कोरोना नहीं, इन कारणों से भी याददाश्त-सिरदर्द व थकान हो सकती है

author img

By IANS

Published : Feb 17, 2024, 5:06 PM IST

Covid infection may not be responsible for memory problems & fatigue: Study

Covid infection side effects : एक रिपोर्ट के अनुसार याददाश्त की समस्या, सिरदर्द और थकान का कारण सिर्फ कोरोना वायरस नहीं है. जर्मनी में चैरिटे-यूनिवर्सिटैट्समेडिजिन बर्लिन के शोधकर्ताओं ने नए सिद्धांत का समर्थन करने के लिए सबूत पेश किए हैं. पढ़ें पूरी खबर ...

लंदन : एक नई रिपोर्ट में यह दावा किया गया है कि सिरदर्द, याददाश्त की समस्या और थकान सूजन के कारण भी हो सकता है. ऐसा जरूरी नहीं है कि यह सब लक्षण कोरोना वायरस से ही हो. दरअसल, इस अध्ययन की प्रासंगिकता इसलिए बढ़ जाती है, क्योंकि बीते दिनों यह दावा किया गया था कि कोरोना से ठीक हुए लोगों में सिरदर्द, याददाश्त की समस्याएं और थकान जैसे लक्षण देखने को मिल सकते हैं.

महामारी की शुरुआत में शोधकर्ताओं ने अनुमान लगाया कि मस्तिष्क का सीधा संक्रमण इन न्यूरोलॉजिकल लक्षणों के पीछे का कारण हो सकता है. कई शोधों में ब्रेन पर भी कोविड का असर देखने को मिला है, लेकिन जर्मनी में चैरिटे-यूनिवर्सिटैट्समेडिज़िन बर्लिन के शोधकर्ताओं के एक अध्ययन ने अब नए सिद्धांत का समर्थन करने के लिए सबूत पेश किए हैं. चैरिटे में न्यूरोपैथोलॉजी विभाग में क्रॉनिक न्यूरोइन्फ्लेमेशन वर्किंग ग्रुप की प्रमुख डॉ. हेलेना रैडब्रुच ने कहा, “हमने शुरुआत में भी इसे अपनी परिकल्पना के रूप में लिया था. लेकिन अब तक इस बात का कोई स्पष्ट प्रमाण नहीं मिला है कि कोरोना वायरस मस्तिष्क में बना रह सकता है, फैलने की तो बात ही छोड़िए.''

Covid infection may not be responsible for memory problems & fatigue: Study
कोरोना वायरस संक्रमण के दुष्प्रभाव

रैडब्रुच ने कहा, “इसके लिए उदाहरण के लिए हमें मस्तिष्क में अक्षुण्ण वायरस कणों के साक्ष्य खोजने की आवश्यकता होगी. इसके बजाय, यह संकेत कि कोरोना वायरस मस्तिष्क को संक्रमित कर सकता है, अप्रत्यक्ष परीक्षण विधियों से आते हैं, इसलिए वे पूरी तरह से निर्णायक नहीं हैं.'' दूसरी परिकल्पना के अनुसार, न्यूरोलॉजिकल लक्षण वायरस से बचाव के लिए शरीर द्वारा तैनात मजबूत प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया का एक प्रकार का दुष्प्रभाव होगा.

कुछ मामलों में मस्तिष्क में कोरोना वायरस मिला
अध्ययन के लिए, शोधकर्ताओं की टीम ने 21 लोगों के मस्तिष्क के विभिन्न क्षेत्रों का विश्लेषण किया, जिनकी मृत्यु गंभीर कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अस्पताल में आईसीयू में हुई थी. तुलना के लिए, शोधकर्ताओं ने नौ रोगियों का अध्ययन किया, जिनकी गहन देखभाल में इलाज के बाद अन्य कारणों से मृत्यु हो गई. सबसे पहले, उन्होंने यह देखा कि क्या ऊतक में कोई दृश्य परिवर्तन दिखाई दे रहा है और कोरोना वायरस के किसी भी संकेत की तलाश की गई. फिर उन्होंने व्यक्तिगत कोशिकाओं के अंदर होने वाली विशिष्ट प्रक्रियाओं की पहचान करने के लिए जीन और प्रोटीन का विस्तृत विश्लेषण किया. अपने से पहले शोधकर्ताओं की अन्य टीमों की तरह चैरिटे वैज्ञानिकों ने कुछ मामलों में मस्तिष्क में कोरोना वायरस आनुवंशिक सामग्री पाई.

रैडब्रुच ने कहा, "लेकिन हमें कोविड से संक्रमित न्यूरॉन्स नहीं मिले. हम मानते हैं कि प्रतिरक्षा कोशिकाएं शरीर में वायरस को अवशोषित करती हैं और फिर मस्तिष्क तक पहुंचती हैं. उनमें अभी भी वायरस मौजूद है, लेकिन यह मस्तिष्क की कोशिकाओं को संक्रमित नहीं करता है, इसलिए कोरोना वायरस ने शरीर की अन्य कोशिकाओं पर तो आक्रमण किया है, लेकिन मस्तिष्क पर नहीं.”

शोधकर्ताओं ने कोविड-19 से संक्रमित लोगों के मस्तिष्क की कुछ कोशिकाओं में आणविक प्रक्रियाओं में आश्चर्यजनक बदलावों पर ध्यान दिया. उदाहरण के लिए, कोशिकाओं ने इंटरफेरॉन सिग्नलिंग मार्ग को तेज कर दिया, जो आमतौर पर वायरल संक्रमण के दौरान सक्रिय होता है. बर्लिन इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ एट चैरिटे (बीआईएच) में इंटेलिजेंट इमेजिंग वर्किंग ग्रुप के प्रमुख और अध्ययन में प्रमुख जांचकर्ताओं में से एक प्रोफेसर क्रिश्चियन कॉनराड ने कहा, "कुछ न्यूरॉन्स स्पष्ट रूप से शरीर के बाकी हिस्सों में सूजन पर प्रतिक्रिया करते हैं."

यह आणविक प्रतिक्रिया उन न्यूरोलॉजिकल लक्षणों के लिए एक अच्छा स्पष्टीकरण हो सकती है, जो हम कोविड -19 रोगियों में देखते हैं. उदाहरण के लिए, मस्तिष्क तंत्र में इन कोशिकाओं द्वारा उत्सर्जित न्यूरोट्रांसमीटर थकान का कारण बन सकते हैं. ऐसा इसलिए है, क्योंकि मस्तिष्क कोशिकाओं के समूहों का घर है, जो ड्राइव, प्रेरणा और मनोदशा को नियंत्रित करते हैं. इसके अलावा टीम ने पाया कि सूजन के प्रति न्यूरॉन्स की प्रतिक्रिया अस्थायी है, जैसा कि तीव्र कोरोना वायरस संक्रमण के दौरान मरने वाले लोगों और कम से कम दो सप्ताह बाद मरने वाले लोगों की तुलना से पता चलता है. तीव्र संक्रमण चरण के दौरान आणविक परिवर्तन सबसे अधिक स्पष्ट होते हैं, लेकिन बाद में वे फिर से सामान्य हो जाते हैं.

ये भी पढ़ें

जरूरी है जन्मजात हृदय दोषों को लेकर आमजन में जागरूकता

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.