DM ने नशा मुक्ति रथ को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना, शराबबंदी को लेकर लोगों को करेगा जागरूक

author img

By

Published : Dec 1, 2021, 7:49 PM IST

नशा मुक्ति रथ रवाना

दरभंगा में शराब के खिलाफ जागरुकता लाने के लिए नशा मुक्ति रथ को रवाना किया गया. इसे दरभंगा डीएम ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. रथ दरभंगा जिले के सभी 18 प्रखण्डों के पंचायतों में जा-जाकर लोगों को नशा मुक्ति का संदेश देगा.

दरभंगा: मद्य निषेध, उत्पाद एवं निबंधन विभाग, बिहार सरकार (Excise and Prohibition Department) द्वारा आयोजित मद्य निषेध दिवस (Prohibition Day) पर राज्य के सभी 38 जिलों में घूम-घूमकर सम्पूर्ण नशा मुक्ति के लिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है. सूचना एवं जन-सम्पर्क विभाग, बिहार सरकार (Information and Public Relations Department) द्वारा सूचीबद्ध एजेंसी मेसर्स महाबौद्ध, जन स्वास्थ्य एवं सर्वांगीण विकास केन्द्र पटना द्वारा राज्य के सभी जिलों के पंचायतों में जाकर सम्पूर्ण नशा मुक्ति के लिए जन जागृति किया जाना है.

ये भी पढ़ें- मुजफ्फरपुर मोतियाबिंद कांड पर बोले RJD विधायक- 'अपनी जिम्मेदारी से नहीं भाग सकती बिहार सरकार'

नशा मुक्ति को लेकर समाहरणालय स्थित बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर सभागार से दरभंगा जिलाधिकारी ने नशा मुक्ति रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. नशा मुक्ति रथ दरभंगा जिला के सभी 18 प्रखण्डों के पंचायतों में जा-जाकर लोगों को नशा मुक्ति का संदेश देगा. नशा से होने वाले नुकसान, स्वास्थ्य पर पड़ने वाले नुकसान आदि के बारे में जागरूक किया जाएगा.

नशा मुक्ति रथ को डीएम ने किया रवाना

'नशा मुक्ति से संबंधित कई प्रकार के जागरुकता कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है. उसी क्रम में आज नशामुक्ति रथ को पंचायतों में रवाना किया गया. नशामुक्ति रथ 60 दिनों तक दरभंगा जिला के विभिन्न पंचायतों में भ्रमण करेगा. आम लोगों को नशामुक्ति का संदेश देगा. नशा से स्वास्थ्य पर पड़ने वाले कुप्रभाव एवं समाज में बिगड़ने वाली छवि के साथ-साथ नशा से अन्य क्षेत्र में होने वाले नुकसान से आम लोगों को अवगत कराएगा.' - डॉ. त्यागराजन, जिलाधिकारी, दरभंगा

ये भी पढ़ें- नीतीश कुमार की बिहार यात्रा पर राबड़ी का तंज- 'घूमला से काम नहीं चलेगा, क्राइम और करप्शन पर कंट्रोल ज्यादा जरूरी'

इसके साथ ही विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा नशा पर किए गए सर्वे के रिपोर्ट से आम लोगों को अवगत कराया जाएगा और बताया जाएगा कि नशा के कारण कितनी युवाओं की अकाल मौत होती है. नशा से किस किस प्रकार की गंभीर बीमारी होती है. नशा मुक्ति रथ प्रत्येक दिन 3 पंचायतों में घूम-घूमकर लोगों के बीच जागरुकता फैलाएगा.

ये भी पढ़ें- किसानों को भड़काने का काम कर रही है कांग्रेस: शाहनवाज हुसैन

बता दें कि साल 2016 में नीतीश सरकार ने बिहार में पूर्ण शराबबंदी लागू किया था. बिहार में शराबबंदी (Liquor Ban in Bihar) कानून लागू है. शराबबंदी को लागू करने के लिए कड़े कानून बनाए गए हैं. इसके बावजूद शराब की तस्करी (Alcohol Smuggling) नहीं थम रही है. 5 साल बीत जाने के बाद भी शराबबंदी मूर्त रूप नहीं ले सकी बल्कि जहरीली शराब से मौत का सिलसिला बढ़ गया.

ये भी पढ़ें- जातीय जनगणना पर संसद में केंद्र के जवाब से JDU नाराज, दिनेश चंद्र यादव ने की पुनर्विचार की मांग

ये भी पढ़ें- जातीय जनगणना पर तेजस्वी की नीतीश से मांग, 'इसी सत्र में निर्णय ले बिहार सरकार'

बिहार में मद्य निषेध अर्थात् शराब से जुड़ी कोई भी शिकायत टाल फ्री नंबर 15545 पर की जा सकेगी.

ऐसी ही विश्वसनीय खबरों को देखने के लिए डाउनलोड करें ETV BHARAT APP

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.