चंडीगढ़ के मेयर चुनाव में देश ने देखा, ये प्रजातांत्रिक मूल्यों के पृथक सामंतवादी सोच है: टीएस सिंहदेव

author img

By ETV Bharat Chhattisgarh Desk

Published : Feb 11, 2024, 7:28 AM IST

Updated : Feb 11, 2024, 9:19 AM IST

TS Singhdeo Targets Modi Govt

TS Singhdeo Targets Modi Govt प्रदेश के पूर्व डिप्टी सीएम टीएस सिंहदेव ने वर्तमान केंद्र सरकार और निर्वाचन प्रणाली को लेकर कई सवाल उठाए हैं. चंडीगढ़ के मेयर चुनाव विवाद का हवाला देते हुए उन्होंने बीजेपी पर गंभीर आरोप भी लगाया. पूर्व डिप्टी सीएम ने राहुल गांधी की न्याय यात्रा की तैयारियों के लिए आयोजित बैठक के दौरान यह यह सवाल उठाए हैं. Chandigarh Mayor Election

अंबिकापुर: राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा दो दिन के ब्रेक के बाद आज रायगढ़ से सरगुजा संभाग की ओर बढ़ेगी. आगामी 13-14 फरवरी को यात्रा के अंबिकापुर पहुंचने की संभावना हैं. यात्रा की तैयारी को लेकर कांग्रेस के तमाम दिग्गज नेता अंबिकापुर का दौरा कर रहे हैं. इसी सिलसिले में शनिवार को अंबिकापुर के राजीव भवन में एक संभाग स्तरीय बैठक हुई. जिसमें पूर्व डिप्टी सीएम टीएस सिंहदेव भी मौजूद रहे. इस दौरान उन्होंने केंद्र सरकार और निर्वाचन प्रणाली को लेकर कई सवाल उठाए हैं.

चंडीगढ़ के मेयर चुनाव पर उठाए सवाल: पूर्व डिप्टी सीएम टीएस सिंहदेव ने कहा, "आज संभाग के छह जिले के वरिष्ठ साथियों को बैठक में बुलाया गया था. ताकि उनके माध्यम से गांव गांव तक यात्रा की सूचना जा सके. राहुल गांधी की न्याय यात्रा में वो आ सकें, वो सहभागी बने. मुझे नहीं लगता है कि किसी ने इस बात की कल्पना की होगी कि चंडीगढ़ के मेयर चुनाव में ऐसा हो सकता है. हाईकोर्ट के निर्देश के बाद कैमरे की निगरानी में चुनाव होता है और ऑन कैमरा चुनाव में भी लोग इस प्रकार का हिम्मत करने की मानसिकता रखते हैं. इन बातों को जनता तक पहुंचाना राहुल गांधी की यात्रा का उद्देश्य है."

"चुनाव की संवैधानिक व्यवस्था को भंग करने में संकोच नहीं किया गया. हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने भी सवाल किया था कि क्या यह आखरी चुनाव होने वाला है देश में. ऐसा वो नहीं कह रहे हैं, बल्कि चंडीगढ़ के मेयर चुनाव में हम सब ने ऐसा होते हुए देखा है. ऐसी मानसिकता के लोग प्रजातान्त्रिक प्रणाली के माध्यम से सत्ता में पहुंच गए है. येन केन प्रकारेण वो किसी भी कीमत पर सत्ता से पृथक नहीं होना चाहते हैं. वो हार स्वीकार नहीं करना चाहते हैं, ऐसी मानसिकता के लोग है. ये प्रजातांत्रिक मूल्यों के पृथक है और सामंतवादी सोच है. इस तरह की सोच के लिए हमारे कांग्रेस पार्टी में कोई स्थान नहीं है. - टीएस सिंहदेव, पूर्व डिप्टी सीएम, छत्तीसगढ़

सिंहदेव ने निर्वाचन प्रक्रिया पर उठाए सवाल: पूर्व डिप्टी सीएम टीएस सिंहदेव से पूछा गया कि जब निर्वाचन प्रक्रिया ऐसी है तो फिर पूरा विपक्ष विरोध क्यों नहीं करता? इस सवाल के जवाब में सिंहदेव ने कहा कि "अब एक महीने में चुनाव की घोषणा हो जाएगी, तो नई व्यवस्था बन सके यह संभव नहीं है. आज सुबह ही मुझे उदयपुर के दूरस्थ क्षेत्र झिंगाझरिया के नागरिक ने फोनकर बताया कि गलत हुआ है. उन्होंने ईवीएम की प्रणाली पर सवाल उठाए. आज अमेरिका, इंग्लैण्ड, जर्मनी, जापान जैसे देश ईवीएम से चुनाव नहीं करा रहे हैं. दुनिया में 16 से 18 देश ही है, जो ईवीएम से चुनाव करा रहे हैं. वहां कोई गड़बड़ कर रहा है या नहीं, इस बात को अलग रखते हुए हमें चुनाव में क्या प्रक्रिया अपनानी चाहिए, यह बड़ा सवाल है."

किसी ने चीटिंग की या नहीं, यह भी बड़ा सवाल है. अबकी चुनाव हार गई कांग्रेस, क्योंकि ईवीएम कर दिया, तो पिछली बार कैसे जीत गई. आप कुछ भी तर्क दे सकते हैं. सवाल तर्क का नहीं है. अगर प्रश्न चिन्ह लग गया है प्रक्रिया में और दुनिया उसको मान रही है तो हम फिर क्यों उसको पकड़ कर बैठे हैं. हम लोगों के पास जा रहे हैं और मतदाताओं से उनका साथ मांग रहे हैं. चंडीगढ़ दोहराया जाएगा या क्या होगा, वो भविष्य की बात है. हम अपना कर्तव्य निभाएंगे, लोगों के पास जाकर उनकी सहभागिता व साथ चाहेंगे. - टीएस सिंहदेव, पूर्व डिप्टी सीएम, छत्तीसगढ़

केंद्र पर शंकराचार्यों की अनदेखी का आरोप: पूर्व डिप्टी सीएम टीएस सिंहदेव का कहना है कि राहुल गांधी ने इस विचार को लेकर ही कन्याकुमारी से कश्मीर तक यात्रा की और आज मणिपुर से लेकर मुंबई तक की यात्रा कर रहे हैं. देश के नागरिकों में जागरूकता को जरूरत बताई. उन्होंने देश के नागरिक को स्थिति को सुनने, समझने और स्वीकार करने की बात कही. उनका मानना है कि ऐसी चुनौती के सामने जनता के बगैर वह कुछ नहीं कर सकते.

जब तक देश के लोग गलत होने की स्थिति में खड़े नहीं होंगे, तब तक इस देश के स्वरुप को बचा पाने में हम सफल नहीं होंगे. क्या इस बात की कल्पना की जा सकती है कि देश में चार शंकराचार्य कुछ और कह रहे है, हो कुछ और रहा है. उनसे भी ऊपर कोई निर्णय लेने की स्थिति में बन गए हैं. - टीएस सिंहदेव, पूर्व डिप्टी सीएम, छत्तीसगढ़

दरअसल, 30 जनवरी को चंडीगढ़ मेयर चुनाव में बीजेपी ने कांग्रेस-आप गठबंधन पर जीत हासिल की थी. महापौर पद के चुनाव में भाजपा के मनोज सोनकर ने आप के कुलदीप कुमार को हरा दिया था. मनोज सोनकर को 16 मिले, जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी को 12 वोट मिले थे. जबकि आठ वोट को अवैध घोषित किया गया था. इस दौरान मेयर चुनाव की प्रक्रिया का एक सीसीटीवी वीडियो सामने आया, जिसे देखने के बाद यह पूरा विवाद शुरु हुआ. सुप्रीम कोर्ट ने कथित तौर पर मतपत्रों को विकृत करने का वीडियो देखा और कहा कि वह चुनाव अधिकारी के व्यवहार से हैरान है. सुप्रीम कोर्ट ने मूल अभिलेखों को संरक्षित करने का आदेश दिया है, क्योंकि आप ने चंडीगढ़ मेयर चुनाव को चुनौती दी.

विश्राम के बाद रायगढ़ से राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा का काफिला बढ़ेगा आगे
CGPSC की राज्य सेवा प्रारंभिक आज, प्रदेश के लाखों छात्र होंगे शामिल
रायपुर पुलिस ने दिल्ली से साइबर ठग के गैंग को पकड़ा, नोएडा में कॉल सेंटर के जरिए करते थे फ्रॉड
Last Updated :Feb 11, 2024, 9:19 AM IST
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.