Patna News : लगातार 7वें दिन हड़ताल पर बने रहे PMC के सफाई कर्मी, सरकार की ओर से अब तक कोई पहल नहीं होने से नाराजगी

author img

By ETV Bharat Bihar Team

Published : Sep 27, 2023, 11:05 PM IST

Patna Municipal Corporation

पटना में जगह-जगह कूड़ा फेंका हुआ आपको दिखाई पड़ जाएगा, क्योंकि सातवें दिन भी सफाईकर्मियों की हड़ताल जारी रही. उनका कहना है कि जबतक वार्त नहीं होगी काम पर नहीं लौटेंगे. इधर निगम का अपना ही बयान है. आगे पढ़ें पूरी खबर...

पटना : पटना नगर निगम के सफाई कर्मी अपनी मांगों को लेकर बुधवार को लगातार सातवें दिन हड़ताल पर बने रहे. सफाई कर्मियों का कहना है कि कल गुरुवार को भी हड़ताल जारी रहेगा. सफाई कर्मियों के हड़ताल के कारण पटना शहर की स्थिति नारकीय होते जा रही है. गंदगी अब सड़कर बदबू देने लगा है. सड़क पर जगह-जगह कूड़े कचरे का अंबार लग गया है. हालांकि नगर निगम का कहना है कि वैकल्पिक व्यवस्था के तहत कचरा का उठाव किया जा रहा है. बहुत सारे सफाई कर्मी कार्य पर हैं लेकिन धरातल पर इसका असर नहीं दिख रहा है.

ये भी पढ़ें - Patna Nagar Nigam Strike : 'काम नहीं तो वेतन नहीं'.. पटना कूड़े का ढेर क्यों बन गया है?

पटना में सफाईकर्मियों की हड़ताल जारी : पटना नगर निगम संयुक्त कर्मचारी समन्वय समिति के प्रवक्ता जितेंद्र कुमार ने बताया कि बीते दिनों उन लोगों ने मुख्यमंत्री से वार्ता के लिए अधिकारियों को ज्ञापन दिया है लेकिन अब तक कोई निमंत्रण नहीं आया है. जब तक वार्ता नहीं होती है कोई निष्कर्ष नहीं आता है हड़ताल जारी रहेगी.

''पिछली बार जब हड़ताल पर गए थे तो तेजस्वी यादव आए थे. बोले थे अभी 10 दिन मंत्री बने हुआ है, इसलिए हड़ताल तोड़ दीजिए हम आपकी मांगों पर सकारात्मक विचार करेंगे लेकिन हुआ कुछ नहीं. तेजस्वी यादव नगर विकास विभाग के मंत्री हैं. पटना में एक सप्ताह से सफाई कर्मी हड़ताल पर हैं इसकी जानकारी भी उन्हें है. बावजूद इसके ना इस पर वह कोई बयान दे रहे हैं, ना ही सफाई कर्मियों से वार्ता कर हड़ताल को तुड़वाने की कोशिश कर रहे हैं.''- जितेंद्र कुमार, प्रवक्ता, पटना नगर निगम संयुक्त कर्मचारी समन्वय समिति

Patna Municipal Corporation
कुछ इस तरह पटना में बिखरा है कचड़ा.

पटना में कूड़े का अंबार : जितेंद्र कुमार ने बताया कि पटना नगर निगम में 4300 दैनिक सफाई कर्मी है 3200 आउटसोर्सिंग व्यवस्था के तहत दैनिक सफाई कर्मी है जबकि परमानेंट सफाई कर्मी 2000 के करीब हैं. इनमें से 70% से अधिक हड़ताल में शामिल है. नगर आयुक्त झूठा बयान बाजी कर रहे हैं कि 60% से अधिक सफाई कर्मी ड्यूटी पर लौट आए हैं. ऐसा होता तो जगह-जगह पटना में कूड़े कचरे का अंबार नहीं लगा रहता. सफाई कर्मी भी पटना के हैं और वह भी शहर को स्वच्छ बनाए रखना चाहते हैं लेकिन उनकी मांगों पर कोई सुनवाई नहीं हो रहा है जिस कारण मजबूरन हड़ताल पर सफाई कर्मियों को जाना पड़ा है.

'काम करने वालों को किया जा रहा परेशान' : वहीं शहर के नगर आयुक्त अनिमेष पाराशर का कहना है कि आने वाले पर्व त्योहार को देखते हुए प्रत्येक वार्ड में 20 सफाई कर्मियों की अतिरिक्त प्रतिनियुक्ति की गई है. रात में शहर के प्रमुख शौक चौराहा पर लगे कचरे के ढ़ेर को हटाने का काम किया जा रहा है. काम करने वाले सफाई कर्मियों को कुछ अराजक तत्वों द्वारा परेशान किया जा रहा है और जबरन हड़ताल में शामिल करने के लिए उनके कार्य में बाधा उत्पन्न की जा रही है.

''कार्य में बाधा उत्पन्न करने वाले कचरा वाहन के ड्राइवर के विरुद्ध एफआईआर दर्ज कर डीटीओ के पास उनका ड्राइविंग लाइसेंस रद्द करने का आवेदन भी दिया जा रहा है. नगर निगम ने निर्णय लिया है कि रात्रि 8:00 बजे से सुबह 8:00 बजे तक विशेष अभियान चलाकर कचरा का उठाव कराया जाएगा. नगर निगम के अधिकारी इसका निरीक्षण भी करेंगे.''- अनिमेष पाराशर, आयुक्त, पटना नगर निगम

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.