अजमेर में हस्तलिखित राम नाम संग्रह की रोजाना 15 से 18 हजार श्रद्धालु लगाते हैं परिक्रमा, जानें अयोध्या कनेक्शन

author img

By ETV Bharat Rajasthan Desk

Published : Jan 20, 2024, 7:45 PM IST

Ram nam parikrama

Ram Naam Sangrah Parikrama, 22 जनवरी को भले ही अयोध्या में सीमित राम भक्तों को प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में शामिल होने का मौका मिले, लेकिन अजमेर के जो भक्त अयोध्या नहीं जा सकेंगे, उनके लिए यहां हस्तलिखित राम नाम संग्रह परिक्रमा का आयोजन किया गया है. इसकी खासियत यह है कि यहां 108 अरब हस्तलिखित राम नाम संग्रह को रखा गया है, जिसके दर्शन व परिक्रमा के लिए रोजाना 15-18 हजार भक्त आते हैं.

हस्तलिखित राम नाम संग्रह की परिक्रमा

अजमेर. राम जन्मभूमि अयोध्या में 22 जनवरी को रामलला की प्राण प्रतिष्ठा होने जा रही है. देश भर में राम भक्त इस उपलक्ष्य में विशेष कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं. इस क्रम में राजस्थान का अजमेर जिला भी पीछे नहीं है. अजमेर में 108 अरब हस्तलिखित राम नाम संग्रह की परिक्रमा का आयोजन किया गया है, जहां रोजाना 15 से 18 हजार श्रद्धालु परिक्रमा कर पुण्य लाभ कमा रहे हैं. दरअसल, पूरे देश में राममय माहौल है. जन-जन के आराध्य भगवान श्रीराम अयोध्या स्थित उनके भव्य मंदिर में विराजने जा रहे हैं. इस खुशी को देश भर में राम भक्त अपने-अपने तरीके से मना रहे हैं. ऐसे में तीर्थ व पर्यटन नगरी अजमेर में भी माहौल पूरी तरह से राममय हो चुका है.

परिक्रमा के लिए उमड़ती है भक्तों की भीड़ : शहर के आजाद पार्क में 108 अरब राम नाम के हस्तलिखित संग्रह को रखा गया है, जहां आठ दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन हो रहा है. इस अनूठे व दिव्य कार्यक्रम में राम से बड़ा राम के नाम की उक्ति चरितार्थ हो रही है. हजारों राम भक्त रोजाना यहां श्रद्धा भाव से परिक्रमा के लिए आ रहे हैं. परिक्रमा के दौरान मौन रहकर सभी राम के नाम का जाप करते हैं. साथ ही परिक्रमा के दौरान श्रद्धालु राम धुन में ऐसे खो जाते हैं, जैसे मानों वो अपने जीवन के सभी दुख दर्द भूल गए हो. वहीं, परिक्रमा के अलावा यहां प्रतिदिन सुंदरकांड पाठ और भजन कीर्तन का भी आयोजन होता है. कई भक्त तो सुबह से लेकर शाम तक यही पड़े रहते हैं.

इसे भी पढ़ें - जानिए अजमेर के अनूठे बैंक के बारे में, जहां पैसे नहीं राम का नाम जमा होता है

राम बनो प्रतियोगिता का आयोजन : श्रीराम नाम संग्रह परिक्रमा समिति के संयोजक सत्यनारायण बंसाली बताते हैं कि अयोध्या में भगवान श्रीराम की प्राण प्रतिष्ठा होने जा रही है. वहां लाखों भक्त जाना चाहते हैं, लेकिन यह संभव नहीं है. कुछ चुनिंदा लोग ही कार्यक्रम में शामिल हो पाएंगे. ऐसे में समिति की ओर से अजमेर में प्रतीकात्मक रूप से एक अयोध्या नगरी बनाई गई. यहां आजाद पार्क में आठ दिवसीय हस्तलिखित 108 अरब राम नाम परिक्रमा कार्यक्रम का आयोजन किया गया है, जिसमें रोजाना 15 से 18 हजार श्रद्धालु परिक्रमा के लिए आ रहे हैं. उन्होंने बताया कि 22 जनवरी को राम बनो प्रतियोगिता भी रखी गई है. इस प्रतियोगिता में तीन आयु वर्ग के प्रतिभागी हिस्सा ले सकेंगे और सभी का यहां सम्मान किया जाएगा. साथ ही सुबह से सुंदरकांड का पाठ हो रहा है, जो शाम तक चलता है.

राम काज में जुटा अजमेर : समिति के पदाधिकारी कंवल प्रकाश किशनानी ने बताया कि पूरा देश राम की प्राण प्रतिष्ठा के जश्न में डूबा है. ऐसे में राम काज में अजमेर भी पीछे नहीं है. यहां राम भक्त राम काज में लगातार सहयोग दे रहे हैं और कई कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि हर राम भक्त तन, मन व धन से सहयोग दे रहा है. सुबह से रात तक श्रद्धालु परिक्रमा के लिए आ रहे हैं.

इसे भी पढ़ें - हर तरफ भगवान राम का बोलबाला, कई शासकों ने उनके नाम की मुद्रा की थी जारी

श्रीराम नाम संग्रह बैंक : अजमेर में श्रीराम नाम संग्रह बैंक है. देश भर में इस बैंक से 55 हजार से भी अधिक लोग जुड़े हैं. बैंक के ये खातेदार बैंक की ओर से दी जाने वाली पुस्तिकाओं में राम नाम लिखते हैं. एक पुस्तिका में 25 हजार राम नाम लिखे जाते हैं. यह राम नाम का संग्रह राम भक्तों की भावना और मेहनत का प्रमाण है कि आज बैंक के पास 108 अरब राम नाम हस्तलिखित संग्रह है. वहीं, अजमेर के पुष्कर में बैंक का संग्रह भवन बन गया है. रामभक्तों के लिखे 108 अरब राम नाम की परिक्रमा करके श्रद्धालु पुण्य के भागी बन रहे हैं. मानव मंगल सेवा न्यास के तहत श्रीराम नाम संग्रह बैंक का संचालन हो रहा है.

श्रद्धालुओं ने कही ये बात : हस्तलिखित 108 अरब राम नाम संग्रह की परिक्रमा को आने वाले भक्त भाव विभोर हो जाते हैं. सब कुछ भूलकर राम में लीन हो जाते हैं. श्रद्धालु शकुंतला ने कुछ इसी तरह से ही अपनी भावना को व्यक्त किया और कहा कि मन में जो परिक्रमा करके भाव है, उसे शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है.

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.