ETV Bharat / international

सऊदी अरब से हज यात्रियों के शवों को वापस क्यों नहीं भेजा जाता, जानिए मान्यताएं - Hajj Pilgrims

author img

By ETV Bharat Hindi Team

Published : Jun 22, 2024, 9:38 PM IST

Hajj Pilgrims Death in Mecca: सऊदी अरब में भीषण गर्मी के कारण इस साल हज के लिए मक्का गए सैकड़ों हाजियों की मौत हो गई. इनमें करीब 100 भारतीय नागरिक हैं. इसके अलावा विभिन्न देशों के नागरिक शामिल हैं. लेकिन ज्यादातर हज यात्रियों के शवों को वहीं दफना दिया गया. जानिए इसके पीछे क्या हैं नियम और मान्यताएं...

Hajj Pilgrims Death in Mecca
हज यात्रा (AP)

हैदराबाद: हर साल ईद-उल-अजहा के मौके पर दुनिया भर के लाखों मुसलमान हज करने के लिए सऊदी अरब के मक्का शहर की यात्रा करते हैं. मक्का मुसलमानों के लिए पवित्र स्थल है. इस्लाम धर्म को मानने वाले प्रत्येक मुस्लिम की जीवन में एक बार मक्का की यात्रा करने की तमन्ना होती है. इस साल भी दुनिया भर के लाखों मुसलमान हज के लिए मक्का की यात्रा पर पहुंचे. हालांकि, भीषण गर्मी के कारण सैकड़ों हज यात्रियों की मौत हो गई. मरने वालों में ज्यादातर बुजुर्ग बताए गए हैं. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, मक्का में हज यात्रा पर आए एक हजार से ज्यादा हाजियों की मौत हो चुकी है. इनमें करीब 100 भारतीय नागरिक हैं. इसके अलावा विभिन्न देशों के नागरिक शामिल हैं.

ऐसा चलन है कि हज यात्रा पर सऊदी अरब गए यात्रियों की अगर किसी वजह से मौत हो जाती है तो उनके शवों को वहीं दफना दिया जाता है. वापस उनके वतन नहीं लाया जाता है. इस्लाम धर्म मानने वालों में ऐसी मान्यता है कि अगर किसी व्यक्ति की हज यात्रा के दौरान मक्का में मौत हो जाती है तो अल्लाह उन्हें जन्नत नसीब करता है.

हज समिति से जुड़े लोगों का कहना है कि रीति-रिवाजों के साथ सऊदी सरकार द्वारा हाजियों के शवों को दफन करने के लिए कुछ नियम-कानून भी बनाए गए हैं. यही वजह है कि मक्का में अंतिम सांस लेने वाले हज यात्रियों के शवों को उनके मूल देश नहीं भेजा जाता. स्थानीय अधिकारियों की ओर से शवों को सऊदी अरब में ही दफना दिया जाता है. बाद में परिजनों को मृत्यु प्रमाण पत्र भेज दिया जाता है.

हरमैन में हज यात्रियों के शवों को दफनाने की व्यवस्था
उन्होंने बताया कि सऊदी अरब के हरमैन शहर में हज यात्रियों के शवों को दफनाने की व्यवस्था की गई है. लेकिन अगर किसी मृत के परिजन शव की मांग करते हैं तो स्थानीय अधिकारियों द्वारा शव को उनके मूल देश भेजने की व्यवस्था भी की जाती है.

दिल्ली लौटे हज यात्री
वहीं, धार्मिक मान्यताएं पूरी करने बाद हज यात्री अपने-अपने वतन को लौट रहे हैं. शनिवार को कई भारतीय भी दिल्ली एयरपोर्ट पर पहुंचे. एक हज यात्री ने कहा कि उनकी हज यात्रा बहुत अच्छी रही. भारतीय समिति ने बहुत अच्छी व्यवस्थाएं की हैं. एक अन्य ने कहा कि मुझे बहुत अच्छा लग रहा है. हमारी हज यात्रा बहुत अच्छी रही. गर्मी के कारण बुजुर्ग लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा.

यह भी पढ़ें- मक्का मदीना में हज यात्रा के दौरान 98 भारतीयों की जान गई : MEA

हैदराबाद: हर साल ईद-उल-अजहा के मौके पर दुनिया भर के लाखों मुसलमान हज करने के लिए सऊदी अरब के मक्का शहर की यात्रा करते हैं. मक्का मुसलमानों के लिए पवित्र स्थल है. इस्लाम धर्म को मानने वाले प्रत्येक मुस्लिम की जीवन में एक बार मक्का की यात्रा करने की तमन्ना होती है. इस साल भी दुनिया भर के लाखों मुसलमान हज के लिए मक्का की यात्रा पर पहुंचे. हालांकि, भीषण गर्मी के कारण सैकड़ों हज यात्रियों की मौत हो गई. मरने वालों में ज्यादातर बुजुर्ग बताए गए हैं. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, मक्का में हज यात्रा पर आए एक हजार से ज्यादा हाजियों की मौत हो चुकी है. इनमें करीब 100 भारतीय नागरिक हैं. इसके अलावा विभिन्न देशों के नागरिक शामिल हैं.

ऐसा चलन है कि हज यात्रा पर सऊदी अरब गए यात्रियों की अगर किसी वजह से मौत हो जाती है तो उनके शवों को वहीं दफना दिया जाता है. वापस उनके वतन नहीं लाया जाता है. इस्लाम धर्म मानने वालों में ऐसी मान्यता है कि अगर किसी व्यक्ति की हज यात्रा के दौरान मक्का में मौत हो जाती है तो अल्लाह उन्हें जन्नत नसीब करता है.

हज समिति से जुड़े लोगों का कहना है कि रीति-रिवाजों के साथ सऊदी सरकार द्वारा हाजियों के शवों को दफन करने के लिए कुछ नियम-कानून भी बनाए गए हैं. यही वजह है कि मक्का में अंतिम सांस लेने वाले हज यात्रियों के शवों को उनके मूल देश नहीं भेजा जाता. स्थानीय अधिकारियों की ओर से शवों को सऊदी अरब में ही दफना दिया जाता है. बाद में परिजनों को मृत्यु प्रमाण पत्र भेज दिया जाता है.

हरमैन में हज यात्रियों के शवों को दफनाने की व्यवस्था
उन्होंने बताया कि सऊदी अरब के हरमैन शहर में हज यात्रियों के शवों को दफनाने की व्यवस्था की गई है. लेकिन अगर किसी मृत के परिजन शव की मांग करते हैं तो स्थानीय अधिकारियों द्वारा शव को उनके मूल देश भेजने की व्यवस्था भी की जाती है.

दिल्ली लौटे हज यात्री
वहीं, धार्मिक मान्यताएं पूरी करने बाद हज यात्री अपने-अपने वतन को लौट रहे हैं. शनिवार को कई भारतीय भी दिल्ली एयरपोर्ट पर पहुंचे. एक हज यात्री ने कहा कि उनकी हज यात्रा बहुत अच्छी रही. भारतीय समिति ने बहुत अच्छी व्यवस्थाएं की हैं. एक अन्य ने कहा कि मुझे बहुत अच्छा लग रहा है. हमारी हज यात्रा बहुत अच्छी रही. गर्मी के कारण बुजुर्ग लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा.

यह भी पढ़ें- मक्का मदीना में हज यात्रा के दौरान 98 भारतीयों की जान गई : MEA

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.