ETV Bharat / state

मध्य प्रदेश के सरकारी स्कूलों में प्री-नर्सरी से होगी पढ़ाई, इस ऐज में मिलेगा एडमिशन, जानें नामांकन की डेट - PRE NURSERY MP Government Schools

author img

By ETV Bharat Madhya Pradesh Team

Published : Jun 16, 2024, 6:40 AM IST

मध्य प्रदेश सरकार ने प्रदेश में शिक्षा का स्तर बढ़ाने के लिए बड़ा निर्णय लिया है. अब प्रदेश के 4,473 सरकारी स्कूलों में प्री-नर्सरी क्लासेस शुरु की जाएंगी. नामांकन की तारीख, प्रक्रिया क्या है? किस उम्र के बच्चों को प्री-नर्सरी क्लास में एडमिशन दिया जाएगा? जानने के लिए आर्टिकल को अंत तक पढ़ें.

Mp School Education
एमपी के सरकारी स्कूलों में शुरु होगी प्री-नर्सरी क्लासेस (Etv Bharat)

भोपाल। एमपी के सरकारी स्कूलों में अब प्री-नर्सरी क्लासेस की शुरुआत होगी. इसके लिए 18 जून से स्कूलों में नामांकन प्रक्रिया शुरु होने वाली है. 2024-25 सत्र में प्रदेश के 4,473 सरकारी स्कूलों से प्री-नर्सरी क्लासेस की शुरुआत होने जा रही है. हालांकि जिन सरकारी स्कूलों के परिसर में आंगनबाड़ियों का संचालन किया जा रहा है, उन स्कूलों में प्री-नर्सरी क्लासेस नहीं शुरु होंगी. तीन वर्ष की आयु से बच्चों को स्कूल में प्रवेश दिया जाएगा.

PRE NURSERY MP GOVERNMENT SCHOOLS
3 साल के आयु से बच्चों को मिलेगा प्रवेश (ETV BHARAT)

3 से 5 वर्ष के बच्चे ले सकेंगे एडमिशन

सरकारी स्कूलों में प्री-नर्सरी कक्षाओं को लेकर राज्य शिक्षा केंद्र ने शुक्रवार को आदेश जारी कर दिया है. इसमें कहा गया है, कि प्री-नर्सरी कक्षाओं में प्रवेश के लिए 3 से 5 वर्ष की आयु सीमा अनिवार्य है. ऐसे बच्चों के अभिभावक 18 जून के बाद स्कूलों में पहुंचकर बच्चे का नामांकन करवा सकते हैं. वहीं प्री-नर्सरी कक्षाओं की पढ़ाई एक जुलाई से शुरु होगी.

एमपी में 2019-20 से जारी है प्री-प्रायमरी एजुकेशन

राज्य शिक्षा केंद्र प्री-प्रायमरी एजुकेशन के तहत वर्ष 2019-20 से केजी-1 व केजी-2 कक्षाएं संचालित कर रहा रहा है. इस वर्ष से शासकीय स्कूलों में नर्सरी क्लासेस शुरू करने जा रहा है. इस संबंध में राज्य शिक्षा केंद्र के सभी जिला कलेक्टरों को निर्देश जारी किए है. इसमें कहा है कि वर्ष 2024-25 सत्र के लिए समग्र शिक्षा की वार्षिक कार्ययोजना में 4473 विद्यालयों में पूर्व प्राथमिक कक्षाएं शुरू करने की स्वीकृति शासन ने दी है.

इन 5 जिलों से हुई थी प्री-प्रायमरी एजुकेशन की शुरुआत

पहले पांच जिलों भोपाल, छिंदवाड़ा, सीहोर, सागर और शहडोल के 1415 विद्यालयों में केजी 1 और केजी 2 कक्षाएं सत्र 2019-20 से संचालित की गई थीं. इन स्कूलों में भी अब इन कक्षाओं के साथ 3 से 4 साल की उम्र वर्ग के बच्चों के लिए नर्सरी की कक्षाएं संचालित की जाएगी. विभाग ने साफ कर दिया है कि जिन स्कूल परिसरों में आंगनबाड़ी केंद्र संचालित किए जा रहे हैं, उनमें प्री-नर्सरी क्लासें संचालित नहीं की जाएगी.

Also Read:

सरकारी स्कूल ने दुनिया के इंटरनेशनल स्कूलों को पछाड़ा, एडमिशन के लिए प्राइवेट स्कूलों के स्टूडेंट्स में होड़ - Ratlam Vinoba CM Rise School

MP के सभी स्कूलों में नर्सरी से लेकर पहली तक एडमिशन का क्राइटेरिया फिक्स, देखें- किस उम्र में एडमिशन

अब नहीं होगा साल बर्बाद, एक साल में दो बार होंगे यूनिवर्सिटी और काॅलेज में एडमिशन - UGC Big Decision Admission Process

नर्सरी कक्षाओं में नहीं पढ़ाएंगे 52 वर्ष से अधिक के शिक्षक

नर्सरी क्लास में पढ़ाने के लिए शासन ने शिक्षकों की उम्र सीमा भी तय कर दी है. इसमें कहा गया है कि जिन स्कूलों में एडमिशन दिया जाना है, उसमें हर स्कूल में कम से कम दो अलग शिक्षकों का इंतजाम होना चाहिए. शिक्षक-शिक्षिका की उम्र 52 वर्ष से कम हो. शिक्षक बच्चों के साथ स्कूल एक्टिविटी करने में सक्षम हों और रुचि रखते हों. प्री प्रायमरी क्लास में पढ़ाने का अनुभव हो. चयन में महिला शिक्षिका को प्राथमिकता दी जाएगी.

भोपाल। एमपी के सरकारी स्कूलों में अब प्री-नर्सरी क्लासेस की शुरुआत होगी. इसके लिए 18 जून से स्कूलों में नामांकन प्रक्रिया शुरु होने वाली है. 2024-25 सत्र में प्रदेश के 4,473 सरकारी स्कूलों से प्री-नर्सरी क्लासेस की शुरुआत होने जा रही है. हालांकि जिन सरकारी स्कूलों के परिसर में आंगनबाड़ियों का संचालन किया जा रहा है, उन स्कूलों में प्री-नर्सरी क्लासेस नहीं शुरु होंगी. तीन वर्ष की आयु से बच्चों को स्कूल में प्रवेश दिया जाएगा.

PRE NURSERY MP GOVERNMENT SCHOOLS
3 साल के आयु से बच्चों को मिलेगा प्रवेश (ETV BHARAT)

3 से 5 वर्ष के बच्चे ले सकेंगे एडमिशन

सरकारी स्कूलों में प्री-नर्सरी कक्षाओं को लेकर राज्य शिक्षा केंद्र ने शुक्रवार को आदेश जारी कर दिया है. इसमें कहा गया है, कि प्री-नर्सरी कक्षाओं में प्रवेश के लिए 3 से 5 वर्ष की आयु सीमा अनिवार्य है. ऐसे बच्चों के अभिभावक 18 जून के बाद स्कूलों में पहुंचकर बच्चे का नामांकन करवा सकते हैं. वहीं प्री-नर्सरी कक्षाओं की पढ़ाई एक जुलाई से शुरु होगी.

एमपी में 2019-20 से जारी है प्री-प्रायमरी एजुकेशन

राज्य शिक्षा केंद्र प्री-प्रायमरी एजुकेशन के तहत वर्ष 2019-20 से केजी-1 व केजी-2 कक्षाएं संचालित कर रहा रहा है. इस वर्ष से शासकीय स्कूलों में नर्सरी क्लासेस शुरू करने जा रहा है. इस संबंध में राज्य शिक्षा केंद्र के सभी जिला कलेक्टरों को निर्देश जारी किए है. इसमें कहा है कि वर्ष 2024-25 सत्र के लिए समग्र शिक्षा की वार्षिक कार्ययोजना में 4473 विद्यालयों में पूर्व प्राथमिक कक्षाएं शुरू करने की स्वीकृति शासन ने दी है.

इन 5 जिलों से हुई थी प्री-प्रायमरी एजुकेशन की शुरुआत

पहले पांच जिलों भोपाल, छिंदवाड़ा, सीहोर, सागर और शहडोल के 1415 विद्यालयों में केजी 1 और केजी 2 कक्षाएं सत्र 2019-20 से संचालित की गई थीं. इन स्कूलों में भी अब इन कक्षाओं के साथ 3 से 4 साल की उम्र वर्ग के बच्चों के लिए नर्सरी की कक्षाएं संचालित की जाएगी. विभाग ने साफ कर दिया है कि जिन स्कूल परिसरों में आंगनबाड़ी केंद्र संचालित किए जा रहे हैं, उनमें प्री-नर्सरी क्लासें संचालित नहीं की जाएगी.

Also Read:

सरकारी स्कूल ने दुनिया के इंटरनेशनल स्कूलों को पछाड़ा, एडमिशन के लिए प्राइवेट स्कूलों के स्टूडेंट्स में होड़ - Ratlam Vinoba CM Rise School

MP के सभी स्कूलों में नर्सरी से लेकर पहली तक एडमिशन का क्राइटेरिया फिक्स, देखें- किस उम्र में एडमिशन

अब नहीं होगा साल बर्बाद, एक साल में दो बार होंगे यूनिवर्सिटी और काॅलेज में एडमिशन - UGC Big Decision Admission Process

नर्सरी कक्षाओं में नहीं पढ़ाएंगे 52 वर्ष से अधिक के शिक्षक

नर्सरी क्लास में पढ़ाने के लिए शासन ने शिक्षकों की उम्र सीमा भी तय कर दी है. इसमें कहा गया है कि जिन स्कूलों में एडमिशन दिया जाना है, उसमें हर स्कूल में कम से कम दो अलग शिक्षकों का इंतजाम होना चाहिए. शिक्षक-शिक्षिका की उम्र 52 वर्ष से कम हो. शिक्षक बच्चों के साथ स्कूल एक्टिविटी करने में सक्षम हों और रुचि रखते हों. प्री प्रायमरी क्लास में पढ़ाने का अनुभव हो. चयन में महिला शिक्षिका को प्राथमिकता दी जाएगी.

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.