ब्रिटेन में अवैध कर्मचारियों को रखने पर भारतीय रेस्तरां मालिक पर सात साल का प्रतिबंध

author img

By IANS

Published : Feb 21, 2024, 3:01 PM IST

Updated : Feb 21, 2024, 4:20 PM IST

ban on indian restaurant owner

Indian Businessman Banned, ब्रिटेन में एक भारतीय रेस्तरां मालिक पर आव्रजन प्रवर्तन अधिकारियों ने किसी भी कंपनी का निदेशक रहने पर सात साल के लिए प्रतिबंध लगा दिया है. दरअसल रेस्तरां मालिक ने काम के अधिकार की जांच किए बिना ही बांग्लादेश के तीन अवैध श्रमिकों को काम पर रखा था.

लंदन: ब्रिटेन में एक भारतीय रेस्तरां और टेकअवे के मालिक को काम के अधिकार की जांच किए बिना बांग्लादेश से तीन अवैध श्रमिकों को काम पर रखने के लिए 2031 तक किसी कंपनी का निदेशक रहने से प्रतिबंधित कर दिया गया है.

मार्च 2020 में आव्रजन प्रवर्तन अधिकारियों द्वारा रेस्तरां पर छापा मारने से पहले 51 वर्षीय इकबाल हुसैन ने हर्टफोर्डशायर के हाई स्ट्रीट पर टेस्ट ऑफ राज में इन तीनों श्रमिकों को काम पर रखा था, जो 40 से 50 साल के बीच की उम्र के थे. एनफील्ड के निवासी, हुसैन जून 2014 से टेंडर लव लिमिटेड के नाम से व्यापार करने वाले रेस्तरां के एकमात्र निदेशक थे.

श्रमिकों ने जांचकर्ताओं को बताया कि उन्होंने रेस्तरां में चार दिन से लेकर दो महीने तक काम किया था. गृह कार्यालय के एक बयान में मंगलवार को कहा गया कि हुसैन ने न केवल काम करने के अधिकार की जांच किए बिना उन्हें काम पर रखा, बल्कि उन्होंने ब्रिटेन में काम करने के योग्य साबित करने वाले आवश्यक दस्तावेज भी नहीं लिए.

इन्सॉल्वेंसी सर्विस के मुख्य जांचकर्ता केविन रीड ने कहा कि 'आवश्यक जांच सुनिश्चित करने में इकबाल हुसैन की विफलता के परिणामस्वरूप आव्रजन, शरण और राष्ट्रीयता अधिनियम 2006 के उल्लंघन में तीन अवैध श्रमिकों को रोजगार मिला.'

इसे कानून का गंभीर उल्लंघन बताते हुए रीड ने कहा कि 16 फरवरी को लागू हुए प्रतिबंध के परिणामस्वरूप हुसैन ब्रिटेन में किसी कंपनी के प्रचार, गठन या प्रबंधन में शामिल नहीं हो सकते. गृह कार्यालय आप्रवासन प्रवर्तन से सुरन पदियाची ने कहा कि अवैध काम ईमानदार श्रमिकों को रोजगार से बाहर कर देता है, कमजोर लोगों को जोखिम में डालता है और जनता के धन को ठगता है.

Last Updated :Feb 21, 2024, 4:20 PM IST
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.