ETV Bharat / business

बैंक कहां से कमाते हैं पैसा? जानें सोर्स ऑफ इनकम का राज... - How Banks Earn Money In India

author img

By ETV Bharat Hindi Team

Published : Jun 19, 2024, 6:01 AM IST

How Banks Earn Money In India- बैंक ग्राहकों को कई तरह की सेवाएं देते हैं. लेकिन वे बैंक पैसे कैसे कमाते हैं? उनकी आय के स्रोत क्या हैं? कई लोगों के मन में डाउट होते हैं. आइए अब उन डाउट को दूर करते हैं. पढ़ें पूरी खबर...

How Banks Earn Money In India
(प्रतीकात्मक फोटो) (ETV Bharat)

नई दिल्ली: हम अपने हर दिन अपने जीवन में अलग-अलग बैंकों की सेवाओं का यूज करते हैं. लेकिन बैंक हमे सेवा देने के लिए पैसे कहां से लाते है? और वे बैंक पैसे कैसे कमाते हैं? उनकी आय के स्रोत क्या हैं? कई लोगों के मन में संदेह पैदा होता है. लेकिन दुनिया के सभी बैंकों की तरह, भारतीय बैंक भी आय के लिए अलग-अलग रणनीति अपनाते हैं। अब कुछ महत्वपूर्ण रणनीतियों के बारे में जानते हैं.

भारतीय बैंक पैसे कैसे कमाते हैं?

  1. लोन पर ब्याज- लोन पर ब्याज बैंकों के लिए आय के मुख्य स्रोतों में से एक है. पर्सनल लोन, होम या बिजनेस लोन के लेंडर बैंक को ब्याज देते हैं.
  2. निवेश- बैंक अलग-अलग प्रकार के वित्तीय साधनों जैसे सरकारी प्रतिभूतियों, बॉन्ड और शेयरों में निवेश करते हैं. बैंकों की कुल आय में आंशिक रूप से इन निवेशों के रिटर्न का योगदान होता है.
  3. सेवा शुल्क और फीस- बैंक खाता रखरखाव, एटीएम उपयोग और लेनदेन जैसी सेवाओं पर शुल्क और फीस के माध्यम से आय अर्जित करते हैं.
  4. क्रेडिट कार्ड संचालन- बैंक क्रेडिट कार्ड बकाया राशि, वार्षिक शुल्क और व्यापारी शुल्क के माध्यम से पैसा कमाते हैं.
  5. विदेशी मुद्रा संचालन- बैंक विदेशी मुद्रा संचालन करते हैं. करेंसी कन्वर्जन और अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवाएं बैंकों के लिए आय के स्रोतों में से एक हैं.
  6. अंतरबैंक लोन- बैंक एक-दूसरे को पैसे उधार देते हैं। बैंकों को ऐसे अंतर-बैंक लेनदेन पर ब्याज के रूप में आय भी मिलती है.
  7. ट्रेजरी ऑपरेशन- बैंक अपने ट्रेजरी संचालन का मैनेज करते हैं. इसके हिस्से के रूप में, वे सरकारी प्रतिभूतियों, बॉन्ड, स्टॉक जैसे विभिन्न प्रकार के वित्तीय साधनों को बेचकर और खरीदकर पैसा कमाते हैं.
  8. डिजिटल बैंकिंग- वर्तमान में डिजिटल बैंकिंग का व्यापक रूप से यूज किया जाता है. बैंक ऑनलाइन सेवाओं, फिनटेक पार्टनरशिप और डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म के माध्यम से आय उत्पन्न करते हैं.

भारतीय बैंकों को कौन नियंत्रित करता है?
भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) भारत के मुद्रा बाजार और बैंकिंग नियामक के रूप में काम करता है. यह जमाकर्ताओं/जनता के हितों को ध्यान में रखते हुए बैंकिंग प्रणाली, बैंकिंग नीति, बैंकों की जांच करता है. उन्हें नियंत्रित करता है. बैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949 ने RBI को ये शक्तियां दी गई है.

हालांकि, अलग-अलग बैंकों के आकार, उनके फोकस के क्षेत्र और व्यावसायिक रणनीतियों के आधार पर आय के स्रोत अलग-अलग हो सकते हैं. बैंकों की आय के स्रोतों के बारे में जानने के लिए, आप बचत खाता, बैंक FD, लेन-देन, लोन जैसी कोई भी बैंकिंग सेवा प्राप्त करने पर बैंकों द्वारा लगाए जाने वाले शुल्क और फीस का विवरण देख सकते हैं.

ये भी पढ़ें-

नई दिल्ली: हम अपने हर दिन अपने जीवन में अलग-अलग बैंकों की सेवाओं का यूज करते हैं. लेकिन बैंक हमे सेवा देने के लिए पैसे कहां से लाते है? और वे बैंक पैसे कैसे कमाते हैं? उनकी आय के स्रोत क्या हैं? कई लोगों के मन में संदेह पैदा होता है. लेकिन दुनिया के सभी बैंकों की तरह, भारतीय बैंक भी आय के लिए अलग-अलग रणनीति अपनाते हैं। अब कुछ महत्वपूर्ण रणनीतियों के बारे में जानते हैं.

भारतीय बैंक पैसे कैसे कमाते हैं?

  1. लोन पर ब्याज- लोन पर ब्याज बैंकों के लिए आय के मुख्य स्रोतों में से एक है. पर्सनल लोन, होम या बिजनेस लोन के लेंडर बैंक को ब्याज देते हैं.
  2. निवेश- बैंक अलग-अलग प्रकार के वित्तीय साधनों जैसे सरकारी प्रतिभूतियों, बॉन्ड और शेयरों में निवेश करते हैं. बैंकों की कुल आय में आंशिक रूप से इन निवेशों के रिटर्न का योगदान होता है.
  3. सेवा शुल्क और फीस- बैंक खाता रखरखाव, एटीएम उपयोग और लेनदेन जैसी सेवाओं पर शुल्क और फीस के माध्यम से आय अर्जित करते हैं.
  4. क्रेडिट कार्ड संचालन- बैंक क्रेडिट कार्ड बकाया राशि, वार्षिक शुल्क और व्यापारी शुल्क के माध्यम से पैसा कमाते हैं.
  5. विदेशी मुद्रा संचालन- बैंक विदेशी मुद्रा संचालन करते हैं. करेंसी कन्वर्जन और अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय सेवाएं बैंकों के लिए आय के स्रोतों में से एक हैं.
  6. अंतरबैंक लोन- बैंक एक-दूसरे को पैसे उधार देते हैं। बैंकों को ऐसे अंतर-बैंक लेनदेन पर ब्याज के रूप में आय भी मिलती है.
  7. ट्रेजरी ऑपरेशन- बैंक अपने ट्रेजरी संचालन का मैनेज करते हैं. इसके हिस्से के रूप में, वे सरकारी प्रतिभूतियों, बॉन्ड, स्टॉक जैसे विभिन्न प्रकार के वित्तीय साधनों को बेचकर और खरीदकर पैसा कमाते हैं.
  8. डिजिटल बैंकिंग- वर्तमान में डिजिटल बैंकिंग का व्यापक रूप से यूज किया जाता है. बैंक ऑनलाइन सेवाओं, फिनटेक पार्टनरशिप और डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म के माध्यम से आय उत्पन्न करते हैं.

भारतीय बैंकों को कौन नियंत्रित करता है?
भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) भारत के मुद्रा बाजार और बैंकिंग नियामक के रूप में काम करता है. यह जमाकर्ताओं/जनता के हितों को ध्यान में रखते हुए बैंकिंग प्रणाली, बैंकिंग नीति, बैंकों की जांच करता है. उन्हें नियंत्रित करता है. बैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949 ने RBI को ये शक्तियां दी गई है.

हालांकि, अलग-अलग बैंकों के आकार, उनके फोकस के क्षेत्र और व्यावसायिक रणनीतियों के आधार पर आय के स्रोत अलग-अलग हो सकते हैं. बैंकों की आय के स्रोतों के बारे में जानने के लिए, आप बचत खाता, बैंक FD, लेन-देन, लोन जैसी कोई भी बैंकिंग सेवा प्राप्त करने पर बैंकों द्वारा लगाए जाने वाले शुल्क और फीस का विवरण देख सकते हैं.

ये भी पढ़ें-

ETV Bharat Logo

Copyright © 2024 Ushodaya Enterprises Pvt. Ltd., All Rights Reserved.