जानें, क्यों मनाया जाता है राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस

author img

By ETV Bharat Hindi Team

Published : Feb 9, 2024, 7:59 PM IST

Updated : Feb 10, 2024, 12:46 PM IST

National Deworming Day 2024

National Deworming Day 2024 : हेल्दी लाइफ के लिए शरीर को हानिकारक कृमि से मुक्त रखना जरूरी है. ऐसा नहीं होने पर इंसान कई रोगों का शिकार हो सकता है. पढ़ें पूरी खबर..

हैदराबाद : विशेष रूप से 1 से 19 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए कृमि मुक्ति के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए हर साल 10 फरवरी को राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस मनाया जाता है. इस दिन के उत्सव का उद्देश्य बच्चों और किशोरों के बीच परजीवी आंतों के कीड़े, या मिट्टी से फैलने वाले कृमि के प्रसार को कम करना है.

राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस, देश के प्रत्येक बच्चे को कृमि मुक्त बनाने के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय भारत सरकार की एक पहल है. यह हर साल दो एनडीडी राउंड के माध्यम से बड़ी संख्या में बच्चों और किशोरों तक पहुंचने वाले सबसे बड़े सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यक्रमों में से एक है. यह कार्यक्रम 2015 में शुरू किया गया था. उनके समग्र स्वास्थ्य, पोषण संबंधी स्थिति, शिक्षा तक पहुंच और जीवन की गुणवत्ता में सुधार के लिए स्कूलों और आंगनवाड़ी केंद्रों के प्लेटफार्मों के माध्यम से कृमि मुक्ति की जाती है.

कृमि क्या है : मनुष्यों में आंतों के परजीवियों के सबसे आम रूपों में से एक आंतों के कीड़े हैं, जिन्हें कभी-कभी परजीवी कीड़े भी कहा जाता है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, हेल्मिंथ कृमि संक्रमण दुनिया की लगभग 24 फीसदी आबादी को प्रभावित करता है. मिट्टी से फैलने वाले कृमि, या परजीवी आंतों के कीड़े, भारत में 1 से 14 वर्ष की आयु के लगभग 241 मिलियन बच्चों के लिए खतरा पैदा करते हैं.

बच्चों में कृमि संक्रमण का कारण:
जिन लोगों को कृमि संक्रमण होता है उनमें कृमि फैलने का मुख्य कारण मलमूत्र के छोटे-छोटे कण होते हैं. मिट्टी को छूना या कीड़े वाली मिट्टी पर नंगे पैर चलना, कीड़े के अंडों वाला पानी या भोजन निगलना (ज्यादातर दुनिया के उन क्षेत्रों में जोखिम है जहां सीवेज सिस्टम या आधुनिक शौचालयों की कमी है). कच्चा या अधपका मांस जैसे बीफ़, पोर्क या कच्ची मछली जैसे सैल्मन, ट्राउट खाने से बच्चे कीड़े होते हैं.

कृमि संक्रमण के लक्षण:

  1. थकान
  2. गैस/सूजन
  3. पेट में दर्द
  4. खून की कमी
  5. दस्त, मतली, या उल्टी
  6. अस्पष्टीकृत वजन घटना
  7. पेट में दर्द या कोमलता

कृमि संक्रमण से कैसे बचें:

  1. स्वच्छता शौचालयों का प्रयोग करें.
  2. अपने फलों और सब्जियों को साफ पानी में ठीक से धोएं.
  3. ठीक से पका हुआ खाना खाएं और कच्चा खाना खाने से बचें.
  4. पालतू कुत्तों और बिल्लियों को नियमित रूप से कृमि मुक्त करें.
  5. खाने या खाना बनाने से पहले और मिट्टी को छूने या शौचालय का उपयोग करने के बाद अपने हाथ धोएं.
  6. आधुनिक शौचालयों या सीवेज सिस्टम से रहित स्थानों पर बोतलबंद या उबला हुआ पानी पियें.
  7. बच्चों को अच्छी स्वच्छता संबंधी आदतें सिखाना महत्वपूर्ण है. उन्हें अपने नाखून काटने और साफ रखने के लिए कहा जाना चाहिए.
  8. लंबे नाखून अक्सर विभिन्न प्रकार के जीवाणुओं के लिए आश्रय स्थल के रूप में कार्य करते हैं जो संक्रामक रोगों का कारण बनते हैं.
  9. सरकार कीड़ों के इलाज के लिए एल्बेंडाजोल का उपयोग करने का सुझाव देती है. सुझाई गई खुराक 2 से 19 वर्ष की आयु के बच्चों के लिए एक टैबलेट (400 मिलीग्राम) और 1 से 2 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए आधी टैबलेट (200 मिलीग्राम) है.
  10. आयुर्वेदिक उपचार भी शरीर से कीड़ों को बाहर निकालने में मदद करते हैं. भोजन और जड़ी-बूटियां जैसे - काली मिर्च, अदरक, हल्दी, अजवाइन, तुलसी, शहद, नीम, हरी चिरेटा (कालमेघ) कृमि मुक्ति के लिए अच्छे हैं.

ये भी पढ़ें

Last Updated :Feb 10, 2024, 12:46 PM IST
ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.