17, 2024, 8:21 PM IST

Updated : Jan 17, 2024, 9:29 PM IST

Hasdeo Bachao Andolan

Tribal Congress Committee Protest आदिवासी कांग्रेस कमेटी ने हसदेव बचाओ आंदोलन को अपना समर्थन दिया है. बुधवार को राजनांदगांव के जय स्तंभ चौक में केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया गया. इस दौरान आदिवासी समाज के लोगों ने राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन देकर अनुरोध किया है कि हसदेव में जंगल की कटाई बंद की जाए. Hasdeo Bachao Andolan

राजनांदगांव में आदिवासी कांग्रेस कमेटी ने किया प्रदर्शन

राजनांदगांव: हसदेव बचाओ आंदोलन को अपना समर्थन देते हुए राजनांदगांव के जय स्तंभ चौक में आदिवासी कांग्रेस कमेटी द्वारा प्रदर्शन करते हुए जल जंगल जमीन बचाने के लिए केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई. इस दौरान कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाने का आरोप लगाया.

कांग्रेस ने हसदेव आंदोलन का किया समर्थन: राजनांदगांव शहर के जयस्तंभ चौक में हसदेव बचाओ आंदोलन को लेकर आदिवासी कांग्रेस कमेटी द्वारा प्रदर्शन किया गया. आदिवासी कांग्रेस कमेटी ने हसदेव बचाओ आंदोलन को अपना समर्थन दिया है. इसी के तहत आदिवासी कांग्रेस कमेटी द्वारा प्रदर्शन किया गया. इस दौरान केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शनकारियों ने जमकर नारेबाजी की. उन्होंने हसदेव में जंगल कटाई बंद करने की मांग की है.

आदिवासी समाज जंगल पर निर्भर रहता है,जिससे उसका जीवन चलता है. हसदेव में वृक्षों की कटाई की जा रही है. जिससे आदिवासी समाज के लोग बेघर होकर रोजी-रोटी के लिए तरसेंगे. हमारी मांग है कि हसदेव में जल्द से जल्द जंगल की कटाई बंद की जाए. - गेमू कुंजाम, जिला अध्यक्ष, आदिवासी कांग्रेस

मोदी सरकार पर लगाए गंभीर आरोप: इस दौरान आदिवासी कांग्रेस कमेटी के सदस्यों ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर गंभीर आरोप लगाए. मोदी सरकार पर उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाने और सत्ता का दुरुपयोग करने के आरोप लगाए गए. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि "वनांचल क्षेत्र की जल, जंगल और जमीन पर आदिवासियों का पहला अधिकार है. अगर जंगल काटा जाएगा तो जल नहीं बचेगा."

राष्ट्रपति के नाम कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन: राजनांदगांव के जस्तंभ चौक में कांग्रेस ने आदिवासी समाज के लोगों के साथ प्रदर्शन किया. इस दौरान हसदेव बचाओ आंदोलन को लेकर राष्ट्रपति के नाम कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा गया. प्रदर्शन के दौरान आदिवासी समाज के लोगों ने राष्ट्रपति से अनुरोध किया है कि हसदेव में जल्द से जल्द जंगल की कटाई बंद की जाए.

हसदेव अरण्य में पेड़ कटाई का विरोध, आदिवासी छात्रों ने निकाली रैली
हसदेव का जंगल, अडानी की खदानें, पेसा कानून आखिर क्या है परसा कोल ब्लॉक की पूरी दास्तां
हसदेव में पेड़ों की कटाई पर क्यों चढ़ा है छत्तीसगढ़ का सियासी पारा ?
Last Updated :Jan 17, 2024, 9:29 PM IST
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.