Bihar Caste Survey: 'बर्खास्त करिए मंत्रिमंडल'.. जातीय गणना की रिपोर्ट पर जीतन राम मांझी की CM नीतीश से बड़ी मांग

author img

By ETV Bharat Bihar Desk

Published : Oct 4, 2023, 2:37 PM IST

Updated : Oct 4, 2023, 2:52 PM IST

पूर्व सीएम जीतनराम मांझी

पूर्व सीएम जीतनराम मांझी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बड़ी डिमांड रख दी है. मांझी ने ट्वीट कर कहा है कि, राज्य मंत्रिमंडल को बर्खास्त कर संख्या आधारित मंत्री परिषद का गठन करें, जिससे समाज के हर तबके को प्रतिनिधित्व का मौका मिल पाए. पढ़ें पूरी खबर

पटना: बिहार में जातीय गणना के आंकड़े जारी होने के बाद इसको लेकर सियासत शुरू हो गई है. वहीं, इसको लेकर पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने नीतीश कुमार से बड़ी मांग कर दी है. मांझी ने नीतीश कुमार से मंत्रिमंडल बर्खास्त कर जातीय गणना के आंकड़ों के आधार पर मंत्री परिषद गठन की डिमांड रखी है.

ये भी पढ़ें: Caste Census Politics: जाति आधारित जनगणना पर बोले मांझी- जनसंख्या के अनुसार हिस्सा चाहिए

'नीतीश कुमार करें मंत्रिमंडल बर्खास्त' : जीतन राम मांझी ने ट्वीट कर लिखा, ''जिसकी जितनी संख्या भारी,मिले उसको उतनी हिस्सेदारी के तर्ज पर मैं नीतीश कुमार से आग्रह करता हूं कि राज्य मंत्रिमंडल को बर्खास्त कर संख्या आधारित मंत्री परिषद का गठन करें, जिससे समाज के हर तबके को प्रतिनिधित्व का मौका मिल पाए. दरी बिछाने वाला ज़माना गया,जो बिछाएगा वही बैठेगा.''

  • जिसकी जितनी संख्या भारी,मिले उसको उतनी हिस्सेदारी के तर्ज पर मैं मा.@NitishKumar जी से आग्रह करता हुं कि राज्य मंत्रिमंडल को बर्खास्त कर संख्या आधारित मंत्री परिषद का गठन करें जिससे समाज के हर तबके को प्रतिनिधित्व का मौका मिल पाए।
    दरी बिछाने वाला ज़माना गया,जो बिछाएगा वही बैठेगा।

    — Jitan Ram Manjhi (@jitanrmanjhi) October 4, 2023 " class="align-text-top noRightClick twitterSection" data=" ">

जाति गणना रिपोर्ट में विसंगति- मांझी : बता दें कि 2 अक्टूबर को जातीय गणना की रिपोर्ट सार्वजनिक करने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार की सर्वदलीय बैठक बुलाई थी. बैठक में भी मांझी ने अपनी बात रखी थी. उन्होंने संभावना जताई थी कि रिपोर्ट में कुछ विसंगति है, क्योंकि गणना रिपोर्ट में मांझी की जो जनसंख्या 3.08 फीसदी बताई गई, उससे कही अधिक है. इससे पहले भी मांझी ने ट्वीट कर हकमारी की बात कही थी. साथ ही आबादी के हिसाब से आरक्षण की मांग की थी.

  • बिहार में जाति आधारित गणना की रिपोर्ट आ चुकी है।सूबे के SC/ST,OBC,EBC की आबादी तो बहुत है पर उनके साथ हक़मारी की जा रही है।
    मैं माननीय @NitishKumar जी से आग्रह करता हूं कि राज्य में आबादी के प्रतिशत के हिसाब से सरकारी नौकरी/स्थानीय निकायों में आरक्षण लागू करें,वही न्याय संगत होगा pic.twitter.com/W5frVBOsJJ

    — Jitan Ram Manjhi (@jitanrmanjhi) October 2, 2023 " class="align-text-top noRightClick twitterSection" data=" ">

बिहार सरकार ने जारी की जातीय गणना रिपोर्ट : 2 अक्टूबर गांधी जयंती के दिन बिहार सरकार ने जातिय गणना रिपोर्ट सार्वजनिक की. रिपोर्ट के मुताबिक, बिहार की जनसंख्या करीब 13.07 करोड़ बताई गई. इसमें ईबीसी (अत्यंत पिछड़ा वर्ग) सबसे ज्यादा 36.01 फीसदी, ओबीसी (पिछड़ा वर्ग) 27.12 फीसदी हैं. रिपोर्ट में धर्म के लिहाज से सबसे अधिक हिंदू आबादी करी 82 फीसदी है, जबकि मुस्लिम 17.7 फीसदी हैं.

ये भी पढ़ें- 'नीतीश कुमार कुर्सी के लिए कुछ भी कर सकते हैं, सब कोई वैसा नहीं कर सकता'- जीतन राम मांझी

ये भी पढ़ें- 'Nitish Kumar का दिमाग काम नहीं कर रहा..' मुख्यमंत्री के बयान पर जीतन राम मांझी का पलटवार

ये भी पढ़ें- 'Nitish Kumar ने बिहार में उल्टी गंगा बहा दी और सूख रहा अंडर ग्राउंड वाटर', मांझी का सीएम नीतीश पर तंज

ये भी पढ़ें- Bihar Politics: मांझी का नीतीश पर बड़ा हमला, कहा- 'वाजपेयी जी ने बनाया था मुख्यमंत्री, जनता से कोई लेना देना नहीं'

ये भी पढ़ें- Jitan Ram Manjhi: 'जो दारू और ताड़ी से बैन हटाएगा, उसे वोटे दें'.. जीतन राम मांझी का बड़ा बयान

Last Updated :Oct 4, 2023, 2:52 PM IST
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.